टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 32

 

आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ

संकलन – सुनील हांडा

अनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी

297

अंडे

मुल्ला नसरुद्दीन अंडे बेचकर गुजारा करते थे। एक दिन एक व्यक्ति उनकी दुकान पर आया और बोला - "बताओ मेरे हाथ में क्या है ?'

नसरुद्दीन बोला - "मुझे कोई सुराग दो।'

वह व्यक्ति बोला - "एक क्या, मैं तुम्हें कई सुराग दूँगा। यह अंडे के आकार का है। यह अंडे की तरह लगता है। इसका स्वाद और गंध भी अंडे की तरह है। अंदर से यह सफेद और पीला है। वैसे तो यह तरल रूप में होता है पर पकाने या गर्म करने पर ठोस जाता है। इसके अलावा, यह मुर्गी से प्राप्त होता है...........'

"हाँ में समझ गया। तुम शायद केक की बात कर रहे हो।' - मुल्ला नसरूद्दीन तपाक से बोला।

"कभी कभी ज्ञानी व्यक्ति को भी प्रत्यक्ष दिखने वाली वस्तु दिखायी नहीं पड़ती और पादरी को मसीहा दिखायी नहीं देते।'

298

क्या कुत्ता जानता है ?

मुल्ला नसरुद्दीन एक गुर्राते हुये भयंकर दिखने वाले कुत्ते से भयभीत हो रहे थे। उस कुत्ते के मालिक ने कहा - "डरो मत। क्या तुमने यह कहावत नहीं सुनी कि जो भौंकते हैं, वे काटते नहीं।'

नसरुद्दीन ने उत्तर दिया - "तुम यह कहावत जानते हो। मैं भी यह कहावत जानता हूँ। पर क्या यह कुत्ता जानता है?'

---.

50

क्या आपका जीवन इतना कीमती है कि इसे बचाया जाए?

एक बच्चा नदी में नहा रहा था. अचानक वह लहरों में फंस कर डूबने लगा. संयोग से पास से गुजर रहे मुल्ला ने उसे डूबते देखा तो तुरंत नदी में छलांग लगा कर उस डूबते बच्चे को नदी से बाहर निकाला.

जब मुल्ला जाने लगा तो बच्चे ने धन्यवाद दिया.

मुल्ला ने कहा – धन्यवाद किसलिए?

बच्चे ने कहा – आपने मेरी जान बचाई इसलिए.

मुल्ला ने जवाब दिया – बच्चे, ठीक है, जब तुम बड़े हो जाओगे तो यह सुनिश्चित जरूर करना कि तुम्हारी जिंदगी सचमुच बचाने लायक थी!

--

51

वर्तमान का सदुपयोग

एक ऋषि की मृत्यु के उपरांत उनके शिष्य गमगीन बैठे थे. उनमें से किसी का भी ज्ञान अर्जन अथवा दैनंदिनी कार्यों में मन नहीं लग रहा था.

ऋषि की मृत्यु की खबर पाकर उनके एक ऋषि मित्र आश्रम पहुँचे. उन्होंने स्वर्गीय ऋषि के शिष्यों की हालत देखी तो उनसे पूछा – तुम्हारे गुरु ने तुम्हें सर्वाधिक महत्वपूर्ण कौन सी बात सिखाई है?

सभी ने एक स्वर में कहा - वर्तमान का भरपूर सदुपयोग करो.

--

(सुनील हांडा की किताब स्टोरीज़ फ्रॉम हियर एंड देयर से साभार अनुवादित. कहानियाँ किसे पसंद नहीं हैं? कहानियाँ आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकती हैं. नित्य प्रकाशित इन कहानियों को लिंक व क्रेडिट समेत आप ई-मेल से भेज सकते हैं, समूहों, मित्रों, फ़ेसबुक इत्यादि पर पोस्ट-रीपोस्ट कर सकते हैं, या अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित कर सकते हैं.अगले अंकों में क्रमशः जारी...)

एक टिप्पणी भेजें

50वीं तो बहुत प्रेरक है। 49वीं मजेदार है।

हर मोड़ पर जीवन का मोल सिद्ध करना हो हमें।

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget