टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

झूठा कहीं का

image

 

व्यंज़ल

अचरज है ये मुद्दा नहीं है

मुद्दा है कि ये मुद्दा नहीं है.

 

जवाब सबको मालूम हैं

सवाल कोई मुद्दा नहीं है.

 

समस्या तो कुरसी की  है

यूँ और कोई मुद्दा नहीं है.

 

भूखे पेट, सड़ते अनाज

कमाल है ये मुद्दा नहीं है

 

जीतना तो है रवि को

कि कैसे, ये मुद्दा नहीं है.

---

एक टिप्पणी भेजें

यह मुद्दा अब मुर्दा हो गया है :)

मुद्दे इतने हैं कि कोई मुद्दा नहीं है...रवि जी खड़े हो गये तो जीतना तय है...बशर्ते आपके पास कोई मुद्दा न हो...

ज्‍वलंत मुद्दा.

अब ये मुद्दा नहीं है|

सवाल असली यही है।

कुछ लोगों को गड़े मुर्दों को मुद्दा बनाने में विशेषज्ञता भी हासिल है.

बहुत ही धारदार। शर्म है कि इनको आती नहीं।

सुन्दर व्यंग.

"जब तक भुना सको उसे ज़िन्दा रखे रखो,
'मुद्दे' का धर्म है कि धरम से जुड़ा रखो.
कल फिर चुनाव होना है, 'कुर्सी' की बात है,
'इतिहास' का ये सफहा हमेशा 'मुड़ा' रखो."

http://aatm-manthan.com

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget