शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

हिन्दी ब्लॉग एग्रीगेटर चिट्ठाजगत की वापसी

हिन्दी ब्लॉग संकलक चिट्ठाजगत वापस आ गया है.  पर यह अभी एक्सपेरिमेंटल रूप में ही है. पहले चिट्ठाजगत.इन इसके मोबाइल संस्करण पेज पर रीडायरेक्ट करता था, शायद अब भी पेज वही दिखा रहा हो, पर कम से कम अपने यूआरएल पर तो खुल रहा है, और फ़ीड भी भेज रहा है. नीचे स्क्रीनशॉट देखें -



यदि आपके ब्राउज़र में कचरा दिखाई दे तो व्यू मेन्यू में जाकर एनकोडिंग को यूनिकोड यूटीएफ८ पर करना न भूलें.

परिपूर्ण, परिष्कृत रूप में चिट्ठाजगत का बेसब्री से इंतजार सबको है.

15 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. सुकून देने वाली खबर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी हां, प्रतीक्षा है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इंतजार कर रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी खबर ,मगर इन संकलकों से अब विश्वास उठ गया है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी खबर ,मगर इन संकलकों से अब विश्वास उठ गया है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. @अरविंद मिश्र -
    और, शायद निर्भरता भी? :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. खबर अच्छी है लेकिन ये चालू कितने दिन रहेगा यह भी संशय है |पहले भी कई बार चालू और बंद हुआ है

    उत्तर देंहटाएं
  8. @रवि रतलामी जी

    सर आप तो कभी एग्रीगेटरों पर निर्भर रहे ही नहीं हैं, उसकी जरूरत तो हम नये ब्लोगरों को पडती है

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुल तो रहा है ,पर कुछ इस तरह से दिख रहा है -
    - कुवारी पूजन का महत्व

    उत्तर देंहटाएं
  10. @संजीव,
    अपने ब्राउजर की एनकोडिंग यूनिकोड यूटीएफ 8 में कर लें. यह आपको व्यू मेन्यू में मिलेगा. क्रोम में पेज पर राइट क्लिक करने पर यह मेन्यू प्रकट होता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. .
    .
    .
    परिपूर्ण, परिष्कृत रूप में चिट्ठाजगत का बेसब्री से इंतजार सबको है.

    सहमत हूँ आपसे...


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. रवि जी -नमस्कार -हिंदी में हम यहाँ कैसे लिखें ?? इसके नीचे कनवर्टर लगायें ..
    चिट्ठाजगत का शोध जल्द पूरा हो और हम इस से जुड़ जल्द लाभ ले सकें इसी आशा के साथ -शुभ कामनाएं
    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५

    उत्तर देंहटाएं
  13. हमें एग्रीगेटरों ने यह सिखा दिया है कि किसी पर निर्भर होने की आवश्‍यकता नहीं। :)
    ............
    ब्‍लॉगिंग को प्रोत्‍साहन चाहिए?
    लिंग से पत्‍थर उठाने का हठयोग।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---