इस मामले में, मेरा देश तो समग्र विश्व में 50 साल आगे है!

war for water

बात चाहे कावेरी के पानी को लेकर दो राज्यों के बीच युद्ध की हो या फिर अपने मुहल्ले में आधे-अधूरे टपकते सार्वजनिक नल पर पानी भरने को लेकर मारामारी की हो. अपने देश में तो पिछले कई वर्षों से नित्य युद्ध हो रहे हैं. भयंकर. मारकाट युक्त. है न अपना देश इस मामले में कहीं आगे. बहुत आगे.

--

व्यंज़ल

---

क्या हुआ जो नहीं मिलता नल का पानी

सर्वत्र सर्वसुलभ तो है बिसलेरी का पानी

 

टाइटन आई+ का डिजाइनर चश्मा पहन

लोग पूछते हैं कहाँ गया आँख का पानी

 

किसलिए जाते हो यारों किसी गंगोत्री को

अब पॉलीपैक में मिलता है गंगा का पानी

 

इन बेशर्म नदियों को बता ही दिया जाए

किसकी यमुना किसका कावेरी का पानी

 

धोने पोंछने की बातें क्यूं करते हो यारों

यहाँ तो मयस्सर नहीं है पीने का पानी

 

लोगों की देखा देखी अपने यार रवि ने भी

चढ़ा लिया है अपने ऊपर सोने का पानी

---

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

पानी गये न ऊबरे, मोती, मानुष, चून।

हा हा हा

दमदार व्यंग्य

वाह ! शानदार व्यंग्य !!

pani-pani kar diya...

इसीलिए इतराता है विष्‍णु अपने उस्‍ताद पर
व्‍यंजल पढ कर आ गया ऑंखों में पानी

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget