मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

एक जीमेल खाता जिसमें करोड़ों ईमेल हैं!

आपके जीमेल खाते में कितने ईमेल हैं? सौ? हजार? लाख?

मेरे जीमेल खाते में करोड़ों ईमेल हैं.

जी हाँ, करोड़ों. ऑफ़ीशियल.

एक समय खबर आई थी कि माइक्रोसॉफ़्ट के प्रमुख बिल गेट्स के ईमेल खाते में दुनिया में सर्वाधिक ईमेल आते हैं पर उनमें से अधिकतर स्पैम होते हैं. परंतु उनके खाते में भी करोड़ों ईमेल नहीं होते होंगे.

मगर मेरे खाते में करोड़ों ईमेल हैं.

आपको विश्वास न हो तो स्क्रीनशॉट दिखाता हूं -

1 crore gmail email

है न सही? करोड़ों ईमेल!

जब मैं अपने स्वयं के जीमेल खाते में एकत्र ईमेल में  खोज-बीन कर रहा था तो ये दिखा.

करोड़ों का - मैं चकराया. और अपने इनबाक्स पर नजर डाली -

1 crore gmail email 2

वहाँ आंकड़ा दुरुस्त था. चलिए, थोड़ा सुकून मिला. नहीं तो करोड़ों ईमेल देख कर तो मेरे हाथ-पांव फूल गए थे. करोड़ों रूपए होते तो कहीं कोई पूरा का पूरा आईलैण्ड खरीदकर वहाँ जिंदगी बिताने चला जाता. मगर करोड़ों ईमेल? कैसे मैनेज करता उन्हें मैं?

धन्यवाद गूगल. आपने अपने हिंदी प्रयोक्ताओं को करोड़पति ईमेलिया बना दिया. जब आप जीमेल के हिन्दी इंटरफेस का प्रयोग करते हैं तब ये नजर आता है. शायद ये हिन्दी अनुवाद का करोड़गुना घटिया अनुवाद है!

---

8 blogger-facebook:

  1. करोडपति होने की बधाई स्वीकारे

    दामाद बाबू

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारी ओर से भी बधाइयाँ ! ;-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. चलिए किसी न किसी बहाने गूगल ने आपको करोडपति तो बना ही दिया, बधाईयाँ रवि जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. चलिये इस से एक बात तो समझ आती है की अब आप इतने ईमेल तो अब नहीं पढ़ सकते , इसलिए अब आपके प्रशंषको को कोई और माध्यम खोजना पड़ेगा या कोई युक्ति लगानी पड़ेगी आप से बाते करने को ...जैसी मैंने इस टिप्पणी का सहारा लिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. इसमें घबराने की क्‍या बात है। कोई लूटे तो लूटने दीजिए। फिलहाल तो गर्व कीजिए कि आपकी किसी कोशिश के बिना ही आप करोडपति बन गए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. badhai sir ji, karorpati hone ki, aise nahi to vaise hi sahi

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------