टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

अंकित फ़ादिया कौन? एथिकल हैकर या नॉन-एथिकल साहित्यिक-चौर्य लेखक?

ankit fadia non ethical (Custom)

अंकित फ़ादिया को आप जानते हैं?

कितना?

आह! इंटरनेट आपको तमाम विश्व में देखते देखते मशहूर कर सकता है तो एक मिनट में आपकी मिट्टी भी पलीत कर सकता है.

अंकित फ़ादिया से बढ़िया उदाहरण और क्या हो सकता है?

अंकित फ़ादिया ने 14 वर्ष की उम्र में बेस्ट सेलर किताब लिखी थी - अनऑफ़ीशियल गाइड टू एथिकल हैकिंग.

इंटरनेट पर छपे ताजा समाचारों को मानें तो, उस किताब में 32 प्रतिशत मसाला इंटरनेट पर उपलब्ध मसालों से हूबहू टीपा गया था.

समाचार में यह भी दर्ज है - बाद में अंकित फ़ादिया और मनु जकारिया ने मिलकर एक किताब लिखी - Network Intrusion Alert: An Ethical Hacking Guide to Intrusion Detection जिसका कोई 90 प्रतिशत हिस्सा इंटरनेट पर यत्र-तत्र-सर्वत्र उपलब्ध मसालों से टीपा गया है.

नॉन-एथिकल वे टू बिकम एथिकल हैकिंग रायटर?

यह मजेदार विवरण यहाँ दर्ज हैं -

http://www.pluggd.in/ankit-fadia-ethical-hacker-297/

चैप्टर - दर - चैप्टर साहित्यिक-चौर्य कर्म का विवरण यहाँ पर दर्ज है:

पहली किताब:

http://attrition.org/errata/charlatan/ankit_fadia/unofficial.html

दूसरी किताब:

http://attrition.org/errata/charlatan/ankit_fadia/network_intrusion/

--

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

ग्यान तो सभी जगह फ़ैला है जहा से मिला समेट लिया .

ई सब यही करते हैं क्या जुकर्मैन तक ?

यह धरती वीरों से खाली नहीं है।

इसमे कोई नई बात नहीं है | लगभग सभी लोग यही करते है |

अगर ज्ञान के किसी स्रोत से आप कुछ सीख कर या उससे प्रेरित होकर उसे अपनी भाषा में लिखते हैं तो इसमें कोइ बुराई नहीं है पर अगर हुबहू किसी के काम को टीप लेना निंदनीय है... और पोग्रमिंग तथा अन्य इनोवेटिव तकनीकों के बारे में लिखते समय तो कम से कम उस व्यक्ति या स्रोत का सन्दर्भ देना चाहिए जिसने उस तकनीक को इजाद किया ..

फोन की वो अगर; मैं... नेट का 'राडिया,
नाम अंकित मैरा, कहते है 'फादिया',
'नेट' का मैं शिकारी, मैरे साथ है,
अपना ही हमवतन 'मनु ज़कारिया'.

-mansoor ali hashmi
http://aatm-manthan.com

इतना सब कौन पढे। आपका कहा मानने में अब तक कोई नुकसान नहीं हुआ। आप ठीक ही कहते हैं गुरुदेव।

this is an interesting post

इनके बारे में आज पहली बार इतना कुछ जाना। शुक्रिया।

---------
पति को वश में करने का उपाय।

बेनामी

सही है गाड़ी का प्लग निकाल कर साफ़ करके फिर से लगा लेने पर कुछ लोग अपने आप को एन्जिनियर समझने लगते है ये महाशय उन्हीं में से हैं
अपने देश में भ्रम में डालने वाले की जय जयकार है

बेनामी

net hai hi isliye janab..

बेनामी

kyo badnam kar rhe ho or koi kam nhi hi kya

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget