मंगलवार, 13 अप्रैल 2010

आइए, खोजें कि गूगल बज़ में लोग आखिर क्या बजा रहे हैं…

image

अगर आप समझते हैं कि गूगल बज़ में आप सिर्फ अपने समूह के बीच वार्तालाप कर रहे हैं तो आप गलत हैं. गूगल बज़ में आपकी बजबजाहट एक तरह से सार्वजनिक होती है (अपनी गोपनीयता सेटिंग जाँच लें!) और आमतौर पर उसे हर कोई देख-पढ़ सकता है. यहाँ तक कि सर्च इंजिनों के जरिए आपके बज़ पर खोज-खबर भी रखी जा सकती है.

अतएव, गूगल बज़ पर अपनी निजी वार्तालाप के दौरान – आपको सलाह दी जाती है कि मर्यादा बनाए रखें – कौन जाने कब आपका गुस्सैल बज़ आपके लिए आफत की पुड़िया बन जाए.

ये हैं कुछ बज़ जिन्हें गूगल रीयलटाइम खोज के जरिए खोजा गया है. जाहिर है, बज़ बड़े रोचक होते हैं, इसलिए ही समझ में आ जाता है कि जनता बजबजाने में क्यों पिली रहती है…

---

New results will appear below as they become available. PauseUpdating stopped. ResumeUpdating stopped. To resume, reload the page.

  1. धड़कते, साँस लेते, रुकते-चलते मैंने देखा है कोई तो है जिसे अपने मैं पलते मैंने देखा है ... तुम्हारी आदतों में ख़ुद को ढलते मैंने देखा है मेरी ख़ामोशियों में तैरती हैं,तेरी ... - More »

    Rupesh Gupta‎ - Google Buzz -

    258

    4 minutes ago

  2. ना मुज़्दा-ए-विसाल ना नज़ारा-ए-जमाल, मुद्दत हुई की आश्ती-ए-चश्म-ओ-गोश है!!

    Manish Agarwal‎ - Google Buzz -

    974

    16 minutes ago

  3. इस अभागे देश के सौभाग्य से आपको फिर एक बार चुनाव का टिकट मिल गया है। लगता है किसी अंधे ने फिर से रेवड़ियां बांटी हैं। आपके चुनाव-क्षेत्र के अंधे वोटरों के लिए निश्चय ही यह बड़े ... - More »
    आदरणीय प्रत्याशी जी!‎ - chhapas.com

    chhapas kumar‎ - Google Buzz -

    2220

    37 minutes ago

  4. एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यूँ है, इंकार करके भी चाहत का इकरार क्यूँ है, उसे पाना तकदीर में नहीं, फिर भी हर मोड़ पर उसका इंतज़ार क्यों है?

    Sanjay Shakya‎ - Google Buzz -

    2456

    40 minutes ago

  5. इतना महाग कैसे रे तेरे यहा, वो कोपरेका भैया तो स्वस्त देता है!! कंदा काट के, चिर के मस्त ओम्लेट बनाने का और उपर से थोडा कोथिंबिर भुरभुरानेका!! अरे बाबा गाडी सावली मे लगा! ... - More »

    Avinash Savekar‎ - Google Buzz -

    2662

    44 minutes ago

  6. गम होते हैं तो तकलीफ सभी को होती है पर मुश्किल तो तब होती है जब मुस्कुराना भी पड़ता है और गम छुपाना भी होता हैI

    Vivek Verma‎ - Google Buzz -

    2706

    45 minutes ago

और, यदि आप गूगल बज़ के बाजू में लिखे प्रोफ़ाइल पर क्लिक करेंगे तो आगे उस प्रयोक्ता के सारे के सारे बज़ आप पढ़ सकेंगे. जैसे कि 5 वें नंबर के अविनाश सावेकर पर क्लिक करने पर उनका यह मजेदार बज़ मिला :

Avinash Savekar - Buzz - Public - Muted

मराठी लोकांची हिंदी:
पहलि बार पोहने गया तो क्या हुआ मालुम?
पहिले पानी मे शिरा, फिर पोहा और बाद मे बुडा!!
घाई करो भैया नही तो बस जायेगी, और हमारी पंचाईत होयेगी!!
सरबत मे लिंबु पिळा क्या!!
इतना महाग कैसे रे तेरे यहा, वो कोपरेका भैया तो स्वस्त देता है!!
कंदा काट के, चिर के मस्त ओम्लेट बनाने का और उपर से थोडा कोथिंबिर भुरभुरानेका!!
अरे बाबा गाडी सावली मे लगा!!
ए भाय, मेदुवडा शेपरेट ला, साम्बार मे बूडा के मत लाना!!
केस एकदम बारीक कापो भैया!!
खाओ पोटभर खाओ लाजो मत!!
धावते धावते गिर्‍या तो काडकन हात का हाड मोड्या!!

Comment

Like

---

आप भी ट्राई मार सकते हैं. गूगल बज़ में सीधे खोजबीन करने की सुविधा अभी नहीं है. अलबत्ता कुछ उपाय हैं. बज़ में खोजने का एक ऑनलाइन उपाय है – बज़ी.कॉम नाम का बज़ सर्च इंजिन -

http://buzzzy.com/

 

वैसे, आप गूगल ट्रेंड http://www.google.com/trends  में जाकर वहाँ मोर हॉट टॉपिक्स पर क्लिक कर रीयल टाइम सर्च में खोज सकते हैं जिनमें गूगल बज़ (ट्विटर इत्यादि की भी,) की ताज़ातरीन पोस्टें आपको सर्च रिजल्ट के रूप में मिलेंगीं. आप चाहें तो बज़ में सीधे खोजने के लिए यहाँ - http://www.google.com/search?q=site:google.com&tbs=mbl:1 जाकर वांछित हिंदी शब्द से गूगल बज़ में खोज-बीन कर सकते हैं.

1 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. बज बजाना आसान लग रहा है इस्लिये सभी बजबजा रहे है

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---