मंगलवार, 16 फ़रवरी 2010

जागरण जंक्शन : आपकी आवाज़, आपका ब्लॉग

image

जागरण जंक्शन : एक नया ब्लॉग प्लेटफ़ॉर्म – सह स्व-एग्रीगेटर?

वैसे तो इस तरह के कई प्रकल्प पूर्व में भी कई क्षेत्रों से प्रारंभ हुए थे, मगर लगभग सभी अचर्चित ही बने रहे और जनता ब्लॉगर-वर्डप्रेस.कॉम से आगे बढ़ी नहीं. कुछ लोग वेबदुनिया ब्लॉग से जरूर जुड़े, मगर उसका इंटरफेस इतना बेतरतीब और रद्दी है कि आमतौर पर पाठकों को ब्लॉग के बजाय समाचार पठन-पाठन का सा अहसास होता है. इन सभी प्रकल्पों में – चाहे वो स्क्रेच-माई-साउल.कॉम हो या रेडिफ़-लैंड –  में इस तरह की समस्याएँ रहीं और साथ ही उपयोक्ता को अपने ब्लॉग में अपने तरीके से सजावट करने की कोई छूट नहीं होती थी जो इनके अलोकप्रिय बने रहने का बड़ा कारण भी थीं.

जागरण जंक्शन हिन्दी ब्लॉग जगत को नई दिशा देने की कूवत रखता प्रतीत होता है. यह वर्डप्रेस.कॉम जैसा, प्रयोक्ताओं को मुफ़्त ब्लॉग प्लेटफ़ॉर्म की सुविधा प्रदान कर रहा है, परंतु कुछ कम सुविधाओं के साथ.

हालांकि जागरण जंक्शन में भी ब्लॉग के रूप-रंग को आप अपने तरीके से सजा-संवार नहीं सकते हैं, मगर इसका इंटरफेस बहुत ही साफसुथरा और वेल डिजाइन्ड प्रतीत होता है. पुराने पोस्टों तथा विषयांकित अन्य पोस्टों के लिंक व टैग-क्लाउड भी बढ़िया लगाए गए हैं. नेविगेशन बहुत ही उम्दा है. पाठक एक बार यहाँ आकर निश्चित रूप से दो-चार जगह घूम फिर कर कुछ उम्दा समय बिताकर यहाँ से निकलेगा. शीर्ष में विषय-वार ब्लॉगों के टैब्स भी बड़े सोचविचार कर अच्छे लगाए गए हैं.

जागरण जंक्शन में ब्लॉग लिखने के लिए बहुत ही आसान 2 चरण की पंजीकरण प्रक्रिया है. एक बार पंजीकृत हो जाने के बाद आप धड़ाधड़ हिन्दी में पोस्टें लिख सकते हैं.

आने वाले समय में यदि जागरण जंक्शन में प्रयोगकर्ताओं को और भी सुविधाएँ – जैसे कि अपने ब्लॉग के रूप-रंग को सजाने संवारने की सुविधा मिले, उसमें स्क्रिप्ट, एचटीएमएल कोड इत्यादि लगाने की सुविधा मिले तो यह इंस्टैंट हिट हो सकता है.

वैसे, अभी ही इसमें ढेरों विषयों पर ढेरों ब्लॉग सामग्रियाँ हैं. एक नजर अवश्य मारें. और, हाँ, विष्णु त्रिपाठी के ताजा ब्लॉग (4 पोस्ट 174 टिप्पणियाँ) – लो फिर बसंत आई या आया –2 पर जरूर निगाह मारें

8 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. अच्छी जानकारी है ये तो .....आपका धन्यवाद !!
    सादर
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी जानकारी के लिए धन्यवाद जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया जानकारी।
    आपकी देखादेखी अपन ने भी बना लिया उधर

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा ।

    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानियां, नाटक मुफ्त डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर से डाउनलोड करें । इसका पता है:

    http://Kitabghar.tk

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह आपने बहुत ही सुन्दर काम किया है.बधाई.
    www.chaumasa.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिंदी में बहुत अच्छी जानकारी के लिए आपका धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---