मंगलवार, 26 जनवरी 2010

जहाँ डाल-डाल पर भ्रष्ट कोड़े करते हैं बसेरा वो भारत देश है मेरा

Mera_Bharat_Mahan-Republic_Day-206_big[1]

कल से स्पीकर पर चारों ओर से देश भक्ति पूर्ण गाने बज रहे हैं. एक गाना बारंबार बज रहा है – जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया… सुन सुन कर कोफ़्त सी होने लगी. वास्तविकता तो कुछ और है. वास्तविकता कड़वी है मेरे दोस्त. बहुत कड़वी. कुछ इस तरह -

जहाँ डाल-डाल पर भ्रष्ट कोड़े करते हैं बसेरा
वो भारत देश है मेरा
जहाँ असत्य, हिंसा और अधर्म का पग-पग लगता डेरा
वो भारत देश है मेरा

ये धरती वो जहाँ एसपीएस राठौर जैसे अधिकारियों का बोलबाला
जहाँ हर बालक एक बाल मजदूर है और हर राधा एक हाला
जहाँ देश के लुटेरे नेता सबसे पहले आ कर डाले अपना फेरा
वो भारत देश है मेरा

अलबेलों की इस धरती के व्यवहार भी हैं अलबेले
कहीं रिश्वत की जगमग है कहीं हैं भाई-भतीजावाद के मेले
जहाँ लालफीताशाही और अकर्मण्यता का चारों ओर है घेरा
वो भारत देश है मेरा

जब कटुता पैदा करते मस्जिद और शिवाले
जहाँ हर नगर में कूड़ाकरकट गंदगी धूल फैला डाले
भ्रष्टाचार की बंसी जहाँ बजाता है ये शाम सवेरा
वो भारत देश है मेरा

(राजेन्द्र किशन से क्षमायाचना सहित)

(चित्र – सौजन्य अनुज नरवाल रोहतकी)

धन्यवाद अंकुर. आपके द्वारा सुझाया वीडियो यहाँ एम्बेड कर दिया है :

13 blogger-facebook:

  1. यथार्थ को चित्रित करती पैरोडी...।
    मात्र अफ़सोस करने के बजाय अपने हिस्से की जिम्मेदारी उठाना श्रेयस्कर है।

    शुभ गणतंत्र...।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक मेरी ओर से http://www.youtube.com/watch?v=svpvzHn8-oE

    उत्तर देंहटाएं
  3. भारत गणतंत्र है वह जैसा भी है उसके लिए हम सब जिम्मेदार है. आपकी पैरोड़ी बहुत अच्छी-सुन्दर है. ज्यादा क्या कहूँ? जय-हिन्द.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज समाधान जोड़ने वाला, शिकायत के मूड में है

    चलिए हम अपना काम करते हैं, आखिर हमारा समाधान तो वही है

    शफी माथर जी का सुझाव भी देखते हैं
    http://www.ted.com/talks/lang/eng/shaffi_mather_a_new_way_to_fight_corruption.html

    टेड मिलर की टिप्पणी जरूर देखिएगा।
    नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओ मेरे प्यारे कलमकार साथी !
    व्यंग्यकार बडे-बडे खतरे उठा कर असंगति- विसंगतिओं, पाखंडियों और ढोंगियॊं से जमकर लोहा लेता है। पर्दे के पीछे चल रही उनकी काली करतूतों को समाज के सामने रख कर उन्हें नंगा करता है । उसका काम समाज के सामने रिरियाता नहीं है अपितु उसका हौसला बढाना है। व्यंग्यकार का कार्य बडे कौशल और सुझबूझ का होता है। यह साधारण कार्य नहीं, आपितु असाधारण कार्य है। आपने इस दिशा में कदम बढाया है तो वह साहस भी रखिए।
    सद्भावी- डा0 डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओ मेरे प्यारे कलमकार साथी !
    व्यंग्यकार बडे-बडे खतरे उठा कर असंगति- विसंगतिओं, पाखंडियों और ढोंगियॊं से जमकर लोहा लेता है। पर्दे के पीछे चल रही उनकी काली करतूतों को समाज के सामने रख कर उन्हें नंगा करता है । उसका काम समाज के सामने रिरियाता नहीं है अपितु उसका हौसला बढाना है। व्यंग्यकार का कार्य बडे कौशल और सुझबूझ का होता है। यह साधारण कार्य नहीं, आपितु असाधारण कार्य है। आपने इस दिशा में कदम बढाया है तो वह साहस भी रखिए।
    सद्भावी- डा0 डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  7. निर्मम सत्य बंधू ,निर्मम सत्य !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सही कह रहे हैं 26 जनवरी अपनी गरिमा खो रहा है, विडियो अच्छा लगा, जल्द ही रण देखी जायेगी

    उत्तर देंहटाएं
  9. Acha vaygay hai....

    par hum sab ko hi prayas karna hoga apne desh ko acha banane ka...usko uper uthane ka...

    or main yahi aasha karta hun chamkega humara hindustan

    Read my poem: Chamkega Humara Hindustan.. in my blog

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------