शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

एवरीथिंग – फ़ास्ट एंड फ़्यूरियस सर्च अब हिन्दी में!

वैसे तो आपके कम्प्यूटर पर हजारों लाखों की तादाद में जमा हिन्दी सामग्री व हिन्दी नामधारी फ़ाइलों को खोज-बीन कर ढूंढ निकालने के लिए बहुत ...

गुरुवार, 23 जुलाई 2009

लिनक्स पॉकेट गाइड हिन्दी में पढ़ें / डाउनलोड करें बिलकुल मुफ़्त

लिनक्स पॉकेट गाइड को हिन्दी में अब आप पूरा का पूरा यहीं ई-पेपर पर पढ़ सकते हैं या फिर पूरी पीडीएफ़ ई-बुक डाउनलोड कर सकते हैं वह भी बिलकुल म...

मंगलवार, 21 जुलाई 2009

हरे राम! हरे कृष्ण!!

  10 हजार वाट के साउन्ड सिस्टम, जिसके कि कई पोंगे बेदर्दी से फट चुके हैं पर पड़ोस में 72 घंटे का अखंड भगवन्नाम का पाठ चल रहा है. ग्रहण के ...

सोमवार, 20 जुलाई 2009

लीजिए डाउनलोड एस्सेलरेटर का मजा हिन्दी में

यदि आप इंटरनेट से कुछ न कुछ डाउनलोड करते रहते हैं तो ऐसे में डाउनलोड प्रबंधक आपके लिए बेहद काम के रहते हैं क्योंकि ये न सिर्फ आपके डाउनलोड ग...

बुधवार, 15 जुलाई 2009

इंटरनेट बुराइयों की जड़ है...

मैं अपने पुराने दिनों को याद नहीं करना चाहता। तब इंटरनेट नहीं था, ईमेल नहीं था (और न ही पॉर्न साइटें थीं)। आज के शोध छात्रों के विपरीत, मुझे...

सोमवार, 13 जुलाई 2009

सौजन्य बाब.ला - अभिवादन का नया तरीका – धन्यवाद, निंदापूर्ण, मेनका।

इंटरनेट पर हिन्दी अपने पैर जहाँ तहाँ पसार रही है. इसका एक अच्छा उदाहरण है बहुभाषी पोर्टल बाब.ला. इसमें हिन्दी अनुवाद, शब्दकोश इत्यादि दिए ...

रविवार, 12 जुलाई 2009

एचपी कॉम्पैक लैपटॉप / नोटबुक – टोटल फेलुअर?

एचपी / कॉम्पैक का लोगो कितना सुंदर और प्यारा सा है – एचपी-टोटल केयर. परंतु काम सीधे इसके उलट है. टोटल फेलुअर. इसलिए, दोस्तों एचपी कॉम्पैक...

बुधवार, 8 जुलाई 2009

आइए, लिनक्स सीखें हिन्दी में...

जब हिन्दी ब्लॉगिंग की कट-पेस्ट किताब छप कर आई तो विचार आया कि क्यों न इसी स्टाइल में हिन्दी लिनक्स सिखाने की किताब लिख दी जाए. वैसे भी लि...

मंगलवार, 7 जुलाई 2009

पतलून पहन कर आज ऐसा क्यों लग रहा है कि मैं और नंगा हो गया हूं…

    इससे जोरदार, इससे शानदार और इससे नया-नायाब विचार और क्या हो सकता है भला? न रहेगा बांस न बनेगी बांसुरी और न फिर कोई इसे बजा पाएगा! भ...

शुक्रवार, 3 जुलाई 2009

राष्ट्रीय ब्लॉग संगोष्ठी : छपास पीड़ा का इलाज मात्र हैं ब्लॉग?

क्या ब्लॉग सिर्फ और सिर्फ छपास पीड़ा को जड़ से मारने का इलाज मात्र है या फिर इंटरनेट का यह मल्टीमीडिया युक्त सुगम सरल प्रकाशन सुविधा भविष...

गुरुवार, 2 जुलाई 2009

पैसे के लिए कुछ भी करेगा?

मंदी की मार में, आदमी तो आदमी, लगता है कंपनियाँ भी पैसे के लिए कुछ भी करने को तैयार हो गई हैं. विश्व की नं #1 पैसा-लेन-देन वाली कंपनी पेप...

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---