मैं गरीब हूँ, बहुत गरीब

clip_image002

अब तक तो घरों के सामने नाम-पट्ट टंगता था, घरों के नाम या उसका अता-पता – गली, मोहल्ले, मकान का नंबर इत्यादि टंगता था. अब आदमी की अमीरी-गरीबी टंगा करेगी.

यदि आप गरीब हैं, तो अब आपको अपने घर पर लिख कर ये टाँगना पड़ेगा – ‘मैं गरीब हूं’.

अभी तो ‘मैं गरीब हूं’ टंग रहा है. कल को मैं महा-गरीब हूँ, मैं महा-महा गरीब हूं, मैं बिलकुल फटीचर हूँ इत्यादि टंगने के फरमान आएंगे. आखिर सरकार गरीबों को कैसे पहचान पाएगी कि वो गरीब है जब तक कि उसके घर में ये टंगा, लिखा न मिले कि वो गरीब है. बहुत पहले खबर आई थी कि किसी जनप्रतिनिधि के पास बीपीएल कार्ड था. बीपीएल यानी बिलो पावर्टी लाइन. यानी गरीब से भी नीचे. इसके लिए कोई खालिस शब्द भी नहीं है. अपना शब्द भंडार भी इस मामले में कंगाल है. ऐसे लोगों के घरों पर क्या लिखा जाएगा? फिर, जल्द ही इसके उलट, ‘मैं अमीर हूं’, या ‘मैं महा अमीर हूं’, या फिर ‘मैं भारत का या दुनिया का सबसे अमीर हूं’ यह भी टंगने लगेगा. वैसे, अप्रत्यक्ष रूप से तो यह टंगने भी लगा है.

और, गरीबी की परिभाषा, उसका लेवल क्या है? मैं अपनी बात करूं तो मैं अंबानीज़, टाटाज़ के सामने तो महागरीब, महा फटीचर हूं. तो क्या मैं अपने घर के सामने ये लिख मारूं कि मैं तो फलां फलां व्यक्ति की तुलना में तो महा-महा गरीब हूं. या फिर गरीब वो है जिसे दो जून की रोटी मयस्सर नहीं है? तो क्या वो अपने मकान के सामने लिख कर बैठा रहेगा कि भई, मैं तो भूखे मर रहा हूं?

मप्र सरकार गरीबों के घरों के सामने यह लिखवा कर टंगवा रही है – “मैं गरीब हूं.” यह तो वैसी ही बात हुई जैसे कि किसी फ़िल्म में अमिताभ बच्चन के हाथों पर “मैं चोर हूँ” गुदवा दिया गया था.

गरीब होना कोई अपराध है? क्या गरीबी ऐसी समस्या है जिससे कभी छुटकारा नहीं पाया जा सकता? क्या गरीब को अपनी गरीबी क्या इस तरह सरेआम घोषित करते रहनी पड़ेगी? उसे सरेआम गरीबी का तमगा लगाकर घूमते रहना पड़ेगा?

हमारी वैचारिक गरीबी की पराकाष्ठा नहीं है ये? मैं सचमुच अपने आपको बहुत, बहुत गरीब महसूस करने लगा हूं.

---.

व्यंज़ल

----

पूछते हो कि क्यों मैं गरीब हूँ

तेरे राज में जानम मैं गरीब हूँ

 

दर्द का अहसास है न भूख का

सबब बस ये है कि मैं गरीब हूँ

 

मेरी तो समस्या है बड़ी अजीब

सोने के ढेर पे बैठा मैं गरीब हूँ

 

अमीरों के इस भीषण शहर में

मुझे तो फख्र है कि मैं गरीब हूँ

 

टाँग दी गई तख्ती रवि पर भी

सबने मान लिया है मैं गरीब हूँ

---

टिप्पणियाँ

  1. जिस के रहने को घर नहीं है उस के लिए कहाँ लिखा जाएगा?

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस पोस्ट को पढ़ने के बाद मैं भी एकाएक गरीब महसूस करने लगा हूँ। शब्दों का अकाल जो पड़ गया है आपकी प्रशंसा के लिए। बस ‘वाह-वाह’ से काम चलाता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरकार को अपने कागजादों पर सबसे ऊपर छपवाना चाहिए, हम दिमागी तौर पर गरीब है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अमीरों के इस भीषण शहर में

    मुझे तो फख्र है कि मैं गरीब हूँ

    badhiyaa lagi ye panktiyan

    उत्तर देंहटाएं
  5. हां सवाल ये भी है ही कि जो सडक स्टेशन या कहीं और गुज़र कर रहा हो, उसका क्या होगा?

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या ज़रूरी है जो दिल में है, जुबां पर आए
    ये ज़माना नहीं इतना भी खरा होने का।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब। वैसे सरकारें भी नये-नये शगूफ़े उछालती रहती हैं।

    अभी कुछ दिन पहले से नीतीश कुमार भी महादलित और महापिछड़ा की टेर लगा रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस तरह की खबरें गरीबी के पुख्‍ता सबूत हैं । किस तरह की ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्‍योंकि बीपीएल की सूची में अमीरों के नाम जुड़ चुके हैं और प्रदेश सरकार इसे ठीक नहीं करवा पा रहे है सो य‍ह नई कवायद शुरू की जाएगी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. Me to gareeb nahi hoon..kyuki log soch se gareeb hote hain...jisko aage badne kee chah ho or kabeeliyat ho to gareebi kabhi samne nahi aati...samjhe aap sab log.


    Sandhya

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें