गुरुवार, 27 अगस्त 2009

आइए, अपन भी खारिज करें चारसौबीस को

four twenty 420

चार सौ बीस की संख्या से कौन सबसे ज्यादा भय खाता है? चार सौ बीस के अंक से सबसे ज्यादा आतंकित कौन रहता है? चार सौ बीस का आंकड़ा दिन रात जागते सोते उठते बैठते किसे सबसे ज्यादा परेशान करता है?

जाहिर है, भारतीय नेताओं को. इसीलिए, आखिरकार लोकसभा में चार सौ बीस नंबर की कुर्सी ही ग़ायब कर दी गई. लोक सभा में कुर्सियों के नंबर सिस्टम से चार सौ बीस की संख्या ही निकाल बाहर कर दी गई. चारसौबीस नंबर की कुर्सी को चारसौउन्नीस ए कर दिया गया है. फिर अगले नंबर की कुर्सी का क्रमांक चारसौ इक्कीस है. राज्य सभा और दीगर राज्यों की विधान सभाओं में भी आगे यही हाल होने वाला है लगता है. फिर दीगर सरकारी कार्यालयों, भवन, सड़क इत्यादि का नंबर जल्द ही आ जाएगा.

अब ये तो मामला एक माँद में दो तलवार या एक पिंजरे में दो शेर जैसा लगता है. या तो जनप्रतिनिधि चारसौबीस रहे या उसकी कुर्सी का नंबर. अब जबकि जग जाहिर है, दुनिया भर के जनप्रतिनिधियों का चारसौबीसी से चोलीदामन का साथ है, तो उनकी कुर्सी कैसे चारसौबीस हो सकती है भला? फिर, अंधे को अंधा कहना किसे अच्छा लगता है?

अब यह नंबर हम सबको – जनता को भी खारिज कर देना चाहिए. वाहन का नंबर, सड़क का नंबर, मकान-प्लाट का नंबर यदि चारसौबीस होता है तो उसे बदल कर चारसौउन्नीस ए कर देना चाहिए. देश के जन प्रतिनिधि जब चारसौबीस की संख्या पचा नहीं पा रहे हैं, उसे खारिज कर रहे हैं, तो जैसी राजा वैसी प्रजा के लिहाज से हम सभी को चारसौबीस का अंक अपने परिवेश से मिटा देना चाहिए. चारसौबीसी भले रहे, फूले फले, मगर चारसौबीस नहीं.

जब हम चारसौबीस के अंक को अपने परिवेश से बाहर कर रहे हैं तो फिर पहली कक्षा के विद्यार्थी को पहाड़े और गिनती में चारसौबीस क्यों पढ़ाया जा रहा है भला? सिब्बल के लिए एक और एजेंडा आ गया है. छात्रों की गिनती की पढ़ाई में से चारसौबीस के अंक को गायब करना. नहीं तो होगा ये कि विद्यार्थी जब पढ़कर बाहर निकलेगा, सिनेमा की सीट पर या नोट के नंबर पर चार सौ उन्नीस के बाद देखेगा कि उसका पढ़ा लिखा चारसौबीस तो कहीं है ही नहीं तो फिर वो अपनी पढ़ाई को बेकार समझेगा या फिर अपने गुरुओं को गाली देगा कि उन्होंने चारसौबीस तो पढ़ा दिया, मगर चारसौउन्नीस करने की चारसौबीसी नहीं सिखाई.

संसद से शुरूआत हो ही गई है. आइए हम भी खारिज करें चारसौबीस को. आपका ब्लॉग पोस्ट, लिखी-मिली टिप्पणी इत्यादि की संख्या चारसौबीस न रहे ये ध्यान रखें!

---

व्यंज़ल


कैसे बताएँ कौन है 420

नजर आते हैं सभी 420


संसद के लंगोटिया यार

एक दूजे को कहते 420


इश्क में इबादत में भी

अब तो चहुँ ओर हैं 420


एक बंदा गया जल्द ही

क्योंकि वो नहीं था 420


रवि आया तो था शरीफ़

वक्त ने बना दिया 420

---

10 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. मजेदार है। कुर्सी के नंबर से क्या फर्क पड़ता है, यदि बैठने वाले सभी ४२० ही हों

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे रवि भैया चार सौ बीसवीं टिप्‍पणी मेरी समझिए इस पोस्‍ट पर ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद ये कानून की एक धारा है और ये नंबर लिखना कानून का उल्लंघन है हहहः to jail hogi hee

    उत्तर देंहटाएं
  4. लोकसभा व विधानसभा में 420 नम्बर की एक कुर्सी हटाने से क्या फर्क पड़ेगा ..लगभग सारी कुर्सियों पर यही नम्बर तो लिखा है ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. राजकपूर साहब ने तो बड़े अदब से एक फिल्म बनायी थी... श्री४२०

    बहुत शानदार थी फिल्म। आपकी पोस्ट भी कुछ कम नहीं। आनन्द आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह रे ४२० का गणित।इसी के साथ गणित हो गयी। बेहतर। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सरकार इतने रचनात्मक काम कर रही है फिर भी आप असंतुष्ट रहते हो...


    यह टिप्पणी क्रमांक 420 है...शायद पोस्ट भी.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. संसद इन नेताओं के बाप की है। तभी तो अपनी सुविधा के मुताबिक गणित की संख्‍या पद्धति भी पुनर्निर्धारित कर रहे हैं। खैर, हम यह भी सोच रहे हैं कि गहराई किसमें ज्‍यादा है - आपके लेखन में या इन नेताओं की मक्‍कारी में :)

    देसी एडीटर
    खेती-बाड़ी

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमारे कॉलेज में जिस छात्र का रोल नंबर 420 होता है वो बिचारा तो क्लास में सदा उपस्थित होने के बावजूद अपना नाम डिफ़ाल्टर लिस्ट में पाता है क्युं कि वो येस सर बोलता ही नहीं और एबसेंट मार्क होता रहता है…। अब हम उसका रोल नं 420 न बुला कर फ़ोर टू जीरो बुलाते हैं …।:)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिलकुल सही कहा आपने,
    एक म्यान में दो तलवारें कैसे रखी जा सकती हैं. अब या तो ४२० नंबर की कुर्सी ही हो संसद में या फिर ४२० फिदरत वाले इंसान ही.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---