बुधवार, 11 जून 2008

जै बजरंगबली!

barak obama and indian monkey god hanuman

अमरीकी राष्ट्रपति उम्मीदवार बराक ओबामा अपने चुनाव अभियान के दौरान भले ही महज एक सौभाग्य प्रतीक के नाम से इंडियन मंकी गॉड को लिए फिरते रहे हों, यहाँ अपने भारत में भगवान् बजरंगबली बाकायदा एक इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रमुख पद पर विराजमान हैं.

lord hanuman heads engineering collage

आज मैं पढ़ता होता तो, निश्चित रूप से उस कॉलेज में दाखिला लेता. पढ़ाई की जगह सुबह-शाम हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ता और परीक्षा के पर्चे लिखकर आता. भगवान भक्त की भक्ति को भला कैसे नकारते. और वे निश्चित रूप से मुझे पहले नंबर, गोल्ड मैडल से पास करते.

वैसे तो भक्त और भगवान का यह किस्सा लंबा हो सकता है, परंतु मामला आस्था और विश्वासों का है, सो कहीं किसी एंगल से किसी को ठेस न पहुँच जाए, तो आइए, मामला यहीं रफा दफा करते हैं और एक व्यंज़ल-आरती गाते हैं -

-----

व्यंज़ल

-----

ओबामा हो या हिलाड़ी हे बजरंगबली

सबकी नैया पार लगाओ हे बजरंगबली

 

तेरा तुझीको अर्पण यहाँ क्या है मेरा

पद प्रतिष्ठा सभी तुम्हारे हे बजरंगबली

 

कुछ करूं न करूं सब तेरी ही लीला

बैठे ठाले सबकुछ दे दो हे बजरंगबली

 

मैं निसहाय आजन्म पापी खल कामी

पाप हरो हर बार मेरे हे बजरंगबली

 

हिन्दी ब्लॉग जगत् का #1 नंबर का

बना दो मेरे चिट्ठे को हे बजरंगबली

------.

(चित्र – साभार सीपिया म्यूटिनी तथा टाइम्स ऑफ़ इंडिया)

8 blogger-facebook:

  1. आपका "व्यंज़ल" पढके बहुत मज़ा आया और शुक्रिया ये ख‌़बर सुनाने का।

    http://shuaib.in/chittha

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका चिट्ठा तो वैसे भी बड़ा काम का और नम्बर वन है.


    नहीं कोई माने तो "जय बजरंगबली". :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बजरंगबली रिपब्लिकन पार्टी ज्वाइन कर लें, तब! :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप तो पहले से ही नम्बर १ हैं, अब बजरंग बली क्या करें.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये चिठ्ठा तो पहले ही रवि जी की कृपा से नंबर वन हो चमक रहा है अब बजरंग बलि क्या करेगें…। व्यंजल मजेदार है मच्छर चालिसा और मजेदार था। हिलैरी को इंडियन एलीफ़ैंट गॉड रखना चाहिए था बजरंग बलि के तोड़ के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी व्यंग्य रस से सराबोर गजल मन को भायी। स्वीकारें बन्धुवर मेरी छोटी सी बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------