टॉम क्रूज़ जैसी शख्सियत लाऊं तो लाऊं कैसे?


पर, मेरे जैसे औसत दिखने वाले, एवरेज लुकिंग लोगों के लिए खुशी की बात ये है कि हम टॉम क्रूज जैसे सुंदर, हैंडसम लोगों की तुलना में कहीं ज्यादा भरोसेमंद होते हैं. और, ये पुख्ता बात मैं नहीं, एक सर्वेक्षण का परिणाम कह रहा है.

वैसे तो सभी की चाहत होती है, सुंदर, हैंडसम दिखने की. युगों युगों से तमाम तरह के उपाय किये जाते रहे हैं अपने आप को सुंदर दिखाने के लिए. इसमें जहाँ प्रकृति भी जेनेटिक रूप से सहयोग देती रही है तो कृत्रिम रूप से सुंदर दिखने हेतु कपड़े, गहने, सौंदर्य-प्रसाधन, ब्यूटी पॉर्लर, सौंदर्य-शल्य-चिकित्सा इत्यादि के बाजार भी दिनों दिन बढ़ते जा रहे हैं और फल फूल रहे हैं. परंतु सुंदर दिखने की इस कोशिश में लोग अपनी क्रेडिबिलिटी, दूसरों का भरोसा तो नहीं खो रहे? सर्वेक्षण के नतीजों से लगता तो ऐसा ही है.

यह सर्वेक्षण आपकी सोच में भारी बदलाव ला सकता है. अब आप किसी अत्यंत खूबसूरत, अतिसुंदर व्यक्ति को देखेंगे तो आपके मन में उसके प्रति भरोसे का कोई भाव नहीं उभरेगा. साधारण सुंदर व्यक्ति पर आप साधारण रूप से भरोसा कर सकेंगे और जहाँ भी आपको मेरे जैसे औसत दिखने वाले लोग मिलेंगे, उन पर आप पूरा भरोसा कर सकेंगे.

तो, क्या अब हमें अपने क्रीम, पाउडर, लोशन, जेल, शेविंग-एपिलेटर मशीन, शैम्पू, कंडीशनर, नेल-एनॉमल इत्यादि... इत्यादि... को कूड़ेदान में फेंक देना चाहिए?

अगर आप मुझसे पूछेंगे तो मेरा उत्तर होगा – भरोसा गया भाड़ में, भई, मैं तो सदा सर्वदा सुंदर, हैंडसम दिखते रहना चाहूंगा. और, जब आपने यह पूछ ही लिया है, तो याद आया, मेरा एएक्सई कोलोन खत्म हो गया है, अभी जाता हूँ बाजार, यही कोई दर्जन भर खरीद लाने!

(समाचार कतरन – साभार टाइम्स ऑफ़ इंडिया)

----

व्यंज़ल

----.

खुद को यकीन हो वो भरोसा कहां से लाऊं


गर कोई बेच रहा है तो भरोसा वहां से लाऊं

खुद को यकीन हो वो भरोसा कहां से लाऊं


इस जहान में तो मिट गया है नामोनिशान

कहीं और मिलता हो तो भरोसा वहां से लाऊं


उनने कहा मुहब्बत में न सही तो रकीबी में

जहाँ भी मिलता हो वो भरोसा वहां से लाऊं


द्वेष की दीवारों को तोड़ने के संसाधन तो हैं

उनके उपयोग का तो भरोसा कहां से लाऊं


चेहरों पे चेहरे नहीं होते हैं दोस्तों के रवि

जानता तो हूँ मगर वो भरोसा कहां से लाऊं

-----.

एक टिप्पणी भेजें

टॉम क्रूज बनने के बाद मुझे भी उपाय बताईयेगा.. मुझे भी बनना है.. :D

अब टॉम क्रूज का जमाना गया ब्राड पिट ओर जॉन अब्राहम का जमाना है.....ऋतिक भी होट है....

किसी दूसरे जैसा बनने की कोशिश में
अपना खांटीपन अलोपित तो न हो जाये ?

आप हिंदी ब्लागिंग के टॉम हैं।

सर्वेक्षण ये भी कहते हैं कि बहुत ज्यादा सुंदर स्त्रियों पर भी मर्द भरोसा नहीं कर पाते और इसी लिए बहुत ज्यादा सुंदर स्त्री का वैवाहिक जीवन अक्सर सुखी नहीं होता।

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget