गुरुवार, 24 अप्रैल 2008

भास्कर के ब्लॉग यायावरी में रेडियोवाणी की जमकर, जबर्दस्त दस्तक

(चित्र को पढ़ने लायक बड़े आकार में देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें)

दैनिक हिन्दुस्तान में कल सस्ता शेर की बड़ी मंहगी चर्चा हुई. इधर भास्कर इंदौर के साप्ताहिक पेशकश दस्तक के नियमित स्तंभ ब्लॉग यायावरी में यूनुस खान के रेडियोवाणी के बारे में विस्तार से लिखा गया है. यह आलेख भास्कर के ई-पेपर के इंदौर संस्करण के आज के अंक में पृष्ठ 9 पर भी उपलब्ध है.
इससे पहले यूनुस खान का अपने ब्लॉग रेडियोवाणी पर शमशाद बेगम पर लिखा आलेख इस गुजरे शनिवार के नवरंग में प्रकाशित हुआ था. प्रसंगवश, इसी गुजरे हफ़्ते रविवार को रसरंग में रचनाकार में पूर्व प्रकाशित संजय सेन सागर की कविता भी प्रकाशित हुई है.


मुख्यधारा की मीडिया में चिट्ठों की चर्चाएं व सामग्री का पुनर्प्रकाशन - आई एम लविंग इट!

4 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. यूनुस भाई को बधाई! खबर बांटने का शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमें भी मजा आ रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा है भई। ब्लॉगों की जितनी चर्चा हो उतना अच्छा है। अब तो चिट्ठाकारों को भी वैब साइटों पर लिखने के अच्छे अनुबंध मिल रहे है। सही है, ये एक अच्छा पड़ाव (Milestone) है, लेकिन मंजिल अभी दूर है।

    आईएम लविंग इट टू, थ्री, फोर, फाइव.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. "...अब तो चिट्ठाकारों को भी वैब साइटों पर लिखने के अच्छे अनुबंध मिल रहे है..."

    सही कहा. एक आकर्षक प्रस्ताव मुझे भी मिला था, परंतु कॉपीराइट की समस्या से बात आगे नहीं बढ़ी :(

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---