बुधवार, 19 मार्च 2008

सिर्फ 2000 शब्दों की ही तो बात है बाबा!


हिन्दी ब्लॉगों में वर्तनी की ग़लतियों के लिए गाहे-बगाहे नुक्ता चीनी होती रही हैं. इसके लिए सबसे बड़ा कारण है, हर प्लेटफ़ॉर्म पर चल सकने वाले हिन्दी वर्तनी जांचक प्रोग्राम की घोर अनुपलब्धता.

मुक्त स्रोत के आस्पैल में हिन्दी वर्तनी जांच की सुविधा उपलब्ध तो है, परंतु वो अभी आधी अधूरी है और स्वयं गलतियों से भरपूर है. अतः इसका कोई अर्थ नहीं है. इसमें अभी कोई अस्सी हजार शब्द हैं, जिन्हें कई स्रोतों से एकत्र किया गया है – बहुधा स्वचालित तरीके से. वर्तनी जांच हेतु पूर्व में एक प्रयास हो चुका है, जिसमें चिट्ठाकार समूह से जुड़े कुछ सदस्यों ने सक्रिय रूप से भूमिका निभाई थी, परंतु वह कार्य अधूरा ही रह गया था. हंसपैल में उपलब्ध हिन्दी वर्तनीजांचक भी मात्र पंद्रह हजार हिन्दी शब्दों का है, जो बहुत काम का नहीं है.

इन अस्सी हजार शब्दों की वर्तनी की जांच की जानी आवश्यक है ताकि आस्पैल हिन्दी वर्तनी जांचक भी स्वयं परिपूर्ण हो सके. आस्पैल हिन्दी वर्तनी जांचक का ओपनऑफ़िस प्लगइन अप्रैल 2008 में जारी किया जाना प्रस्तावित है तथा इसी समय फ़ॉयरफ़ॉक्स व विंडोज के लिए भी इसका इंस्टालर बनाया जाना प्रस्तावित है. जिससे यह लिनक्स व विंडोज में ओपनऑफ़िस व अन्य अनुप्रयोगों में उपलब्ध हो सकेगा.

इन अस्सी हजार शब्दों को कोई 40 फ़ाइलों में, प्रत्येक लगभग 2000 शब्दों में बांटा गया है. आपसे अनुरोध है कि आप इनमें से कोई फ़ाइल चुन लें व उसकी वर्तनी ठीक कर दें. फिर कोई अन्य फ़ाइल, जिसकी वर्तनी किसी अन्य ने जांची है, उसका रीव्यू कर दें. इस कार्य के लिए कोई तीन हफ़्ते का समय है. इस बीच यह कार्य हो जाए तो वास्तव में यह एक वृहत, लंबे समय से लंबित कार्य न सिर्फ सम्पन्न होगा, हम सभी के फ़ायदों के लिए मुक्त स्रोत में हमेशा, हर किसी के प्रयोग के लिए उपलब्ध रहेगा. मुक्त स्रोत के कार्य सामुदायिक सहयोग से ही होते हैं व संभव होते हैं. आपके अनुदान व सहयोग के बिना, शायद ये कभी संभव नहीं हो पाएगा.

फ़ाइल में संपादन संशोधन के लिए विस्तृत विवरण यहाँ दर्ज है.

अपने हिस्से की फ़ाइल यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं.

वहां पर ये जरूर दर्ज करें कि आप कौन सी फ़ाइल जांच रहे हैं, ताकि दोहरे कार्यों से बचा जा सके. आपको इसके लिए पंजीकृत होना होगा जो कि बहुत आसान है. यदि ये झंझटिया लगता है तो बताएं, आपका नाम दर्ज कर फ़ाइल आपको भेज दी जाएगी.

फ़ाइल यूनिकोड हिन्दी टैक्स्ट रूप में है जिसे आप वर्ड या नोटपैड इत्यादि में खोलकर संपादित कर सकते हैं.

वर्तनी जांच के पश्चात् फ़ाइल को मुझे या जी करूणाकर karunakar AT indlinux.org पर भेज सकते हैं.

यदि कोई समस्या, सुझाव हैं तो टिप्पणियों में दर्ज कर सकते हैं या मुझे या जी करूणाकर को अलग से ईमेल कर सकते हैं.

तो, आपके लिए सिर्फ 2000 शब्दों की ही तो बात है. किसी सप्ताहांत को थोड़ा सा फुरसत निकालिए और इस कार्य को कर ही डालिए. वर्तनी की गलतियों सहित चिट्ठों को पढ़ने से मुक्ति की दिशा में शायद ये एक और ठोस कदम होगा... जिसमें जाहिर है, आपकी भी भागीदारी रहेगी.

आपके प्रयासों के लिए आप सभी को अग्रिम धन्यवाद.

7 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. मैं ब्‍लाग में नया आया हूं आपका प्रस्‍ताव क्रांतिकारी है। देखिये मुझसे क्‍या हो पाता है, कोशिश तो करूंगा ही।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रवि जी, मिलते-जुलते और शब्द क्यों नहीं जोड़े जा सकते हैं?
    मुझे रजिस्ट्रेशन लिंक भी नहीं मिली!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बलबिन्दर जी, आपको सबसे ऊपर लॉगिन क़ड़ी दिखाई देगी. वही है. यदि समस्या आ रही हो तो कृपया फ़ाइल संख्या बताएं, मैं आपको भेजता हूँ तथा आपका नाम वहां दर्ज करता हूँ. नए शब्द जाहिर है बनाए जा सकते हैं.व जोड़ो जा सकते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं वर्तनी शुद्धता के लिए हिन्दी राइटर पर निर्भर रहता हूँ, अच्छा कार्य करता है. गुगल सहित कोई भी वर्तनी जाँचक सही नहीं है. कमप्यूटर के लिए ही पाँच वर्तनियाँ दिखायी देती है.


    मैं इस मामले में कमजोर हूँ, आपका काम ही बढ़ेगा. काश मैं कर पाता.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस पोस्ट को पढ़कर निश्चय किया है कि अशुद्ध वर्तनी
    को शुद्ध करने की कोशिश में हमें भी शामिल होना चाहिए.
    सो नाम रजिस्टर्ड कर लिया है.

    -- ईमेल से मीनाक्षी जी

    प्रतापगढ़ी जी, धन्यवाद. संजय बेंगाणी जी, धन्यवाद, उम्मीद है हमारे और चिट्ठाकार साथी जिनकी वर्तनी अच्छी है, इस कार्य में हाथ बटाएंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्यवाद रवि जी, पंजीकृत भी हो गया हूँ, फाइल भी ले ली है। उम्मीद है, कुछ अच्छा कर लूंगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. http://saraswaticlasses.net/wiki/index.php5

    मै मराठी भाषा के लिऍ ऍसाही कुछ कर रहा हूं ।
    आशा है लोगोंका सहयोग मिलेगा।
    शंतनू ओक
    http://shabdasampada.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---