बुधवार, 28 नवंबर 2007

सबसे भ्रष्ट...

india ka sabse bada bhrast officer

उत्तर प्रदेश आईएएस अफसरों के यूनियन के नए, चुने गए अध्यक्ष वही हैं, जिन्हें पूर्व में साथी आईएएस अफसरों ने सर्वाधिक भ्रष्ट अफसर के रूप में चुना था.

चुनावों के हालिया रूपरंग से – चाहे वे लोकसभा-विधानसभा के हों या किसी कॉलेज छात्रसंघ के या फिर आईएएस अफसरों के यूनियन के – कोई भी आसानी से अंदाजा लगा सकता है कि कौन जीतेगा.

जीतेगा वही, जो सबसे बड़ा .... होगा.

 

व्यंज़ल
--------


मैंने तो सारे काम किए थे भ्रष्ट
जाने कैसे समझा नहीं गया भ्रष्ट

कौन सा ये गुनाह किया है मैंने
मेरी नजर में पूरी दुनिया है भ्रष्ट

इस दौर का ये नियम है नया
मरता है ईमानदार जिंदा है भ्रष्ट

किसकी इबादत करूं कैसी पूजा
मेरा ईश मेरा खुदा हो गया भ्रष्ट

थोड़ा तो ईमान बाकी है रवि में
खुलेआम बताता है खुद को भ्रष्ट
-------.

6 blogger-facebook:

  1. बहुत खूब. शानदार. एकदम जबरदस्त भ्रष्ट व्यंज़ल है. आपको बधाई. आपने मेरे ब्लॉग पर एक टिपण्णी सरकाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़ी कंफेशनात्मक कविता है! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीतेगा वही, जो सबसे बड़ा .... होगा. खाली जगह में सभी जानते हैं कि क्या शब्द आयेगा.
    व्यंजल जोरदार है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मज़ा आ गया । शानदार रचना, जानदार प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कैसी विडम्बना है कि जो जिस को भ्रष्ट कह रहा है उसे ही उस्ताद चुन रहा है.

    रवि जी, क्या आपको नहीं लगता कि कलियुग आने वाल नही है, बल्कि आ चुका है -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है.
    हर महीने कम से कम एक हिन्दी पुस्तक खरीदें !
    मैं और आप नहीं तो क्या विदेशी लोग हिन्दी
    लेखकों को प्रोत्साहन देंगे ??

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसकी इबादत करूं कैसी पूजा
    मेरा ईश मेरा खुदा हो गया भ्रष्ट

    आज की विडम्बना का बहुत ही साफगोई से चित्रण किया है आपने ..पर यही तो कड़वी हकीकत है मित्र.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------