बुधवार, 24 अक्तूबर 2007

ओएलपीसी (एक लैपटॉप कम्प्यूटर प्रति बच्चा) हिन्दी में

olpc (WinCE)

मित्रों,

कम्प्यूटर जगत् की महात्वाकांक्षी परियोजना ओएलपीसी (एक लैपटॉप प्रतिबच्चा) को हिन्दी भाषा में लाए जाने का कार्य प्रस्तावित है. शुरूआत के लिए इस स्थल पर दिए गए लैपटॉप में काम शुरू कैसे करें नाम के दस्तावेज  का हिन्दी में अनुवाद किया जाना है.

मैंने इस दस्तावेज का हिन्दी अनुवाद प्रारंभ कर दिया है. समस्या है कि इसे आज और कल में ही पूरा करना है.

तो यदि आपके पास कुछ अतिरिक्त समय हो, और आप अनुवाद कर सकते हों तो शीघ्र ही मुझे बताएँ. यहाँ टिप्पणियों में या मुझे ईमेल कर (पता इसी चिट्ठे में बाजू पट्टी में है)

अंतिम चार भाग नितिन के सिंह कर रहे हैं. शुरूआत के चार भाग को मैं कर रहा हूँ. बाकी के सात भागों के लिए आपके स्वयंसेवी प्रयासों की दरकार है...

 

अद्यतन - बीच के चार भागों का अनुवाद -  कमल कर रहे हैं. शेष बच रहे हैं - 3 भाग. आपकी भागीदारी अपेक्षित है.

अद्यतन # 2 - बाकी के तीन भागों का अनुवाद भी कमल कर रहे हैं. अतः अब संपूर्ण भागों का अनुवाद किया जा रहा है. आप सभी ने इस परियोजना में रूचि ली, आपका धन्यवाद.

 अद्यतन # 3 - अनुनाद व संजय ने अपने अपने स्तर पर (संभवतः संवाद नहीं होने के कारण, जिसका मुझे अफसोस है) क्रमशः तीन व दो भागों के अनुवाद कर दिए हैं. आप दोनों को धन्यवाद. कमल को इन तीन भागों का अनुवाद न करने हेतु ईमेल किया जा चुका है.

 

वर्तमान स्थिति - अनुवाद कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है और संपादन चल रहा है. आप सभी का एक बार और धन्यवाद.

 

धन्यवाद सहित,

आपका

रविरतलामी

-------------------.

6 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. बहुत नेक काम है। मैं भी दो घण्टे का समय दे सकता हूँ। पर आने कुछ संकेत नहीं किया है कि काम कितना है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनुनाद जी, धन्यवाद. काम के लिए चिट्ठे में दिए गए लिंक को खोलें. वहां के तीन खंड -
    # Personalizing your XO
    # Avoiding loss of your XO
    # Charging the battery

    का काम करना है. आप अपने समय के हिसाब से पूरा या आंशिक ले सकते हैं. आपको अलग से मेल लिखा है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय बेंगाणी2:08 pm

    थोड़ा हमें दे दें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. pratik sharma2:14 pm

    kuch kaam rah gaya ho to mujhe bhijwaa dijiye Pratik aaj jara bahar hun kal karwa dunga

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय जी, अनुनाद शायद ऑनलाइन नहीं है. अतः आप इन तीन भागों का अनुवाद कर सकें तो अच्छा.
    प्रतीक जी, धन्यवाद. कल तक संभवतः देर हो जाए. भविष्य में आपसे अवश्य ही सहयोग लिया जाएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. संजय जी, कमल जी ने बाकी बचे अनुवादों का कार्य हाथ में ले लिया है. अतः अब आप भविष्य में नए कार्य हेतु तैयार रहें. आपका पुनः धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---