सोमवार, 13 अगस्त 2007

नक़ली मनमोहन सिंह की असली ब्लॉग प्रविष्टि



नक़ली स्टीव जॉब्स का ब्लॉग बेहद लोकप्रिय हो गया और खबर है कि उसे स्वयं स्टीव जॉब्स और बिल गेट्स भी बड़े चाव से पढ़ते हैं.

नक़ली स्टीव का यह ब्लॉग यूं तो एक पैरोडी मात्र है, परंतु पाठकों को कुछ मजेदार-मसालेदार अर्ध-पूर्ण-काल्पनिक-सत्य भी पढ़ने को मिलते हैं. और इसीलिए इसके पाठकों की संख्या लाखों में है.

जरा कल्पना कीजिए कि यदि कोई इसी तर्ज पर नक़ली मनमोहन सिंह या नक़ली प्रकाश करात का चिट्ठा लिखने लगे तो?

या फिर, कोई नक़ली लालू, मुलायम, मायावती, मोदी का चिट्ठा लिखने लगे तो? और, एक्स्ट्रीम केसेज़ में, शहाबुद्दीन और पप्पू यादव का चिट्ठा लिखने लगे तो?

या फिर, कोई नक़ली रविरतलामी का चिट्ठा लिखे तो?

वाकई बड़े मजेदार, मसालेदार चीजें पढ़ने को मिलेंगीं. है कि नहीं?

****

व्यंज़ल

****

अब क्या बताएँ कि क्या नक़ली है

आदमी अंदर या बाहर से नक़ली है


चीर के दिखा दिया था जिगर अपना

जाने क्यों वो समझते रहे नक़ली है


कर लेंगे इबादतें पहले पता तो चले

तेरे ईश मेरे खुदा में कौन नक़ली है


दोस्तों ने चढ़ा लिए हैं मुखौटे फिर

पहचानें कैसे असली कौन नक़ली है


जमाना बहुत बदल गया है अब रवि

जो असल होता है दिखता नक़ली है


--------.

3 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. हा हा!! बहुत खूब व्यंजल.

    उत्तर देंहटाएं
  2. aditya10:47 pm

    नमस्ते जी
    आप की ब्लॉग में नक़ली और ओर्जिनल का बारे में भाहूत कुछ मालूम हुआ.आप कोंसी software उपयोग किया
    मुजको www.quillpad.in/hindi अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर। एक बात बताइए आपको इतने धांसू धांसू आइडिया मिलते कहां से हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---