मुझे क्षमा कीजिए... ओह, नहीं, परम क्षमा कीजिए...

.


ब्लॉगर की परम क्षमा?


ब्लॉगर की लोकप्रियता के कारण और इसके विशाल उपयोक्ता, डाटाबेस और स्पैमरों की मार के चलते यह हमेशा ही भार से दबा चलता है. इसी वजह से इसमें हमेशा कुछ न कुछ तकनीकी समस्याएँ होते रहती हैं जिससे औसतन, ब्लॉगर दिन में दो बार डाउन होता ही है.

पिछले दिनों भी बहुत समस्याएँ हुईं. ऐसे में सभी ब्लॉगर उपयोक्ताओं को ब्लॉगर स्टेटस की ताजा जानकारी रखना उचित होगा. अपने न्यूज रीडर पर ब्लॉगर स्टेटस फ़ीड का ग्राहक बनना ज्यादा उचित होगा. फ़ीड का यूआरएल यह है-

http://blogger-status.blogspot.com/atom.xml

ब्लॉगर भी शराफ़त दिखाता है. जब भी समस्या होती है, अपने उपयोक्ताओं से क्षमा मांगता है. जब ज्यादा समस्या होती है तो ज्यादा क्षमा मांगता है.

और जब परम (सुपर) समस्या होती है तो?

वह परम (सुपर) क्षमा मांगता है!


अद्यतन: ब्लॉगर की तरफ से ब्लॉगर बज़ में भी क्षमा प्रार्थना की गई है, और विस्तार से पिछले सप्ताह की लगातार हो रही समस्या के बारे में बताया गया है. यह भी बताया गया है कि ब्लॉगर के सर्विस इंजीनियर, विश्वास कीजिए, ब्लॉगरों से ज्यादा परेशान रहे!

हाँ, सुकून की खबर यह है कि अब ब्लॉगर बीटा इस्तेमाल के लिए पूरा तैयार है, और शीघ्र ही हमें वहाँ जाने का निमंत्रण मिल जाएगा (नए ब्लॉगर बीटा पिछले स्प्ताह की समस्या से मुक्त रहा था) :)

तो, अबकी अगर मेरे ब्लॉगर ब्लॉग को पढ़ने में आपको कुछ समस्या होगी , तो आपसे पहले से ही परम क्षमा मांगते हैं, ब्लॉगर की तरफ से भी और अपनी तरफ से भी!
.

.

टिप्पणियाँ

  1. रवि जी, ये समस्या थोड़ी ज्यादा ही चल रही है। लगता है, पहले स्टेटस देखना होगा , फिर पोस्ट लिखना होगा, या अपनी मशीन पर तैयार रखना होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लोगर को जै रामजी की क्यों नहीं कह देते.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मासूम, संजय,
    वो ऐसा है कि कदी कदी घराड़ी बी बोत परेशान करे हे. पड़ कोई एसो छोड़ जात हे का?

    ब्लॉगर से तो जनम जनम का साथ है. इ तो लंबी रेस रा घोड़ा हे.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें