एमपी3 प्लेयर बजाने से पहले...

.

पोर्टेबल, पर्सनल एमपी3 प्लेयर : संगीत के बेहतर आनंद के लिए कुछ अंदरुनी बातें









आप अपने लिए एक बढ़िया सा नन्हा सा पोर्टेबल, पर्सनल एमपी3 प्लेयर खरीदना चाहते हैं? या खरीद चुके हैं? आइए, आज आपको कुछ युक्तियाँ बताते हैं ताकि आपकी खरीद बढ़िया हो और अगर आप खरीद चुके हों तो आप अपने प्लेयर का सर्वोत्तम इस्तेमाल कर सकें.

पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर खरीदने से पहले निम्न बातों का ध्यान रखें-

• आईपॉड नाम सबको ललचाता है. परंतु उससे बेहतर खरीद एक दो नहीं, कई कई हैं.


• एमपी3 प्लेयर ऐसा खरीदें जिसमें बैटरी इनबिल्ट न हो. इनबिल्ट बैटरी युक्त प्लेयर में हो सकता है कि आप कोई बढ़िया सी ग़ज़ल सुन रहे हों और उसके दूसरे शेर में बैटरी खत्म हो जाए, और आस-पास उसे चार्ज करने का साधन भी न हो. बदली जा सकने वाली बैटरी युक्त सेट में कम से कम आप पाँच रुपए की बैटरी पास के पान दुकान या ड्रगस्टोर से खरीद कर काम तो चला ही सकते हैं. साथ ही, कोई भी रीचार्जेबल बैटरी अनंत काल तक रिचार्ज कर इस्तेमाल में नहीं ली जा सकती. अंततः रीचार्जेबल बैटरी का भी नया सेट लेना ही पड़ता है.


• हार्डडिस्क युक्त एमपी3 प्लेयर कतई नहीं खरीदें. साल भर के भीतर ही फ्लैश मेमोरी कार्ड 32 गी.बा. तक की क्षमता में मिलने लगेगा, और सस्ता ही मिलने लगेगा. अभी ही 1-2 गी.बा. युक्त मेमोरी फ़्लैश कार्ड हजार-पंद्रह सौ रुपए में मिलने लगे हैं. मशीनी घूमने वाले उपकरणों युक्त हार्डडिस्क में घर्षण व क्षरण से अंततः खराबी उत्पन्न होती ही है, जबकि स्टैटिक फ़्लैश कार्ड मेमोरी में खराबी की संभावना तुलनात्मक रूप से अत्यंत कम होती है. ये कम बैटरी भी खाते हैं.


• एमपी3 प्लेयर ऐसा खरीदें जिसमें अलग से या अतिरिक्त मेमोरी कार्ड डाली जा सकती हो. इससे आप अपनी मर्जी के गानों युक्त दो-चार मेमोरी कार्ड भी साथ रख सकते हैं और इस तरह से आपके एमपी3 प्लेयर की मेमोरी कभी भी फुल नहीं होगी. साथ ही आपके पास विकल्प रहेगा कि आने वाले वर्षों में अधिक क्षमता युक्त तुलनात्मक रुप से सस्ते मेमोरी कार्ड के जरिए अपने पोर्टेबल संगीत भंडार को और विशाल बना सकें. आजकल 500-600 रुपयों में बिना मेमोरी कार्ड युक्त पोर्टेबल पर्सनल एमपी3 प्लेयर बिक रहे हैं. अगर इनके ऑडियोफ़ाइल पर ज्यादा जोर न दें तो यह सर्वोत्तम खरीद होगी.
• नए पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर में वीडियो प्लेबैक की भी सुविधा मिल रही है और अंतर्निर्मित छोटे से वीडियो स्क्रीन के जरिए रंगीन वीडियो का भी आनंद लिया जा सकता है. ऐसा प्लेयर बेहतर तब होता है जब उसमें अंतर्निर्मित स्पीकर भी हो तथा टीवी आउट का भी फ़ंक्शन हो.


• अगर आप व्यावसायिक या अपने पेशे के कारण आमतौर पर दौरे पर रहते हैं तो अच्छा यह होगा कि आप ऐसा एमपी3 प्लेयर पसंद करें जो कि आपके मोबाइल फ़ोन में अंतर्निर्मित हो. अनावश्यक रूप से एक अतिरिक्त इलेक्ट्रॉनिक ग़जेट लेकर घूमना तो मूर्खता है. परंतु ध्यान रहे कि एमपी3 युक्त मोबाइल फ़ोन में अतिरिक्त फ़्लैश मेमोरी कार्ड जोड़ने की सुविधा हो, अन्यथा स्थिर मेमोरी युक्त पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर तो एक तरह से बेकार ही होता है.


• इयरबड वाले इयरफ़ोन जो अकसर एमपी3 प्लेयर के साथ आते हैं, हो सकता है कि वे आपके कानों के आकार के अनुरूप न हों. इससे हो सकता है कि आपके कानों में दर्द या इनफ़ैक्शन की समस्या पैदा हो जाए. इस लिए बेहतर यह होगा कि अपने कान के लिए योग्य आकार वाले उच्च गुणवत्ता के इयरफ़ोन खरीदें. जहां तक संभव हो बड़े, कान को ढंकने वाले इयरफ़ोन प्रयोग करें. इनसे बाहरी शोर से भी एक हद तक छुटकारा पाया जा सकता है.


• अगर आपके पास कार है और उसमें पहले से ही म्यूजिक सिस्टम लगा है जिसमें एफ़एम रेडियो भी है, तो ऐसा पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर खरीदें जिसमें स्टीरियो एफ़एम ट्रांस्मीशन की भी सुविधा हो. इससे आप अपने पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर के जरिए बजाए जा रहे संगीत को बिना किसी तार के अपने कार के म्यूजिक सिस्टम में भी सुन सकते हैं.

• अब अंततः आपने अपने लिए कोई बढ़िया, धांसू पोर्टेबल, पर्सनल एमपी3 पसंद कर ही लिया. आपके पास एमपी3 प्लेयर खरीदने का जो बजट अभी है, उसे दो बराबर हिस्से में बाटें. इसके आधे हिस्से से अभी कोई दूसरा सस्ता सा पोर्टेबल पर्सनल एमपी3 प्लेयर खरीदें. बाकी बचे दूसरे आधे हिस्से से दो साल बाद आप जैसा धांसू प्लेयर खरीदना चाह रहे थे, उससे दस गुना ज्यादा क्षमता और खासियत वाला प्लेयर खरीदें.

और, अगर आपने अपना पसंदीदा पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर खरीद ही लिया है, तो इसका बेहतर और सर्वोत्तम इस्तेमाल के लिए निम्न बातों का ध्यान रखें-

• एमपी3 फ़ॉर्मेट में गानों के डाटा को संपीडित किया जाता है जिसके कारण उसमें सुनने में ऑडियो सीडी जैसी गुणवत्ता नहीं आ पाती. अतः घर पर जहाँ अन्य सुविधाएँ उपलब्ध हों, ऑडियोफ़ाइल ग्रेड सीडीप्लेयरों युक्त म्यूजिक सिस्टम से गीत संगीत सुनने का आनंद अलग ही होता है.

.

.









• एमपी3 फ़ॉर्मेट में गानों को अलग अलग बिटरेट पर संपीडित किया जाता है. न्यूनतम 32 केबीप्रसे (Kbps) से लेकर 320 केबीप्रसे तक संपीडन आमतौर पर प्रचलित है. वैसे सामान्य रूप में उपलब्ध एमपी3 फ़ॉर्मेट में संगीत प्रायः 128 केबीप्रसे पर एनकोडिंग किया हुआ होता है. 32 केबीप्रसे से एनकोडित फ़ाइल के संगीत की गुणवत्ता न्यूनतम होती है, वहीं 320 केबीप्रसे से एनकोडित फ़ाइल में उच्च गुणवत्ता का संगीत मिलता है. अतः यदि आप चाहते हैं कि संगीत की गुणवत्ता में कोई समझौता न हो तो उच्च बिटरेट वाली एमपी3 फ़ाइलें इस्तेमाल करें. वैसे, वेरिएबल बिटरेट भी कुछ मामलों में बेहतर होता है.


• अगर आप लंबे समय के लिए बाहर जा रहे हैं और चाहते हैं कि आपके पोर्टेबल एमपी3 प्लेयर (या फ्लैश मेमोरी कार्ड) में ज्यादा से ज्यादा संगीत आए, तो आप अपने संगीत फ़ाइलों को न्यूनतम बिटरेट पर एनकोडिंग करें. यह भी देखें कि क्या आपका एमपी3 प्लेयर डबल्यूएमए फ़ॉर्मेट को समर्थित करता है. अगर आपका प्लेयर डबल्यूएमए फ़ॉर्मेट को समर्थित करता है तो आप डीबीपावरएम्प (या ऐसे ही किसी औजार के जरिए) के जरिए 128 केबीप्रसे से एनकोडित अपने एमपी3 संगीत फ़ाइलों को 20 केबीप्रसे युक्त डबल्यूएमए फ़ॉर्मेट में एनकोडिंग कर रूपांतरित करें. इस तरह से सामान्य 128 केबी मेमोरी युक्त एमपी3 प्लेयर में जहाँ 20 से 25 एमपी3 गाने ही आ पाते हैं, आप 125 से अधिक गाने भर सकते हैं. 128 केबीपीएस वाला 5 मिनट का एमपी3 संगीत फ़ाइल लगभग 5 मे.बा. का होता है वहीं 20 केबीपीएस का डबल्यूएमए संगीत फ़ाइल 0.6 मे.बा. जगह घेरता है. ठीक है, कम केबीपीएस एनकोडिंग से गुणवत्ता में थोड़ी सी कमी आएगी, परंतु जब आप सफर पर हों, गाड़ी घोड़ों की आवाजें हों, तो वैसे भी संगीत सुनने में इतनी गुणवत्ता में कमी कोई खास तौर पर नजर नहीं आती. डीबीपावरएम्प से संगीत को कम बिटरेट पर रूपांतरित करना अत्यंत आसान है. डीबीपावरएम्प अपने कंप्यूटर पर संस्थापित करिए, तमाम आवश्यक एनकोडिंग इसकी साइट से उतार कर संस्थापित करिए, फिर किसी भी संगीत फ़ाइल को दायाँ क्लिक करिए. संगीत फ़ाइल को रूपांतरित करने के लिए पूछा जाएगा. हाँ करिए और वांछित जानकारी भरिए. बस हो गया.


• कम बिट रेट से सहेजे गए संगीत फ़ाइलों को बजाने में आपके एमपी3 प्लेयर को कम ऊर्जा खर्च करनी पड़ती है. अतः यह ज्यादा देर तक और ज्यादा संगीत फ़ाइलों उतनी ही बैटरी में बजा सकता है. इसीलिए, जब आप सफर पर हों तो कम बिटरेट वाली संगीत फ़ाइलें ही लोड कर साथ ले जाएँ. और, जैसा कि ऊपर के अनुच्छेद में बताया गया है, कम बिटरेट वाली फ़ाइलें कम जगह घेरती हैं, दुहरा फ़ायदा - यानी आपके एमपी3 प्लेयर में ज्यादा गाने समाएँगे.

हो सकता है कि आपके मन में कोई शंका अब भी हो. हो सकता है कि आपके पास इनसे भी बढ़िया टिप्स, नुसख़े और युक्तियाँ हों. तो, उन्हें हमारे साथ यहाँ अवश्य साझा करें.

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

बहुत अच्छी जानकारी है, कोई इनलाईन रिकार्डिंग का अच्छा टूल ज्ञात हो तो बताने का कष्ट करें.

इतनी अच्छी जानकारी देने का शुक्रिया !

समीर भाई,

इन लाइन रेकॉर्डिंग के लिए क्रॉसप्लेटफ़ॉर्म में महाउपयोगी, बढ़िया औजार आउडासिटी है, जिसे आप यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं -
http://audacity.sourceforge.net/

यह मुफ़्त भी है!

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget