टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

2006


हिन्दी भाषा के दस्तावेज़ों के लिए एक बढ़िया ऑनलाइन पीडीएफ़ परिवर्तक


जमजार - वैसे तो एक ऐसा ऑनलाइन दस्तावेज़ परिवर्तक है जिसके जरिए आप कई किस्म के दस्तावेज़ों को कई अन्य किस्म के दस्तावेज़ों में मुफ़्त में परिवर्तन कर सकते हैं, परंतु यह हिन्दी भाषा के वर्ड फ़ाइलों को बखूबी पीडीएफ़ फ़ॉर्मेट में बदलता है.

यह 100 मेबा तक की फ़ाइलों को परिवर्तित कर सकता है, तथा सारा कार्य वेब इंटरफ़ेस के जरिए होता है. आपको एक आसान इंटरफ़ेस के जरिए फ़ाइल अपलोड करना होता है तथा दिए गए ईमेल पते पर सूचना मिलने के उपरांत आपको दी गई कड़ी से फ़ाइल डाउनलोड करना होता है.

हां, हिन्दी भाषा की फ़ाइलों के नाम अंग्रेज़ी में ही हों, हिन्दी में फ़ाइल नाम यह स्वीकार नहीं करता है.

संबंधित आलेख : यूनिकोड हिन्दी वर्ड फ़ाइलों को पीडीएफ़ में कैसे परिवर्तित करें

मॅड्रिवा लिनक्स पर लिखे आलेख पर पाराशर जी ( parasharas at gmail.com ) की प्रतिक्रिया थी:

रवि भाई,
मैंड्रीवा लाईनक्स के बारे में इतना शानदार आपने लिखा तो हमने भी पूरी ४
सीडी का डाऊनलोड कर लिया और उस (लाईनक्स) से ही यह मेल भेज रहा हूं।
ज्यादा तो नहीं करीब १००० मिनत लगे त इस लिए लिखा कि इनस्क्रिप्'पर यह
नहीं आ रहा नियंत्रक शिफ्त की सैंतिंग की तरह कोई विधि बताएं और
मैंड्रीवी शृंखला को एक ही लिंक पर डाल दें खास कर हिंदी में कार्य करना
लोकलहोस्त पीएचपीमाई एडमिन व खास तौर से इसके मोजिला फायरफॉक्स को अपडेत
२.०.१ या आगे अपडेत या इंस्éल करना फिलहाल मशक्कत कर रहे हैं ये भी पता
नहीं चला कि विंडो से जो फोंस लिये थे वे फायरफॉक्स में नहीं आ पाए विंडो
से एक फोंत पर्सनल कर मेल तो लिख ही दी है।

आपका अपना
पाराशर


जो वर्तनी आई हैं वह इंडिक एक्सśंशन की देन हैं माफ करियेगा बस शुरू है
आपके जवाब व हल की प्रतीक्षा.

मॅड्रिवा की इस समस्या का विस्तृत समाधान इस आलेख में है:

लिनक्स में फ़ॉन्ट कैसे संस्थापित करें

उबुन्टु (जीवंत, बूटयोग्य सीडी) के नए संस्करण में भी यही समस्या है, और इसका विस्तृत समाधान यहाँ पर है:

उबुन्टु 6.0 में हिन्दी कैसे संस्थापित करें

लिनक्स तंत्रों में हिन्दी कुंजीपट (इनस्क्रिप्ट) कैसे इनेबल करें इस पर आलेख यहाँ पर है:

लिनक्स में भारतीय भाषाओं में काम कैसे करें

इनमें से कुछ आलेख हिन्दी में इसी चिट्ठे पर हैं, भविष्य में समय निकाल कर उन्हें अवश्य ही सुनियोजित स्वरूप में कड़ी-बद्ध करने का प्रयास करूंगा.

वैसे, मॅड्रिवा समेत, किसी भी लिनक्स तंत्र में फ़ॉन्ट संस्थापना आसान है, जिसे निम्नानुसार कमांड अनुक्रम के जरिए किया जा सकता है:

1 रूट उपयोक्ता में बदलें.

# su (यह सुपरयूजर में बदलने के लिए कमांड है, आपसे रूट उपयोक्ता का पासवर्ड पूछा जाएगा, रूट पासवर्ड भरें)

2 डिरेक्ट्री /usr/share/fonts/TTF में फ़ॉन्ट कॉपी करें

# cp [font-path] /usr/share/fonts/TTF (यहाँ, [font-path] को फ़ॉन्ट की वास्तविक डिरेक्ट्री पथ से बदलें. उदाहरण के लिए, gargi.ttf फ़ॉन्ट, डिरेक्ट्री /home/ravi/fonts में है, तब कमांड होगा - # cp /home/ravi/fonts/gargi.ttf /usr/share/fonts/TTF)

3 कमांड chkfontpath चलाएँ

# chkfontpath (इस कमांड के जरिए नए जोड़े गए फ़ॉन्ट, आपके लिनक्स सिस्टम की जानकारी में आ सकेंगे व उनका इस्तेमाल हो सकेगा)


Tag ,,,


कौन बोल रिया है?

भारत के गांव गांव में मोबाइल पहुँच रहा है. नुक्कड़ की चाय की दुकान पर काम करने वाला छोरा और मुहल्ले का धोबी और खेत में काम करने वाला निरक्षर मजदूर सबके हाथ में मोबाइल दिखने लगा है. मोबाइल पर अभिजात्य वर्ग का अधिकार नहीं रहा. मोबाइल पर काल करना खर्चीला भी नहीं रहा. आपके मोबाइल में काल टाइम नहीं है, कोई बात नहीं. सामने वाले को दो-तीन मिस काल दे मारिये, वह मजबूरन काल बैक कर आपसे पूछेगा - भइये, क्या बात है?

मोबाइल पर कभी आप कोई महत्वपूर्ण बात कर रहे होते हैं तभी पता चलता है कि उसकी बैटरी खत्म हो गई, और आस-पास बैटरी चार्ज करने का कोई साधन नहीं होता. कभी किसी मित्र को स्थानीय मोबाइल का नंबर लगाते हैं तो पता चलता है कि वह नंबर तो आज दो हजार किलोमीटर दूर है - और आपको एसटीडी चार्ज लग गया और आपके मित्र को रोमिंग चार्ज (या इसके उलट भी हो सकता है). और आपकी मित्रता इस एसटीडी-रोमिंग चार्ज के चक्कर में खतरे में पड़ती दीखती है. कभी किसी मित्र को मोबाइल लगाते हैं तो उधर से मित्र के बजाए भाभी जी का स्वर सुनाई देता है - "हाँ, भाई साहब, आज ये मोबाइल मेरे पास है - बाजार में कुछ काम था ना..."

आपका कोई पुराना मित्र, जिसके दर्शन महीनों से नहीं हुए होते हैं, अचानक-अकारण आपसे बे-वक्त मिलने आ पहुँचता है. यूँ ही आपके दर्शन करने. उसके हाथ में नया, चमचमाता हुआ, लेटेस्ट वर्जन का मोबाइल फ़ोन होता है. आपको देर से ही सही, समझ में आ जाता है कि दरअसल, आपके मित्र को नहीं, आपके मित्र के नए, कीमती, नए-फ़ीचर युक्त मोबाइल को आपसे मिलने की आवश्यकता थी.

आपके हाथ में नया मोबाइल देख कर आपका मित्र पूछता है- वाह! क्या नया मॉडल है. एमपी3 है क्या? फिर मॉडल के फ़ीचर्स देखने के बहाने आपके एसएमएस और एमएमएस संदेशों को पढ़ने लग जाता है. फिर कहता है - वाह! गुरू! क्या बढ़िया मसाला भरा है. एक दो हमको भी भेज देना. आप शर्माते-सकुचाते से हें हें हें करने लगते हैं.

आज रविवार को सुबह-सुबह मोबाइल बजा. निगोड़े मोबाइल ने रविवार की सुबह बरबाद कर दी. एक यही तो दिन मिलता है जहाँ आप देर तक अलसाए से सो सकते हैं. परंतु मोबाइल को पता पड़ गया कि आप अलसा रहे हैं. वह जाने कहीं से कनेक्शन मिला लाया. उसकी बैटरी भी डाउन नहीं थी.

डिस्प्ले पर जो नंबर आ रहा था वह मेमोरी में नहीं था. मुझे लगा कि मेरे चिट्ठे के किसी पाठक ने जाने कहीं से मेरा मोबाइल नंबर हथिया लिया होगा और मुझे बधाई, शुभकामनाएँ देने के लिए रविवार सुबह का यह उचित समय चुना होगा.

"हैलो?" मेरे स्वर में आश्चर्य मिश्रित उत्सुकता थी.

"कौन बोल रिया है" उधर से आवाज आई.

मेरा माथा ठनका. ये तो कोई रांग नंबर वाला मामला लगता है. आवाज यूँ प्रतीत हो रही थी जैसे कि सामने से गब्बर सिंह बोल रहा हो.

मेरे अंदर का वीरू जाग गया.

"आपने क्या नंबर लगाया है? आपको किससे बात करनी है?" मैंने प्रत्युत्तर दिया. मेरे लहज़े में वीरू का जवाबी फ़ायर था.

"सामजी भाई से बात कराओ" उधर से वही गब्बरिया आदेश आया.

"अरे यार आपने रांग नंबर लगाया है - ये नंबर किसी सामजी भाई का नहीं है"

मेरे भीतर का वीरू गरज रहा था. सामान्य टेलिफ़ोन में यह सुविधा तो होती है कि आप रिसीवर पटक कर अपना गुस्सा कम कर सकते हैं. मोबाइल पटकने से तो अपना खुद का नुकसान ज्यादा हो सकता है. मैंने मोबाइल के काल एण्ड बटन को जोर से दबाया और देर तक भुनभुनाता रहा.

मेरे भीतर के वीरू का गुस्सा पूरी तरह ठंडा होता इससे पहले ही मोबाइल फिर से बजा. उसे बजना ही था. वही पहले वाला नंबर डिस्प्ले पर था.

"हैलो, यार आपने गलत नंबर लगाया है, आपको जिससे बात करनी है उसका नंबर यह नहीं है..." सामने वाले के बोलने से पहले ही मैं मोबाइल पर भड़का.

"कौन बोल रिया है - अपना नाम तो बताओ?" सामने से वही गब्बरिया आवाज आई. प्रकटतः वह सुनिश्चित नहीं कर पा रहा था कि जो नंबर वह लगा रहा था गलत कैसे लग रहा था.

"अरे यार तुम्हें मेरे नाम से क्या मतलब? ये तुमने रांग नंबर लगाया है. जिससे तुम्हें बात करनी है उसका मोबाइल फोन ये नहीं है" मोबाइल पर मैं जोर से चिल्लाया और मैंने काल फिर से काट दिया.

"कैसे बेहूदे गंवार लोग होते हैं.... मोबाइल तो ले लेते हैं परंतु मैनर्स ही नहीं है. एक तो रांग नंबर लगाते हैं फिर भौंक कर बातें करते हैं..." मैं जरा जोर से भुनभुनाया.

रेखा बड़ी देर से मेरी प्रतिक्रिया देख रही थी. "अरे भई, सामने वाला गंवार है तो तुम क्यों उससे उसी भाषा में पेश आ रहे हो? कम से कम तुम तो शांति से, प्रेम से बता सकते हो!" अंतत: उससे रहा नहीं गया.

वह सही कह रही थी. आह! अचानक मुझे अहसास हुआ, कि मैं भी तो उससे उसी गंवरिया लहजे में बात करने लग गया था. मेरे मोबाइल मैनर्स की भी तो वाट लग गई थी. लगता है पहले मुझे अपने मोबाइल मैनर्स को ठीक करना पड़ेगा. ये साली मोबाइल कंपनियों मोबाइलें तो बेचती हैं मगर यूजर्स मैनुअल में दो पन्ने मोबाइल मैनर्स के लिए नहीं रखतीं! मैं फिर भुनभुनाया.

**-**

इसी तेवर का व्यंग्य लेख: आइए, मोबाइल हो जाएँ...

टैग ,,,


इंटरनेट के फ़िशिंग हमलों से कैसे बचें?

पिछले हफ़्ते मुम्बई पुलिस ने कुछ नाइजीरियाई नागरिकों को इंटरनेट पर चार-सौ-बीसी और धोखाधड़ी करने के आरोप में पकड़ा. उन पर आरोप था कि उन्होंने आईसीआईसीआई बैंक की एक नकली साइट तैयार कर बैंक व ग्राहकों को करोड़ों रुपयों का चूना लगाया. उन्होंने बैंक के ग्राहकों को नकली ईमेल भेजकर कहा था कि कुछ कारणों से वे अपने पास-वर्ड और उपयोक्ता नाम अपडेट करें. ईमेल में कड़ी उस नकली साइट की थी जो हूबहू आईसीआईसीआई बैंक की असली साइट जैसा दिखता था. ग्राहक झांसे में आकर अपनी गोपनीय जानकारियाँ वहाँ डाल देते थे. अपराधियों ने यह जानकारी हासिल कर असली बैंक खातों से करोड़ों रुपए निकाल लिए और इंटरनेट बैंकिंग के ग्राहकों व सेवा प्रदाताओं को करोड़ों रुपयों का चूना लगाया. इस तरह की धोखा-धड़ी, जिसमें नकली साइट बना कर उपभोक्ताओं को ठगा जाता है, फिशिंग कहलाता है.

अपना शिकार फांसने के लिए अपराधी नकली साइटें इस तरह बनाते हैं कि वे पूरी असली लगें. एक सामान्य उपयोक्ता के लिए नकली और असली साइट में भेद करना मुश्किल होता है. इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर इंटरनेट ब्राउज़रों के नए संस्करणों में एंटी फ़िशिंग (फ़िशिंग के संभावित हमलों से बचाने के लिए चेतावनी) वार्निंग विशेषताएँ अंतर्निर्मित शामिल की जा रही हैं. ऑपेरा 9.01, फ़ॉयरफ़ॉक्स 2 तथा इंटरनेट एक्सप्लोरर 7 संस्करणों में आपको इस तरह की सुविधा मिलती है. जब आप इस सुविधा को सक्रिय करते हैं तो ये ब्राउज़र विविध भरोसेमंद स्रोतों से प्राप्त डाटाबेस को जाँच कर यह तय करते हैं कि जिस साइट की कड़ी को खोलने के लिए आपने क्लिक किया है वह सही है या नहीं. अगर कड़ी उनके पास उपलब्ध धोखाधड़ी की साइटों वाले डाटाबेस से मिलान करती है तो वे आपको चेतावनी संदेश देते हैं कि जिस साइट पर आप भ्रमण करना चाहते हैं वह धोखाधड़ी के उद्देश्य से तैयार की गई है, अतः वहाँ न जाएँ.

संभावित फ़िशिंग हमलों से बचने के लिए ऐसे संदेशों को गंभीरता से लें व उन्हें अनदेखा न करें.

ऑपेरा 9.01 सुरक्षा सेटिंग

ऑपेरा 9.01 चेतावनी संदेश

फ़ॉयरफ़ॉक्स 2 चेतावनी संदेश

इंटरनेट एक्सप्लोरर 7 चेतावनी संदेश

एक और चेतावनी संदेश

संबंधित आलेख:

इस चिट्ठे पर अन्य चिट्ठों के साथ, प्रभासाक्षी पर

स्क्रीन चित्र: साभार एफ़-सीक्योर एंटीवायरस ब्लॉग

.

तू कितना कमाता है रे ललुआ?

**-**

मुझे तो आज तक आय से अधिक संपत्ति का फंडा समझ में ही नहीं आया. मेरी मां मुझसे पूछा करती थी, जब पहले पहल नौकरी लगी थी - तू कितना कमाता है रे ललुआ. मां के लिए उसका बच्चा हमेशा ललुआ ही रहता है. मैं शर्माता था कि मेरी आय मेरे हिसाब से, मेरी औकात से कम है, और मैं उसमें कुछ भत्ते इत्यादि को भी जोड़कर बता देता था. शायद यह था आय से अधिक संपत्ति.

परंतु किसी के पास आय से अधिक संपत्ति कैसे जमा हो सकती है भला. जितनी जिसकी आय होती है, उतनी ही या उससे कम ही तो वह जमा कर पाएगा ना? सरल सा गणित है, मान लो कि आपकी आय एक्स है. अब उस एक्स आय में से आपने वाय खर्च कर दिया तो जो संपत्ति आपके पास जमा होगी तो वो तो एक्स ऋण वाय होगी ना? आप लाख कृपण हों, अपनी आय में से कुछ भी खर्च नहीं करते हैं, तब, मान लिया कि खर्च, यानी कि वाय, शून्य है. ऐसी स्थिति में भी जो संपत्ति आपके पास जमा होगी वह एक्स माइनस जीरो यानी की एक्स - आपकी पूरी आय ही तो होगी, उससे अधिक नहीं. इससे यह सीधे-सीधे सिद्ध होता है कि आय से अधिक संपत्ति तो हो ही नहीं सकती. अगर ऐसा होने लगा तो नया गणित पैदा हो जाएगा, गणित के नए नियम बन जाएंगे, अपने तो सारे फंडे फेल हो जाएंगे. न्यायाधीश इतने बेवकूफ़ तो थे नहीं जो इतना सीधा सरल गणित नहीं समझते. इसीलिए उन्होंने गणित के हिसाब से सही निर्णय दिया है - आय से अधिक संपत्ति कैसे होगी? हो ही नहीं सकती. सीबीआई के अफ़सरों का गणित के साथ-साथ आई क्यू भी कमजोर है लगता है जो वे ऐसे गलत गणित वाले अभियोग लगाते रहते हैं. जबरन पॉलिटिकल एजेंडा लेकर अभियोग लगाते फिरते हैं.

मैंने तो देखा, सुना और भुगता है - आय से अधिक खर्च को. आय इधर आई नहीं और खर्च हुई नहीं. कई दफ़ा तो आय के आने से पहले ही खर्च हो चुका होता है - उधार और लोन लेकर. ऊपर से, हर कहीं मुफ़्त में मिल रहे क्रेडिट कार्ड ने आय और संपत्ति का गणित भयंकर रूप से गड़बड़ा दिया है. आय है नहीं, आने वाले समय में आय का कोई जरिया दिखता नहीं, मगर जेब में रखा क्रेडिट कार्ड मचलता रहता है - किसी मशीन में स्वाइप होने को - खर्च हो जाने को.

आप कहेंगे - राजनीतिज्ञों की, नेताओं की आय का अलग फंडा होता है, और उनमें गणितीय नियम लागू नहीं होते. ठीक है, मान लिया, परंतु आय और खर्च का फंडा तो वहां भी होता है. जितना खर्च चुनाव में जीतने के लिए किया गया होता है - यानी की ‘इनवेस्टमेंट मनी' उसे तो ब्याज सहित वसूलना होता है कि नहीं? और क्या जीवन में एक ही बार चुनाव लड़ना होता है? अगले चुनाव में लड़ने के लिए खर्चा कहाँ से आएगा? अतः अगला व पिछला हिसाब बराबर करने के लिए आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक, और अधिक स्रोतों से आय प्राप्त की जाती है. इसे आय से अधिक संपत्ति कैसे कहेंगे? ऊपर से, माना कि कुछ ऊपरिया आय अभी दिख गई नजर में, मगर भैये, अगले चुनाव के लिए खर्चे में तो वह पहले ही डला हुआ है - फिर आय से अधिक संपत्ति कैसे हुई?

इसी तरह, क्या कोई ग्यारंटी है कि अगले चुनाव में जीत ही जाएंगे? आजकल जनता भी होशियार हो गई है. बदल-बदलकर मुँह का जायका ठीक करने की तर्ज पर नेताओं को भी आजमाने लगी है. तब आज के राजशाही ठाठ-बाठ भला दस पंद्रह हजार के पेंशन में बना रह पाएगा भला? तो, यदि हार गए, तो आने वाले वर्षों में जब तक फिर से किसी लाभ के पद का जुगाड़ नहीं हो जाता, उस राजशाही ठाठ-बाठ को बनाए रखने के लिए पैसा कहाँ से आएगा? यह खर्चा भी तो आय के ब्यौरे में पहले से ही डला हुआ है. आय ठीक से हुई नहीं और आप यह सिद्ध करने पर तुले हुए हैं कि आय से अधिक संपत्ति है!

**-**

व्यंज़ल

आय कम खर्च ज्यादा है

फिर भी पीने का इरादा है


इस दौर में पहचानें कैसे

कौन राजा कौन प्यादा है


यहाँ चेहरे सबके एक हैं

ओढा सभी ने लबादा है


अब न करेंगे कोई इरादा

बचा एक यही इरादा है


मुसकराहटों में अब रवि

विद्रूपता जरा ज्यादा है

**-**

संबंधित आलेख - लालू आरती

तथा लालू आरती2

.

.

मरफ़ी के तकनॉलाज़ी नियम

बिजली से चलने वाले किसी भी उपकरण को यह कभी भी न पता चलने दें कि आप बहुत जल्दी में हैं.

(मरफ़ी के कुछ अन्य, मज़ेदार नियम यहाँ पढ़ें)

  • गलत निष्कर्ष पर पूरे विश्वास के साथ पहुँचने की व्यवस्थित विधि का नाम ही ‘तर्क' है.
  • जब किसी सिस्टम को पूरी तरह से पारिभाषित कर लिया जाता है तभी कोई मूर्ख आलोचक उसमें कुछ ऐसा खोज निकालता है जिसके कारण वह सिस्टम या तो पूरा बेकार हो जाता है या इतना विस्तृत हो जाता है कि उसकी पहचान ही बदल जाती है.
  • तकनॉलाज़ी पर उन प्रबंधकों का अधिकार है जो इसे समझते नहीं.
  • यदि बिल्डिंग बनाने वाले, प्रोग्राम लिखने वाले प्रोग्रामरों की तरह कार्य करते होते तो विश्व के पहले बिल्डर का पहला ही काम संपूर्ण समाज को नेस्तनाबूद कर चुका होता.
  • किसी संस्थान के फ्रंट ऑफ़िस की सजावट उसकी संपन्नता के व्युत्क्रमानुपाती होती है.
  • किसी कम्प्यूटर के कार्य का विस्तार उसके बिजली के तार के विस्तार जितनी ही होती है.
  • विशेषज्ञ वो होता है जो क्षुद्र से क्षुद्र चीजों के बारे में अधिक से अधिक जानकारी रखता है. सही विशेषज्ञ वह होता है जो कुछनहीं के बारे में सबकुछ जानता है.
  • किसी आदमी को बताओ कि ब्रह्माण्ड में 300 खरब तारे हैं तो वो आपकी बात पर विश्वास कर लेगा. उसे बताओ कि किसी कुर्सी पर अभी अभी पेंट लगाया गया है और वह गीला है तो वह इसकी तसदीक के लिए छूकर अवश्य देखेगा.
  • विश्व की महानतम खोजों के पीछे मानवीय भूलों का ही हाथ रहा है.
  • कोई भी चीज नियत कार्यक्रम या निश्चित बजट में नहीं बन सकती.
  • मीटिंग में मिनट्स को रखा जाता है और घंटों को गंवाया जाता है.
  • प्रबंधन का पहला मिथक है - कि उसका का अस्तित्व है.
  • कोई यूनिट तब तक असफल नहीं होती जब तक कि उसका अंतिम निरीक्षण नहीं कर लिया जाता.
  • नए सिस्टम नई समस्याएँ पैदा करते हैं.
  • गलतियाँ करना मनुष्य का स्वभाव है, परंतु ढेरों, सुधारी नहीं जा सकने वाली गलतियों के लिए कम्प्यूटर की आवश्यकता होती है.
  • कोई भी उन्नत तकनीक जादू सदृश्य ही होती है जब तक कि वह समझ न ली जाए.
  • एक कम्प्यूटर मात्र दो सेकंड में उतनी सारी गलतियाँ कर सकता है जितना 20 आदमी मिलकर 20 वर्षों में करते हैं.
  • किसी व्यक्ति को कोई भी बात इससे ज्यादा प्रोत्साहित नहीं कर सकती - कि उसके बॉस ने किसी दिन घंटा भर ईमानदारी से काम किया.
  • कुछ व्यक्ति नियमबद्ध होते हैं - भले ही उन्हें यह नहीं पता होता कि नियम क्या हैं व किसने लिखे हैं.
  • फेब्रिकेटर के लिए मुश्किलें बढ़ाना तथा सर्विस इंजीनियर के काम को असंभव बनाना ही डिज़ाइन इंजीनियर का पहला काम होता है.
  • भीड़ में से विशेषज्ञ का पता लगाना मुश्किल नहीं. वह किसी कार्य को पूरा होने में सर्वाधिक समय व पैसा लगने की भविष्यवाणी करता दिखाई देता है.
  • कहने भर से कोई काम तो हो जाता है, मगर फिर उसके बाद और बहुत सा कहा जाता है जो होता नहीं
  • किसी भी नवीनतम सर्किट डिजाइन में एक भाग वो होता है जो कालातीत हो चुका होता है, दो भाग बाजार में उपलब्ध नहीं होता तथा तीन भाग विकास के चरणों में होते हैं.
  • कोई जटिल सिस्टम अंततः जब काम करने लगता है तो पता चलता है कि इसे तो एक कार्यशील सरल सिस्टम से ही बनाया गया है.
  • कम्प्यूटर अविश्वसनीय हैं, परंतु मनुष्य और ज्यादा अविश्वसनीय हैं. जो सिस्टम मनुष्य की विश्वसनीयता पर निर्भर है, वह अविश्वसनीय ही होगा.
  • यदि आप कुछ समझ नहीं पाते हैं तो वह आपकी अंतर्बुद्धि से प्रकट हो जाता है.
  • खरीदार संस्था का सचिव यदि आपसे जरा ज्यादा ही सहृदयता से पेश आता है तो यह समझें कि खरीद आदेश आपके प्रतिद्वंद्वी कंपनी ने पहले ही हड़प लिया है.
  • किसी कंस्ट्रक्शन को डिजाइन करते समय, शनिवार 4.30 बजे के बाद उसके आयामों का सही योग नहीं निकाला जा सकता. सही योग सोमवार सुबह 9 बजे स्वतः सुस्पष्ट हो जाता है.
  • जो खाली है उसे ही भरें. जो भरा है उसे ही खाली करें. और जहाँ खुजली है, वहीं पर ही खुजाएँ.
  • दुनिया में सब संभव है, रिवॉल्विंग दरवाजे से होकर स्कीइंग को छोड़कर.
  • कठिन परिश्रम से नहीं, बल्कि चतुराई से काम करें तथा आपनी वर्तनि के प्रति सवधान रहे.
  • यदि यह गूगल में नहीं मिलता, तो फिर इसका अस्तित्व ही नहीं है.
  • यदि कोई प्रयोग सफल हो जाता है तो फिर कहीं कुछ गलत अवश्य है.
  • यदि सबकुछ असफल हो जाता है तो फिर निर्देश पढ़ें.
  • जो भी ऊपर जाता है, वह नीचे आता ही है - फिर भले ही वह सेंसेक्स क्यों न हो.
    उप प्रमेयर : परंतु हमेशा नहीं.
  • हाथों से छूटा औजार हमेशा कोने में वहां जा पहुँचता है जहाँ आसानी से नहीं पहुँचा जा सकता.
  • किसी भी सरल सिद्धान्त की व्याख्या अत्यंत कठिन तरीके से ही संभव है.
  • जब कोई सिस्टम इतना सरल बनाया जाता है कि कोई मूर्ख भी उसका इस्तेमाल कर सके, तो फिर उसका इस्तेमाल सिर्फ मूर्ख ही करते हैं.
  • तकनीकी दक्षता का स्तर, प्रबंधन के स्तर के उलटे अनुपात में होता है.
  • एक अत्यंत मुश्किल कार्य पूर्ण होने के ठीक पहले, एक अति महत्वहीन छोटे से विवरण की अनुपलब्धता के कारण रुक जाता है.
  • कोई भी काम भले ही पूरा हो जाता हो, परंतु उसे सही ढंग से पूरा करने के लिए कभी भी समय नहीं होता.
  • जैसे-जैसे अंतिम समय सीमा करीब आती है, वैसे-वैसे बचे हुए काम की मात्रा बढ़ती जाती है.
  • यदि कोई उपकरण खराब हो जाता है और उसकी वजह से काम अटकने लगता है, तो वह उपकरण तब ठीक होता है जब,
    1. उसकी आवश्यकता अब नहीं होती है
  • कोई दूसरा आवश्यक कार्य किया जा रहा होता है तब.
  • बिजली से चलने वाले किसी भी उपकरण को यह कभी भी न पता चलने दें कि आप बहुत जल्दी में हैं.

  • यदि कोई उपकरण खराब नहीं हुआ है तो उसमें और सुधार न करें. आप उसे ऐसा खराब कर देंगे जो फिर कभी सुधारा नहीं जा सकेगा.
  • पटरी को देखकर आप यह अंदाजा नहीं लगा सकते कि ट्रेन किस तरफ से आएगी
    यदि आप पूरी तरह से भ्रमित (कनफ़्यूजन में) नहीं हुए हैं तो इसका मतलब है कि आपको पूरी बात मालूम ही नहीं है.
  • मानक पुरजे नहीं होते हैं

  • हाथों से छूटा औजार किसी चलते उपकरण के ऊपर ही गिरता है.
  • नवीनतम तकनॉलाज़ी पर कभी भरोसा न करें. भरोसा तभी करें जब वह पुरानी हो जाए.
  • बोल्ट जो अत्यंत अपहुँच स्थान पर होता है, वही सबसे ज्यादा कसा हुआ मिलता है.
  • तकनॉलाज़ी और विज्ञान में सबसे ज्यादा बोला जाने वाला वाक्यांश है - "उफ़ - ओह!"

  • तकनीशियन के मुँह से दूसरा सबसे बेकार शब्द आप सुनते हैं - "ओफ़!". पहला सबसे बेकार शब्द होता है "ओफ़! शि..ट"
  • किसी भी दिए गए सॉफ़्टवेयर को जब आप इस्तेमाल करने में दक्षता हासिल कर लेते हैं तो पता चलता है कि उसका नया संस्करण जारी हो गया है.

  • उप प्रमेय 1 - नए संस्करण में जो सुविधा आपको चाहिए होती है वह अभी भी नहीं होती
  • उप प्रमेय 2 - नए संस्करण में जिस सुविधा का इस्तेमाल आप बारंबार करते रहे होते हैं उसे या तो निकाल दिया जाता है या उसमें ऐसा सुधार कर दिया जाता है जो आपके किसी काम का नहीं होता.

  • आज के इनफ़ॉर्मेशन ओवरलोड के जमाने में सबसे आवश्यक तकनीकी दक्षता यह है कि हम जो सीखते हैं उससे ज्यादा भूलने लगें.
  • जटिल चीजों को सरलता से बनाया जा सकता है, सरल चीजें बनने में जटिल होती हैं

  • बन्दर के हाथ में आई-पॉड कोई काम का नहीं होता.

  • सुरक्षा का नियम: यदि आप किसी लाख रुपए के उपकरण को बचाने के लिए पाँच रुपए का फ़्यूज लगाते हैं तो आपके पाँच रुपए के फ़्यूज को जलने से बचाने के लिए आपका पाँच लाख का उपकरण पहले जल जाता है.

  • हर एक के बॉस के लिए हर कहीं लागू होने वाला नियम: बहते हुए गंदे नाले में कचरे के ढेर का सबसे बड़ा हिस्सा ही सबसे ऊपर आता है.
  • किसी समुद्री यात्रा में जहाज के पोरबंदर को छोड़ने के बाद ही कोई महत्वपूर्ण पुरजा खराब होता है, जो भंडार में नहीं होता है.

  • रखरखाव विभाग उपभोक्ता की शिकायतों को तब तक नजर अंदाज करते रहते हैं जब तक कि उपभोक्ता कोई नया खरीद आदेश न दे दे.

  • निरीक्षण की प्रत्याशा के महत्व के अनुसार ही किसी मशीन के खराब हो जाने की संभावना होती है.

  • यदि कोई नया सिस्टम सिद्धान्त में काम करेगा तो अभ्यास में नहीं और अभ्यास में काम करता है तो सिद्धान्त में नहीं.

  • आपकी खोज चाहे जितनी भी पूर्ण व बुद्धिमानी भरी हो, कहीं न कहीं कोई मौजूद होता है जो आपसे ज्यादा जानता है.

  • आसानी से सुधारी जा सकने वाली चीज़ें कभी खराब ही नहीं होतीं.

  • काटा गया कोई भी तार आवश्यक लंबाई में छोटा ही निकलता है.
  • जब आप अंतत: नई तकनॉलाज़ी को अपना लेते हैं, तब पता चलता है कि हर कहीं उसका सपोर्ट व इस्तेमाल बंद हो चुका है.
  • किसी परियोजना का प्रस्तावित आकार, उस परियोजना के अंतिम रुप में पूर्ण होने के आकार के व्युत्क्रमानुपाती होता है.
    कोई विचार जितना ही बुद्धिमानी भरा होगा, उतने ही कम उसे स्वीकारने वाले मिलेंगे.

  • जितना ज्यादा ज्ञान आप प्राप्त करते जाएंगे, आप उतना ही कम सुनिश्चित होते जाएंगे.
  • यदि आप सोचते हैं कि आप विज्ञान (या कम्प्यूटर या औरत) को समझते हैं, तो निश्चित रूप से आप विशेषज्ञ नहीं हैं.
  • सिर्फ तकनीशियन ही ऐसे हैं जो तकनॉलाज़ी पर किसी सूरत भरोसा नहीं करते.

  • सभी असंभव असफलताएँ जाँच स्थल पर ही होती हैं.
  • उप प्रमेय - सभी असंभव असफलताएँ ग्राहक यहाँ होती हैं.

  • किसी को आप जितना बेमुद्दत चाहते हैं कि वह इंस्टैंट मैसेंजर में उपलब्ध हो, उसके ऑफ़ लाइन होने की संभावना उतनी ही ज्यादा होती है.
  • किसी उपकरण (या तकनीशियन) का उपयोग और कार्यकुशलता उसे दिए गए गालियों के सीधे अनुपात में होती है.
  • कोई बढ़िया, खराब न होने वाला पुर्जा असुरक्षित समझा जाकर कीमती, बारंबार सर्विस की आवश्यकता वाले पुर्ज़े से हमेशा बदल दिया जाता है.

  • खराब हो चुका पाँच रुपए कीमत का पुर्जा बदला नहीं जा सकता, परंतु उसे किसी सब-एसेम्बली से बढ़िया, कार्य-कुशल तरीके से बदला जा सकता है जिसकी कीमत मूल उपकरण से ज्यादा होती है.
  • किसी खराब पुरज़े की कीमत व उपलब्धता सम्पूर्ण सिस्टम की कीमत के व्युत्क्रमानुपाती होती है. पाँच रुपए का पुरज़ा पाँच लाख की मशीन को अनुपयोगी बना देता है.
  • पाँच लाख की मशीन का पाँच रुपए कीमत का खराब पुरज़ा बाजार में या तो उपलब्ध नहीं होता, उसका निर्माण बरसों पहले से बन्द हो चुका होता है और अंतत: अपने कई गुने कीमत से मेड टू आर्डर से बनवाया जाता है तो पता चलता है कि उस मशीन की जगह नई मशीन ने ले ली है.
  • सभी मेकेनिकल / इलेक्ट्रिकल उपकरण अपनी गारंटी अवधि अच्छी तरह से जानते हैं - वे इस अवधि के बाद ही फेल होते हैं.

  • तकनीशियन ने पहले कभी भी आपके जैसा मशीन नहीं देखा हुआ होता है.

  • तकनीशियन आपके मशीन को उसके जाने के तुरंत बाद या फिर बहुत हुआ तो, अगले दिन खराब होने के लिए ही ठीक करता है.
.

.
  • मरफ़ी के कुछ अन्य नियम यहाँ पढ़ें -

1 मरफ़ी के प्यारे नियम 2 मरफ़ी के भारतीय घरेलू महिलाओं के नियम 3 ये मरफ़ी कौन है?

भीड़ भड़क्का अधिभार

दुनिया एक भीड़ में तबदील होती जा रही है. वैसे, भीड़ में रहने के यूँ तो बहुत मजे हैं, परंतु बहुत से तमाम खतरे भी हैं. अब एक नया खतरा सिर पर आ गया है. अगर आप भारत में हवाई यात्रा करते हैं तो आपको प्रति टिकट एक सौ पचास रुपए अतिरिक्त भुगतान करना होता है. यह एक सौ पचास रुपए अतिरिक्त किसलिए? यह एक सौ पचास रुपए कंजेशन सरचार्ज होता है यानी कि भीड़ भड़क्का अधिभार!

अभी तो सिर्फ हवाई यात्रा में यह अधिभार लगाया गया है. भविष्य में इस तरह के अधिभार के अन्य क्षेत्रों में घुसपैठ के पूरे आसार हैं. लंदन के कुछ भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में वाहन ले जाने व पार्क करने के लिए शुल्क वसूला जाता रहा है. इसी तर्ज पर अब अपने यहाँ भी अतिरिक्त अधिभारित शुल्क लगा करेगा. जिस ट्रेन में आप यात्रा करना चाहते हैं, उसमें भीड़ और वेटिंग लिस्ट के अनुसार अधिभार लग सकता है. जो सीधी सपाट गड्ढे रहित सड़क आपके घर को जाती है, और इस कारण अगर उसमें भीड़-भाड़ रहती है तो आपको सरचार्ज देना पड़ सकता है. रोज रोज के अधिभार से बचने के लिए फिर हो सकता है कि आप घर ही नहीं जाएँ. वैसे, यह एक बढ़िया सा बहाना हो सकता है पत्नियों को बताने के लिए - डार्लिंग आज सड़क में ज्यादा ही भीड़ थी अतः आज ज्यादा ही अधिभार वसूला जा रहा था, और उस बेवजह खर्च को बचाने के लिए मैंने दफ़्तर में ही समय गुजारना उचित समझा.

आपका बच्चा स्कूल जाता है. किसी अच्छे स्कूल में ज्यादा भीड़ रहती है. ज्यादा भीड़ वाले स्कूल में ज्यादा भीड़ भड़क्का अधिभार देना होगा. बच्चे के भविष्य का सवाल है. अधिभार कम हो या ज्यादा, दिल कुछ भी बोले, चेहरे पर मुसकराहट लाकर अधिभार देना होगा.

आप चार दोस्त मिल कर नुक्कड़ पर चाय पी रहे होते हैं और इतने में नगर निगम का कर्मचारी रसीद कट्टे लेकर आ जाता है. वह भीड़ भड़क्का अधिभार आपसे वसूलना चाहता है. आप मना करते हैं. हील हुज्जत होती है. मज़े लेने वालों का मजमा लगने लगता है. भीड़ पहले से ज्यादा हो जाती है. आपने भीड़ भड़क्का अधिभार देने से मना किया. सरकारी कामकाज को सही ढंग से होने से रोका. आप पर मुकदमा दर्ज होता है. मुकदमों की भीड़ युक्त न्यायालय में आपका एक और मुकदमा दर्ज होता है- पहले से भीड़ भरे नुक्कड़ में आप चार दोस्तों ने चाय पीते हुए गपियाते हुए और ज्यादा भीड़ जो किया और ऊपर से भीड़ भड़क्का अधिभार देने से मना किया... मुकदमे का निर्णय अठारह बीस साल बाद तब आएगा जब आप सबकुछ भूल भालकर किसी लाफ़्टर चैलेंज में हँस रहे होंगे या फिर संसद की किसी कुर्सी की शान बढ़ा रहे होंगे.

(मेरे हिसाब से) मेरे इस चिट्ठास्थल पर इस चिट्ठे को पढ़ने वालों की भयानक भीड़ बढ़ रही है. सोचता हूँ कोई अधिभार मैं भी लगा ही दूं. क्या खयाल है आपका?

**-**

व्यंज़ल

**-**

जीवन के हर हिस्से पर लग गए अधिभार

कोई बताओ कैसे अवरुद्ध होगा ये अतिसार


हमने तो भरी नहीं थी किसी बात की हामी

उन्होंने ही ले लिए जबरन सारे अधिकार


कुछ तो थे हालात और कुछ हमारे करम

जोहते रहे तमाम उम्र चाहत और अभिसार


दोष देता है जमाना हमारी नादानियों का, पर

समर और स्नेह में खूब जायज़ हैं अतिचार


दूसरों की करतूतों पर अब न हँसा करेंगे रवि

इस संसार पर हम भी तो हैं एक अतिभार

**-**

.

.

कुछ प्रोग्रामिंग गीत मूल फंटूश से अनुवादित:

# लोकल वेरिएबल

मैं पल दो पल का शायर हूं

पल दो पल मेरी कहानी है

पल दो पल मेरी हस्ती है

पल दो पल मेरी जवानी है...


# ग्लोबल वेरिएबल


मैं हर इक पल का शायर हूँ

हर इक पल मेरी कहानी है

हर इक पल मेरी हस्ती है

हर इक पल मेरी जवानी है...


# नल पाइंटर

मेरा जीवन

कोरा काग़ज़

कोरा ही रह गया

# डैंगलिंग पाइंटर्स

मौत भी आती नहीं

जान भी जाती नहीं


# गोटू

अजीब दास्तान है ये

कहाँ शुरू कहाँ खतम

ये मंजिलें हैं कौन सी

ना वो समझ सके न हम


# दो रीकर्सिव फंक्शन जो एक दूसरे को काल कर रहे हैं

मुझे कुछ कहना है

मुझे भी कुछ कहना है

पहले तुम पहले तुम

# डिबगर

जब कोई बात बिगड़ जाए

जब कोई मुश्किल पड़ जाए

तुम देना साथ मेरे हम नवाज़


# सी++ से वीबी

ये हसीं वादियाँ

ये खुला आसमां

आ गए हम कहाँ

# बग जिसे ढूंढा नहीं जा सका

ऐ अजनबी

तू भी कहीं

आवाज दे कहीं से


# अप्रत्याशित बग (विशेषकर ग्राहक को प्रेजेन्टेशन देते समय)

ये क्या हुआ

कैसे हुआ

कब हुआ

क्यों हुआ


# फिर, तब ग्राहक -


जब हुआ तब हुआ ओ छोड़ो ये ना सोचो...


# लोड बैलेंसिंग


साथी हाथ बढ़ाना

एक अकेला थक जाएगा

मिल कर बोझ उठाना


# मॉडम - कनेक्शन बिजी मिलने पर


सुनो कहो

कहा सुना

कुछ हुआ क्या

अभी तो नहीं...

# विंडोज के ओपनसोर्स होने की बातें


परदे में रहने दो पर्दा ना उठाओ

पर्दा जो उठ गया तो भेद खुल जाएगा

अल्ला मेरी तौबा अल्ला मेरी तौबा

कुछ कम्प्यूटरी फ़िल्में
*************

# ESC : नौ दो ग्यारह
# F1 : गाइड
# अनडू : आ अब लौट चलें
# एमएसडॉस : बुड्ढा मिल गया
# सॉफ़्टवेयर हार्डवेयर : एक दूजे के लिए
#कंट्रोल+ऑल्ट+डिलीट : आखिरी रास्ता

# हार्ड डिस्क सीडी रॉम : घर वाली बाहर वाली

# रॅम : कोरा काग़ज़

# सी++ & सी : बड़े मियाँ छोटे मियाँ

# पॉयथन : नागिन

# रूबी : नगीना

**-**

.

.

.

कम्प्यूटर पर हिन्दी - दशा व दिशा?

हिन्दी कम्प्यूटिंग पर एक रपट मैंने व करुणाकर (संयोजक इंडलिनक्स) ने सालेक भर पहले तैयार किया था. पीडीएफ़ फ़ाइल फ़ॉर्मेट में यह रपट गूगल पृष्ठों के सहयोग से आपके अवलोकनार्थ प्रस्तुत है. हिन्दी कम्प्यूटिंग के कुछ अनदेखे अनजाने पहलुओं की ओर इंगित करती यह रपट जानकारी पूर्ण है.

यह रपट, जाहिर है, अंग्रेज़ी में है अन्यथा वह इस चिट्ठे पर कब का अवतरित हो जाता. मूलत: इसे अंतर्राष्ट्रीय प्रेक्षकों को ध्यान में रखकर बनाया गया था. यदि कोई बंधु इसका हिन्दी में अनुवाद कर कहीं प्रकाशित करना या अन्य रूप में इस्तेमाल करना चाहें जैसे कि इसे अद्यतन करना, तो इसकी वर्ड फ़ाइल मैं उन्हें भेज सकता हूँ.

हिन्दी कम्प्यूटिंग पर यह जानकारी परक रपट (पीडीएफ़ फ़ाइल से) यहाँ पढ़ें.

**/**

.

.

.
विंडोज़ मशीन पर लिनक्स भी संस्थापित कैसे करें?

उन्मुक्त के चिट्ठे पर जब लिनक्स की खूबी के बारे में चर्चा हुई और जब ईशिक्षक पर चिट्ठा तैयार करने का फ्लैश ट्यूटोरियल देखने को मिला तो विचार आया कि लिनक्स संस्थापित करने के लिए भी एक फ़्लैश ट्यूटोरियल क्यों न तैयार किया जाए?

ऐसा ही एक फ़्लैश ट्यूटोरियल यहाँ पर है जिसे आप अपने विंडोज़ पीसी के अतिरिक्त पार्टीशन पर मॅड्रिवा लिनक्स 2007 संस्थापित करने हेतु काम में ले सकते हैं. मॅड्रिवा लिनक्स छोटे कार्यालय, घरेलू तथा साइबर कैफ़े इत्यादि के लिए बहुत ही अच्छा है चूंकि इसमें मल्टीमीडिया तथा विंडोज पार्टीशन को देखने का समर्थन अंतर्निर्मित है, जबकि फेदोरा या रेडहैट में इसे अलग से संस्थापित करना होता है.

मॅड्रिवा लिनक्स की संस्थापक डीवीडी आप लिनक्स फ़ॉर यू पत्रिका के नवंबर 2006 अंक के साथ प्राप्त कर सकते हैं. यदि आपके शहर में यह अनुपलब्ध हो तो किट्स एंड स्पेयर्स से मंगा सकते हैं. और यदि आपके पास डाउनलोड की सुविधा है तो फिर क्या बात है - मॅड्रिवा सीडी या डीवीडी इमेज डाउनलोड करें आज ही और संस्थापित करें अपने कम्प्यूटर पर मॅड्रिवा लिनक्स 2007 - अत्यंत अधित सुविधाजनक लिनक्स! अंग्रेज़ी का यह आलेख भी आपके लिए सहायक होगा यदि आप अपने कम्प्यूटर पर एक से अधिक ऑपरेटिंग सिस्टम संस्थापित करना चाहते हैं.

लिनक्स मॅड्रिवा 2007 संस्थापित करने के लिए फ़्लैश आधारित ट्यूटोरियल देखने हेतु यहाँ क्लिक करें

.

.

.


ईमेल के जरिए भेजें विशाल, 1 गी.बा. तक की फ़ाइलें!


यूँ तो बहुत सारे औजार व ईमेल / मैसेन्जर प्लगइन्स हैं जिनके जरिए आप (जैसे कि जीमेल के) डिफ़ॉल्ट 10 मेगा बाइट से अधिक आकार की फ़ाइल ईमेल के जरिए भेज सकते हैं, परंतु पांडो विशिष्ट है. यह मुफ़्त है, कार्यकुशल है और नए किस्म का है. यह वेब ईमेल/ ईमेल क्लाएंट तथा मैसेन्जर के प्लगइन के रूप में कार्य करता है तथा बढ़िया कार्य करता है. इसके जरिए आप एक ही बार में 1 गीगा बाइट की एक विशाल फ़ाइल या सैकड़ों फ़ाइलों को ईमेल के जरिए उन खातों को भेज सकते हैं, जो इतनी आकार की फ़ाइलों को स्वीकार करते हैं (जैसे कि जीमेल या आपकी कंपनी का असीमित आकार स्वीकारने वाला ईमेल खाता).

पांडो को काम करते हुए कुछ स्क्रीनशॉट नीचे देखें. पांडो का कार्य बहुत सरल है, व स्वयं व्याख्या करने वाला है. आपको *.pando एक्सटेंशन को खोलने के लिए (पांडो आपके ईमेल संलग्नक को इसी नाम से भेजता है) आपके कंप्यूटर पर पांडो संस्थापित (पांडो सिर्फ 3.5 मेबा का डाउनलोड है) होना आवश्यक है अतः आप जिस ईमेल प्राप्त कर्ता को पांडो के जरिए बड़ी फ़ाइल भेज रहे हैं, उसके पास भी पांडो संस्थापित होना आवश्यक है. अभी यह सिर्फ इंटरनेट एक्सप्लोरर पर कार्य करता है.
.

.

.

चलिए, बयार उलटी बहने तो लगी...

यूँ तो इस तरह की एकाध घटना पहले भी घट चुकी है, परंतु आज यकायक दो संयोग एक साथ हुए.

सुबह-सुबह एक पत्रकार मित्र ने फोन कर बधाई दी कि दिल्ली से निकलने वाले हिन्दी अखबार वीर अर्जुन पर छपा मेरा आलेख उन्हें अच्छा लगा. वीर अर्जुन यहाँ वितरित नहीं होता है, परंतु उन्हें नमून प्रतियां डाक से मिलती हैं. 22 नवम्बर 2006 का अख़बार आज उन्हें मिला था. अख़बार के अंतिम पृष्ठ पर मेरा आलेख छपा था.

मैंने उन्हें बताया कि मैंने वीर अर्जुन को कोई आलेख वालेख नहीं भेजा था और हो सकता है कि आलेख किसी ‘दूसरे' रवि का होगा. तब उन्होंने बताया कि यह आलेख माइक्रोसॉफ़्ट के बहुभाषी कुंजीपट के बारे में है.

अरे! यह आलेख तो मैंने प्रभासाक्षी के लिए लिखा था व उसे अपने चिट्ठे पर प्रकाशित किया था. हो सकता है कि वीर अर्जुन ने उनमें से किसी एक से लिया हो. बहुत संभावना है कि प्रभासाक्षी से लिया हो, चूंकि अपने यूनिकोडित चिट्ठे को वीर अर्जुन का कोई वीर पढ़ता हो, यह तो मुझे नहीं लगता.

दूसरी घटना यह हुई कि मेरे याहू खाते पर नवराही जी का पत्र आया जिसमें उन्होंने नेट पर प्रकाशित रेखा के चित्रों को पंचनाद नामक साहित्यिक पत्रिका में उपयोग हेतु अनुमति मांगी है.

बहरहाल, बयार के उलटी बहने की शुरूआत हो गई लगती है - फुरसतिया जी ने कहा था, लिखें तो छपवाएँ भी, परंतु ये स्वतः छपने लगेंगी यह आशा तो कम ही थी...

चलते चलते कुलप्रीत (अरे वही शून्य वाले) ने बताया कि मोबाइल में हिन्दी लाने वाले टी-9 टी-6 का नया संस्करण निकला है जिसका डेमो यहां पर है

मैंने डेमो देखा और मुँह से बेसाख्ता निकला वाह!

पूरा विवरण शून्य में देखें.

.

.

.

मानव विकास सूचकांक: मृतप्राय भारतीय राजनीति की मुकम्मल तस्वीर...

द संडे इंडियन के 20 - 26 नवंबर के अंक में अरिंदम चौधरी का संपादकीय पठनीय है. अपने संपादकीय में अरिंदम ने संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) द्वारा वर्ष 2006 के लिए जारी मानव विकास सूचकांक में भारत की अत्यंत दयनीय स्थिति का वर्णन किया है. भारत की उन्हीं स्थितियों-परिस्थितियों के बारे में इस चिट्ठे पर तो नियमित, व्यंग्यात्मक चर्चा होती ही रहती है जिसके बारे में अरिंदम ने मानव विकास सूचकांक का हवाला देते हुए किया है.

प्रस्तुत है उस संपादकीय के कुछ महत्वपूर्ण अंश:

"...यह रिपोर्ट मूलतः औसत आयु, वयस्क साक्षरता दर, प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च शिक्षा में पढ़ने वालों की संख्या और सकल घरेलू उत्पाद के संदर्भ में जीवन स्तर को दर्शाती है और संयुक्त राष्ट्र के ज्यादातर सदस्य देशों के बारे में उपलब्ध आँकड़ों पर आधारित होती है. किसी भी फिक्रमंद भारतीय के लिए इस रिपोर्ट पर एक निगाह डालना बहुत पीड़ादायक होगा, क्योंकि एक सरसरी निगाह में भी विश्व में भारत की दर्दनाक स्थिति साफ नजर आती है...."

"...इस वास्तविकता का आभास होता है कि विश्व की बारहवीं सबसे बड़ी अर्थ व्यवस्था (सकल घरेलू उत्पाद के संदर्भ में) और चौथी सबसे बड़ी (जरा सोचिए) क्रय क्षमता वाला भारत विश्व की उभरती हुई आर्थिक और सैन्य ताकत है, जैसी बड़ी-बड़ी बातें बकवास से ज्यादा कुछ नहीं है. सच्चाई यह है कि हमने जो कुछ भी हासिल किया है उसके दम पर हम यूएनडीपी के ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स में 126 वें स्थान पर खड़े हैं.

मुझे इससे शर्मिंदगी नहीं महसूस हुई. लेकिन मुझे घृणा तब हुई जब मैंने देखा कि हमारी हालत नामीबिया, गैबन और मोरक्को से भी गई गुजरी है. ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स में इनका दर्जा क्रमशः 125, 124 और 123 वां है. संभवतः हमारे रीढ़विहीन राजनीतिक नेतृत्व को इसी बात में गर्व महसूस होता है कि हम पाकिस्तान और सहारा मरुस्थल से सटे अफ्रीकी देशों से बेहतर स्थिति में हैं...."

"...लेकिन मेरे लिए आघात आना बाकी था. मानव गरीबी के सूचकांक में 102 विकासशील देशों में भारत का स्थान 55 वां है. सहारा मरूस्थल से सटे सबसे गरीब अफ्रीकी देशों में से एक सूडान 54 वें स्थान पर है. जबकि सूडान को विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसे संगठन कर्ज के बोझ से दबे सबसे गरीब देशों की सूची में रखते हैं. ....... सहारा मरूस्थल से सटा और भारी कर्ज में डूबा एक और गरीब देश रवांडा वयस्क साक्षरता दर के संदर्भ में भारत से बेहतर है. हम इस बात पर गर्व कर सकते हैं (यदि यह गर्व करने जैसी बात हो) कि भारत में मौजूद पाँच वर्ष तक के सामान्य से कम वज़न के बच्चों का प्रतिशत इथोपिया के बराबर है. डिपार्टमेंट फ़ॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (डीएफआईडी) के मुताबिक अफ्रीका के सबसे गरीब देशों में से एक इथोपिया है, और पृथ्वी पर सबसे गरीब आबादी का सबसे बड़ा हिस्सा यहीं रहता है. संयुक्त राष्ट्र की मानव विकास रिपोर्ट के मुताबिक कुल 177 सदस्य देशों में इसका दर्जा 170 वां है. यहाँ की तीन करोड़ से अधिक आबादी प्रतिदिन आधा डालर से कम पर गुजारा करती है और साठ लाख से एक करोड़ तीस लाख आबादी हर साल भुखमरी से जूझती है...."

"...यह वह देश है जहाँ के प्रमुख दैनिक अखबारों में हमें हर दिन केंद्रीय मंत्रियों या किसी न किसी राज्य के मुख्यमंत्री के मुस्कराते हुए पूरे पन्ने के विज्ञापन देखने को मिलते हैं... जिनमें उनकी उपलब्धियों का ब्यौरा छपा होता है... मेरा अनुमान है कि ये राजनेता ज्यादातर मानदंडों पर भारत के, सहारा मरूस्थल से सटे गरीब देशों से नीचे रहने पर मुस्करा रहे होते हैं..."

सही फरमाया अरिंदम आपने. जब भी कहीं कोई नेता मुस्कराता है, दूर कहीं, सैकड़ों गरीब रोते - मरते हैं.

व्यंज़ल

------

(चिट्ठाचर्चा में पूर्व प्रकाशित)

**-**

मैं अगर कभी मुसकाया होऊंगा

अज्ञानता में ऐसा किया होऊंगा


जमाने को पता नहीं है ये बात

मजबूरन ये उम्र जिया होऊंगा


हंसी की क्षणिक रेखा के लिए

जाने कितना तो रोया होऊंगा


वो हासिल हैं ये तो दुरुस्त है

क्या क्या नहीं मैं खोया होऊंगा


कोई तो मुझे बताए कि रवि

मैं यहाँ क्योंकर आया होऊंगा

**-**

.

.

.

हमें भी चाहिए जीरो बेस्ड सिस्टम...

लालू की रेल देश भर में एक दिसम्बर से जीरो बेस्ड समय सारिणी लागू कर रही है. ये जीरो बेस्ड क्या होता है? दरअसल, भारत की सभी ट्रेनों को शून्य यानी रात के बारह बजे पर प्रारंभ होता मान लिया जाता है और फिर कम्प्यूटर सिमुलेशन के जरिए रेल पटरी की उपलब्धता, स्टेशन पर रुकने का समय, गति, कॉशन आर्डर, इत्यादि को ध्यान में रखते हुए नई समय सारिणी बनाई गई है. यही शून्य आधारित समय सारिणी है. बताते हैं कि इसे लागू करने से ट्रेनों की गति में इजाफ़ा होगा और जो ट्रेन 500 किमी की दूरी 8 से 10 घंटे में तय करती थी अब वह 1 दिसम्बर से 5 से 7 घंटे में तय करेगी.

अगर सचमुच ऐसा है तब तो यह जीरो बेस्ड सिस्टम बहुत अच्छा है. भारत में सरकार के हर विभाग में इसे लागू करना चाहिए. हर विभाग की गति इधर बहुत धीमी हो गई है. कोई फ़ाइल, सरकारी नियम के अनुसार 5 से 7 दिन में एक सेक्शन से दूसरे में खिसक जाना चाहिए, पर वह बिना वज़न के एक तो खिसकती ही नहीं और बहुत से कॉशन ऑर्डरों के साथ ले देकर 50 से 70 दिन में खिसक पाती है. जीरो बेस्ड सिस्टम से निश्चित ही इसमें कमी आएगी.

भारतीय संसद में भी जीरो बेस्ड सिस्टम लागू किया जाना फलदायी रहेगा. घंटेभर का शून्यकाल तो है ही वहां - हंगामा करने के लिए. शून्य आधारित संसद काल बन जाएगा तो सारे समय ही हंगामा होता रहेगा. संसद सदस्यों के फायदे ही फायदे रहेंगे. हंगामा करो और खबरों में बने रहो. दुनिया को दिखाओ, अपने संसदीय क्षेत्र में दिखाओ कि देखो हम कैसा इंटेंस काम करते हैं. और अब तो संसद से सीधा प्रसारण के दो-दो चैनल हैं - चौबीसों घंटे चलने वाले. वैसे भी संसद कौन सा चल पाता है. जो भी पार्टी सत्ता में होती है वह दिखावा करती है कि संसद चलाना है. और जो पार्टी विपक्ष में होती है वह दिखावा करती है कि संसद नहीं चलाना है. और, जाहिर है संसद तो है कि चलने पर नहीं चले जब तक कि उसमें जीरो बेस्ड सिस्टम लागू नहीं हो.

भारत में जीरो बेस्ड सिस्टम का नया संविधान लागू कर दिया जाना चाहिए. सबकी जाति और सबका धर्म जीरो मानकर नया संविधान बनाया जाए. कोटा-आरक्षण का लफड़ा इस जीरो बेस्ड सिस्टम से तो खतम ही हो जाएगा. इस जीरो बेस्ड सिस्टम में या तो हंड्रेड परसेंट आरक्षण हो जाएगा, या आरक्षण जड़ से ही मिट जाएगा तब कौन हल्ला करेगा. परंतु इसे कोई लागू नहीं करेगा. इससे राजनीतिक पार्टियों के बेस जीरो हो जाने का खतरा जो है.

जीरो बेस्ड सिस्टम के नए नए प्रयोग किये जा सकते हैं. मसलन किसी विभाग में घूस और परसेंटेज की वर्तमान दर को जीरो बेस्ड मानकर आगे के वर्षों के लिए दर तय किए जा सकते हैं. भई, चहुँ ओर मंहगाई जो बढ़ रही है - ऐसे में यह जीरो बेस्ड तंत्र बहुत काम का होगा.

मुझे और अजीब खयालात आ रहे हैं. मैं अपनी इस चिट्ठा प्रविष्टि को जीरो बेस्ड मानकर यहीं से शुरूआत मानूं तो हो सकता है कि मेरे लेखन में और तेज़ी आएगी. दिन में दो-दो पोस्टें करने लगूं. परंतु फिर पाठकों के खोने का खतरा है. पाठक भी जीरो बेस्ड सोचने लगेंगे - क्या सुबह शाम रोज रोज लिखता है ! इतना कोई कैसे पढ़ेगा! इसको जीरो करो.

जीरो बेस्ड तंत्र के और अधिक अनुसंधान में मैं अभी भी लगा हुआ हूँ...

.

.


जस्ट एनॉदर रीव्यू...

गाहे बगाहे, मैडपंच की याद दिलाती पत्रिका - जैम का मैं नियमित ग्राहक हूं. यह पत्रिका भारतीय डाक विभाग के भरोसे घर पर आती है चूंकि इसके मुरीद रतलाम में और नहीं हैं (यह यहाँ के न्यूज़ स्टैंड पर नहीं मिलती). परंतु सिर्फ आठ रुपल्ली (मैंने इसके बारे में पहले भी लिखा है) में मिलने वाली पत्रिका से पैसे कई गुना वसूल हो जाते हैं. और इसी वजह से बहुत बार डाक विभाग वाले मुझ पर अनुग्रह कर देते हैं - पैसा वसूलने ही नहीं देते.

इस बार (15-29 नवंबर 06) का अंक और ज्यादा पैसा वसूलने वाला लगा. पिछला दो अंक तो डाक विभाग में गायब ही हो गया था. पता नहीं क्यों इस बार डाक विभाग वालों ने इस अंक को छोड़ दिया. बहरहाल, उनका बहुत-बहुत धन्यवाद. इस अंक में रोमन हिन्दी में (अक्षय बकाया जी बहुत खुश होंगे) ग़ज़ल नुमा एक कविता छपी है, जो मुझे मेरे कॉलेज जीवन की याद दिला गई. आप भी याद कर सकते हैं-

इंजीनियरिंग शायरी

मैं स्टूडेंट नंबर 786

जब कॉलेज की सलाखों से बाहर देखता हूँ

दिन हफ़्ते महीनों को सेमेस्टर में बदलते देखता हूँ

इस कैंटीन से किसी सस्ते ढाबे की खुशबू आती है

ये बिल्डिंग मुझे सेंट्रल जेल की याद दिलाती है

ये प्रोफ़ेसर जो शक्ल से ही कैसे लगते हैं

और ये चार साल की डिग्री एक टॉर्चर है जिसे पढ़ाई कहते हैं

वो कहते हैं कि ये कॉलेज है

फिर कैसे मुझे ये जहन्नुम से बढ़कर लगता है

वो कहते हैं कि ये पढ़ाई है

फिर क्यूं मुझे ये टॉर्चर लगती है

मैं स्टूडेंट नंबर 786

- विनय टीएसईसी

(साभार, जैम पत्रिका)

.

.

इसी पत्रिका में यू-ट्यूब के कुछ मनोरंजक वीडियो की कड़ियाँ भी दी गई हैं. एक खास आपके लिए - अपनी बीड़ी आप यहाँ जला सकते हैं अगर आप पीते हैं :)

http://www.youtube.com/watch?v=buf13ZiDAZY

.

महा आनंद के साथ महा निर्वाण...

अगर आपको ओशो-नुमा, महा-आनंद के साथ-साथ महा-निर्वाण प्राप्त करना है तो आप आमंत्रित हैं रतलाम. यहाँ एक ऐसा ही स्थल है जहाँ आपके लिए यह सुविधा एक ही स्थल पर, एक साथ उपलब्ध है. मसीही कब्रस्तान के ठीक सामने महाकाल छोले टिकिया और महाकाल पानी पताशे!

सचमुच, नायाब जोड़ है कि नहीं?

.

.

मंड्रिवा लिनक्स 2007 : बहुभाषी लिनक्स हेतु एक शानदार विकल्प.

मंड्रिवा लिनक्स 2007 में 65 से अधिक भाषाओं का समर्थन है. हिन्दी, गुजराती, पंजाबी, तमिल इत्यादि समेत कई अन्य भारतीय भाषाओं का भी इसमें समर्थन है. मंड्रिवा संस्थापक का हिन्दी अनुवाद धनञ्जय शर्मा का है. मंड्रिवा को अपने कम्प्यूटर पर हिन्दी में संस्थापित करने के लिए निम्न, आसान चरण अपनाएँ-

मंड्रिवा लिनक्स 2007 संस्थापना के सबसे पहले चरण में भाषा चयन संवाद में जाने के लिए (जैसा कि नीचे दिए गए चित्र में दिया गया है) F2 कुंजी को दबाएँ.

अगले स्क्रीन पर आपको मंड्रिवा 2007 में उपलब्ध समर्थित भाषाओं की सूची दिखाई देगी. उस भाषा को चुनें जिसे आप डिफ़ॉल्ट अंग्रेज़ी के अतिरिक्त संस्थापित करना चाहते हैं. यदि आप एक से अधिक भाषा संस्थापित करना चाहते हैं तो Multi Languages टैब पर क्लिक करें. फिर उसमें उपलब्घ जितनी भाषाओं को संस्थापित करना चाहते हैं, उसे चुनें.

.

.

परंतु यह ध्यान रखें कि कुंजीपट भाषा खाका को अंग्रेज़ी में ही रखें, चूंकि टर्मिनल पर आपको हिन्दी में कमांड देने की सुविधा अभी नहीं है, और हो सकता है कि संस्थापना के दौरान कमांड देने की आवश्यकता पड़ जाए - जैसे कि उपयोक्ता नाम और पासवर्ड सेट करने या बूट पार्टीशन को पारिभाषित करने - इत्यादि.

मंड्रिवा का डिस्क पार्टीशन औजार बहुत ही अच्छा, इस्तेमाल में आसान और सरल सा है. यदि मंड्रिवा संस्थापक आपकी भाषा में उपलब्ध है जैसे कि हिन्दी तो यह डिस्क पार्टीशनर भी उस भाषा में उपलब्ध होता है.

मंड्रिवा 2007 के हिन्दी वातावरण में एक बग है - संस्थापना के चरणों में तो आपको हिन्दी बढ़िया दिखाई देती है, परंतु जब आप संस्थापना के पश्चात् हिन्दी वातावरण में बूट करते हैं तो गनोम में आपको हिन्दी खंडित दिखाई देती है और केडीई में हिन्दी की जगह डब्बे. जाहिर है, हिन्दी का फ़ॉन्ट सही प्रकार से संस्थापित होना रह जाता है. इसे सही करना आसान है. किसी एक यूनिकोड हिन्दी फ़ॉन्ट की प्रतिलिपि डिरेक्ट्री /usr/share/fonts/TTF में डालें और फिर chkfontpath कमांड चलाएँ. बस, हिन्दी फ़ॉन्ट सही संस्थापित हो जाता है और आपका मंड्रिवा बढ़िया, हिन्दी-मय कुछ यूं हो जाता है-.


आदमी आतंकित है बंदर से

दिल्ली में बंदर का आतंक इतना ज्यादा हो गया कि एक राष्ट्रीय दैनिक के संपादकीय पृष्ठों में इस आतंक को जगह मिल गई. लगता है कि संपादक का व्यक्तिगत आतंक का अनुभव रहा होगा. कोई बंदर उनके दफ़्तर में घुस आया होगा और बोला होगा कि अरे! संपादक, तुम्हारे बंधु-बांधवों ने हमारे रहने के ठौर ठिकाने - जंगलों को काट लिया है और उस पर यह दफ़्तर बना दिया है तो अब हम कहाँ रहने जाएँ. दफ़्तर खाली करो. और यह कह कर बत्तीसी निकाल कर चिढ़ाया होगा. ऐसे में आतंक का संपादकीय निकलना ही है. और इससे पहले कि बंदर मुझे आकर आतंकित करे, बंदर के आतंक को समर्पित है यह व्यंज़ल -

व्यंज़ल

*****

आदमी आतंकित है बंदर से

कितना कमजोर है अंदर से


वो गए जमाने की बातें थीं

अब सब मिलता है नंबर से


प्यार की परिभाषाएं बहुत हैं

सोच मिलता नहीं चंदर से


कुछ नहीं होगा यकीन करो

जिंदा है अब तक लंगर से


कम या ज्यादा का है फर्क?

पराजय तो हुआ है अंतर से


रवि मानता है कि व्यवस्था

अनुकूल हो जाता है जंतर से

*****

चंदर = धर्मवीर भारती के उपन्यास ‘गुनाहों का देवता' का एक पात्र

जंतर = रिश्वत

.

.

सप्ताह के कुछ कार्टून :-











इंडीब्लॉगीज़ चिट्ठा पुरस्कारों 2006 के लिए आपने अपनी कमर कस ली है कि नहीं...

दोस्तों, प्रतिष्ठित चिट्ठा पुरस्कार इंडीब्लॉगीज़ 2006 के लिए सुगबुगाहट शुरू हो चुकी है. आप बहुत से मामलों में मदद कर सकते हैं, और इस पुरस्कार से सम्बद्ध हो सकते हैं, जैसे-

इंडीब्लॉगीज़ पुरस्कार की प्रतिष्ठा इसलिए भी बढ़ जाती है क्योंकि पिछले वर्ष माइक्रोसॉफ़्ट ने इंडिक-ब्लॉगर पुरस्कार बांटे. इनमें हिन्दी पुरस्कारों में ही बड़ी भ्रांतियाँ रहीं, और आमतौर पर यह माना गया कि पुरस्कार देने में कुछ अहम बातों का ध्यान नहीं रखा गया. पुरस्कार के साथ दिए जा रहे गुडीज़ भी माइक्रोसॉफ़्ट के आकार और इंडीब्लॉगीज़ के आकार के अनुरूप सम्मानजनक नहीं थे.

और, आपको विश्वास हो या न हो, इनाम मिलना तो दूर की बात, आज तक माइक्रोसॉफ़्ट की तरफ से किसी तरह की आधिकारिक सूचना इनके विजेताओं को नहीं मिली है. जबकि माइक्रोसॉफ़्ट के जाल स्थल पर विजेताओं की सूची टंगी हुई, मेरे जैसे विजेताओं (?) को मुँह चिढ़ा रही है! उनके फ़ोरम पर मैंने कुछ बात करने की कोशिश की दोएक दफ़ा, परंतु माइक्रोसॉफ़्ट-भाषा-इंडिया के फ़ोरम मॉडरेटर में दिल गुर्दा नहीं है कि वे हमारी बात को वहाँ रखें!

ऐसे में, भले ही इंडीब्लॉगीज़ पुरस्कारों के पीछे किसी बड़ी संस्था का हाथ न हो, इस पुरस्कार की प्रक्रिया के पेशेवराना अंदाज इसकी प्रतिष्ठा को माइक्रोसॉफ़्ट-भाषा-इंडिया पुरस्कारों की तुलना में हजारों-लाखों गुना ज्यादा बढ़ाते हैं.

.

.


तो, फिर, देर किस बात की? आइए, हो जाएँ इंडीब्लॉगीज़....

.

हर चिट्ठाकार व्यावसायिक है...

चिट्ठाकारिता पर व्यावसायिकता की बातें होने लगे तो मेरे कान खड़े होना स्वाभाविक है. और इससे पहले कि देबाशीष की लिखी रीव्यू-मी की समीक्षा मैं पूरा पढ़ पाता, मैंने अपने आप को रीव्यू-मी की साइट पर पंजीकृत पाया.

रीव्यू-मी पर पंजीकरण का सारा सिलसिला अत्यंत आसान है. बस अपना नाम पता और अपने चिट्ठे का नाम भरें, वैध ई-मेल भरें और बस हो गया. हाँ, आपको यहां पंजीकृत होने के लिए, पहली और अंतिम आवश्यकता, अपने जीवन के कम से कम 14 वसंत देख चुके होने चाहिएँ.

पंजीकरण के बाद बारी आती है अपने ब्लॉग को रीव्यू-मी पर समीक्षा लिखने हेतु जमा करने व उसे स्वीकृत करवाने की. आपके ब्लॉग को स्वीकृत करने के लिए रीव्यू-मी की कुछ शर्तें हैं. मैंने अपना हिन्दी चिट्ठा जमा किया तो पता चला कि यह तो पहले ही स्वीकृत है! फिर अंग्रेज़ी चिट्ठे को जमा करना चाहा तो पता चला कि यह भी पहले से ही स्वीकृत है! मेरे दो-दो चिट्ठों को रीव्यू-मी के लिए समीक्षा लिखने लायक पहले से ही मान लेने के पीछे क्या राज है यह सही-सही तो नहीं पता, परंतु लगता है कि इसमें पहले से लगे गूगल एडसेंस का बड़ा योगदान है. जो हो, मुझे तो अपने चिट्ठे के रीव्यू-मी के लिए लिखने की स्वीकृति से मतलब था, न कि उसके तौर तरीकों से. बहरहाल, और जानकारियाँ बारंबार पूछे जाने वाले प्रश्नों में दी गई हैं, ऐसा कहा गया है, परंतु मेरी जिज्ञासा का समाधान नहीं हो पाया है.

.

.

मेरी स्वीकृति के तत्काल बाद दन्न से एक समीक्षा लिखने के लिए प्रस्ताव आया. वह भी मानदेय युक्त! परंतु, अरे! यह क्या? इस तरह की, इस उत्पाद की समीक्षा नुमा नुक्ताचीनी तो देबू दा पहले ही कर चुके हैं. परंतु फिर पता चला कि रीव्यू-मी की समीक्षा कम से कम सवा-हजार चिट्ठाकारों से करवाया जाना है. मैंने तत्काल हामी भरी. मुझे 48 घंटों का समय मिला रीव्यू-मी की समीक्षा लिखने को. इतना समय किसने देखा है? यूं तो हर चिट्ठाकार अपने चिट्ठे के प्रति पेशेवराना दृष्टिकोण रखता है, परंतु मेरे जैसे, चिट्ठों में व्यावसायिकता की बातें करने वाले को गंभीर पेशेवराना रवैया अख्तियार करना ही चाहिए, लिहाजा सोमवारी चिट्ठाचर्चा भले ही बाद में हो, या न हो, यह समीक्षा जरूर होनी चाहिए, और पहले होना चाहिए. दोपहर का भोजन एक तरफ गोल कर यह समीक्षा लिखी जा रही है, अतः इस समीक्षा में दर्द, वज़न और बात आनी ही है. समीक्षा लिखने में वैसे भी कम से कम दो सौ शब्दों की सीमा है, अतः इधर-उधर की, मसलन मौसम के मिज़ाज और सब्जी में नमक के मात्रा की भी बातें तो करनी ही होंगी.

बहरहाल, जैसे तैसे मैंने रीव्यू-मी की यह समीक्षा लिख ही ली है. अब इसे अपने चिट्ठे पर प्रकाशित करना है. रीव्यू-मी की यही खासियत है. आपको अपनी समीक्षा पहले से स्वीकृत, आपके अपने चिट्ठे पर ही प्रकाशित करना है, और उसे वहां प्रकाशित रहने देना है. विचार नायाब है, नया है. परंतु क्या यह चल पाएगा?

मुझे तो नहीं लगता. कुछ माने हुए चिट्ठाकारों, मसलन अमित अग्रवाल जैसे सफल , अंग्रेजी के चिट्ठाकारों को भले ही दिन में दर्जनों समीक्षाएँ लिखने को मिल जाएँ, परंतु सर्वाधिक सफल हिन्दी चिट्ठाकारों, जिनके पाठक आज भी, दिन भर में सौ की संख्या में भी नहीं पहुँच पाते, उन्हें अपने उत्पाद की समीक्षा करने कौन देगा? रीव्यू-मी के जरिए कोई भी अपने उत्पाद की समीक्षा उसमें पंजीकृत चिट्ठाकारों से लिखवा सकता है. और जाहिर है, समीक्षा के लिए चिट्ठाकारों के चुनाव में अहम बात चिट्ठे के पाठक वर्ग और उसके दायरे की होगी.

और, इसी लिए जाने क्यों, मुझे तो यही लगता है कि रीव्यू-मी के लिए यह मेरी पहली व अंतिम समीक्षा है. पर, आगे किसने देखा है? बिल गेट्स ने कभी कहा था कि किस बेवकूफ़ को 640KB से ज्यादा मेमोरी की आवश्यकता होगी?

.


ब्लॉगर की परम क्षमा?


ब्लॉगर की लोकप्रियता के कारण और इसके विशाल उपयोक्ता, डाटाबेस और स्पैमरों की मार के चलते यह हमेशा ही भार से दबा चलता है. इसी वजह से इसमें हमेशा कुछ न कुछ तकनीकी समस्याएँ होते रहती हैं जिससे औसतन, ब्लॉगर दिन में दो बार डाउन होता ही है.

पिछले दिनों भी बहुत समस्याएँ हुईं. ऐसे में सभी ब्लॉगर उपयोक्ताओं को ब्लॉगर स्टेटस की ताजा जानकारी रखना उचित होगा. अपने न्यूज रीडर पर ब्लॉगर स्टेटस फ़ीड का ग्राहक बनना ज्यादा उचित होगा. फ़ीड का यूआरएल यह है-

http://blogger-status.blogspot.com/atom.xml

ब्लॉगर भी शराफ़त दिखाता है. जब भी समस्या होती है, अपने उपयोक्ताओं से क्षमा मांगता है. जब ज्यादा समस्या होती है तो ज्यादा क्षमा मांगता है.

और जब परम (सुपर) समस्या होती है तो?

वह परम (सुपर) क्षमा मांगता है!


अद्यतन: ब्लॉगर की तरफ से ब्लॉगर बज़ में भी क्षमा प्रार्थना की गई है, और विस्तार से पिछले सप्ताह की लगातार हो रही समस्या के बारे में बताया गया है. यह भी बताया गया है कि ब्लॉगर के सर्विस इंजीनियर, विश्वास कीजिए, ब्लॉगरों से ज्यादा परेशान रहे!

हाँ, सुकून की खबर यह है कि अब ब्लॉगर बीटा इस्तेमाल के लिए पूरा तैयार है, और शीघ्र ही हमें वहाँ जाने का निमंत्रण मिल जाएगा (नए ब्लॉगर बीटा पिछले स्प्ताह की समस्या से मुक्त रहा था) :)

तो, अबकी अगर मेरे ब्लॉगर ब्लॉग को पढ़ने में आपको कुछ समस्या होगी , तो आपसे पहले से ही परम क्षमा मांगते हैं, ब्लॉगर की तरफ से भी और अपनी तरफ से भी!
.

.

.

इलेक्ट्रॉनिकी आपके लिए - गौरवशाली 150 वां अंक

विज्ञान और सूचना तकनीक का ज्ञान बांटने वाली पत्रिका - ‘इलेक्ट्रॉनिकी आपके लिए' भोपाल (मध्यप्रदेश) से पिछले 19 वर्षों से लगातार प्रकाशित हो रही है. 7 नवंबर को इसके 150 वें अंक के लोकार्पण के अवसर पर मेरा भी एक प्रस्तुतिकरण था. विषय था - ‘हिन्दी कम्प्यूटिंग - भूत, वर्तमान और भविष्य'. रवीन्द्र भवन के खचाखच भरे हाल में जब हिन्दी की गाथा सुनाई गई, तो सुई-टपक सन्नाटा छाया रहा. लोग कम्प्यूटरों का इस्तेमाल करते तो हैं, परंतु कम्प्यूटरों में हिन्दी भी छा चुकी है, यह उन्हें पता ही नहीं है!

प्रस्तुतीकरण में विंडोज, लिनक्स तथा गूगल (खोज व मेल) के साथ साथ हिन्दी चिट्ठा जगत के कुछ स्क्रीनशॉट दिखाए गए तो सभागार प्रफुल्लित हो उठा. और देर तक तालियाँ बजती रहीं.

‘इलेक्ट्रॉनिकी आपके लिए' पत्रिका का प्रकाशन भोपाल की संस्था आईसेक्ट (आल इंडिया सोसाइटी फ़ॉर इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड कम्प्यूटर टेक्नॉलाज़ी) करती है. आईसेक्ट की परिकल्पना आज से बीस वर्ष पूर्व संतोष चौबे ने की थी. वे अभियांत्रिकी में स्नातक थे और आईएएस के जरिए भारतीय प्रशासनिक सेवा में थे. उन्होंने जब देखा कि सरकारी कार्यों में हाथ बंधे होते हैं तो उन्होंने वह नौकरी छोड़ दी और कम्प्यूटर सिखाने की इस संस्था आईसेक्ट की नींव डाली. आज यह संस्था और इस संस्था के कम्प्यूटर शिक्षा के मॉडल इतनी प्रगति पर हैं कि भारत सरकार आईसेक्ट मॉडल की तर्ज पर गांवों में एक लाख कम्प्यूटर शिक्षा केंद्र खोल रही है. आईटी क्षेत्र में इनके योगदान के फलस्वरूप संतोष चौबे को वर्ष 2005 का भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदत्त इंडियन इनोवेशन पुरस्कार प्राप्त हो चुका है.

कार्यक्रम के दौरान ही डॉ. वि. वि. गर्दे जी से मुलाकात हुई. बीएचईएल भोपाल में पहले पहल कम्प्यूटरों को लाने का श्रेय उन्हें ही जाता है. सत्तर वर्ष से अधिक की उम्र हो चुकी है, और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से वर्तमान में वे पैरों से चलने से लाचार हैं, फिर भी कई नामी कंपनियों के सलाहकार मंडल में अभी भी हैं. आप 1964 से कम्प्यूटरों का प्रयोग करते आ रहे हैं और उस जमाने से बीएचईएल जैसी सरकारी संस्था में पूर्ण कम्प्यूटरीकरण का ख्वाब देखा करते थे.

गर्दे जी ने कम्प्यूटरों के इस्तेमाल के बारे में कुछ मनोरंजक बातें भी बताईं. वे केड-केम के लिए कुछ कम्प्यूटरों का आयात करना चाहते थे. तब रीफ़ॉर्म नहीं थे, और भारत सरकार से आयात की अनुमति लेना होती थी. जाहिर है, उन्हें आयात की अनुमति नहीं मिली. तब उन्होंने दूसरा रास्ता निकाला - उन्होंने सेवा का करार किया, और कम्प्यूटर किराए पर लाए. इसमें सरकार को कोई आपत्ति नहीं थी, भले ही किराया साल भर में खरीद कीमत से भी ज्यादा हो रहा था.

बहरहाल, काम जारी रहा, और कुछ साल भर बाद बीएचईएल के वित्त विभाग के अफ़सरों का फरमान आ गया कि आप जो कम्प्यूटरों पर खर्च कर रहे हैं उसके एवज में आपका परिणाम क्या रहा और कम्प्यूटरों के एवज में क्यों न कुछ कर्मचारी कम कर दिए जाएं? गर्दे जी ने परिणाम दिखाने के लिए एक साल की मोहलत मांगी. उस एक साल में उन्होंने चतुराई भरा पहला काम यह किया कि वित्त विभाग का सारा कार्य कम्प्यूटरों पर स्थानांतरित कर दिया. तब सारा कार्य कोबोल में होता था और प्रायः हर चीज की इन-हाउस प्रोग्रामिंग करनी पड़ती थी.

.

.

साल भर के भीतर ही वित्त विभाग पूरी तरह से कम्प्यूटरों पर निर्भर हो गया. लंबे लंबे आंकड़ों की गणना कैल्कुलेटरों से करने में और रपट बनाने में वित्त विभाग को पसीना आता रहता था, जिसे कम्प्यूटरों के इस्तेमाल ने दूर कर दिया था. साल भर बाद जब वित्त विभाग से फिर पूछा गया कि परिणामों को गिनाएँ तो गर्दे जी ने उत्तर दिया कि परिणाम भौतिक रूप में तो गिनाए नहीं जा सकते हैं, इनका प्रभाव लंबे समय बाद देखा जा सकेगा, परंतु अगर वित्त विभाग समझता है कि यह निवेश अ-वित्तीय है तो हम कम्प्यूटरीकरण का काम खुशी खुशी बंद कर सकते हैं.

वित्त विभाग में हड़कंप मच गया. कम्प्यूटरों पर पूरी तरह निर्भर हो चुके वित्त विभाग ने अपनी स्वीकृति दे दी. फिर इसके बाद तो बीएचईएल भोपाल पूरे देश में केड-केम का अग्रणी केंद्र बन गया और करोड़ों रुपयों का लाभ भी होने लगा.

कम्प्यूटरों के इस्तेमाल से संबंधित एक और मनोरंजक बात उन्होंने बताई. जब बीएचईएल भोपाल में नए नए कम्प्यूटर आए तो उनको चलाना सिखाने के लिए अधिकारियों/अभियंताओं की टोलियाँ बनाई गई. गर्दे जी ने शीघ्र ही अनुभव किया कि वरिष्ठ अधिकारी इनमें कोई रूचि नहीं ले रहे हैं. मामले की तह पर जाने से पता चला कि कम्प्यूटरों के भय के चलते व परफ़ॉर्मेंस एंक्जाइटी के कारण वरिष्ठ अफ़सर अपने कनिष्ठ अफ़सरों के साथ कम्प्यूटर कक्षा में जाना ही नहीं चाहते थे. लिहाजा एक जैसे स्तर के अधिकारियों को ही एक बैच में लिया गया, और फिर मामला बढ़िया चला.

कार्यक्रम में पत्रिका ने अपने लेखकों का भी सम्मान किया. विज्ञान व तकनीकी लेखकों से अनौपचारिक चर्चा में पता चला कि - कुछ पाठ्य पुस्तकों में ‘ज्ञानी अनुवादकों' ने बढ़िया, नायाब अनुवाद कर दिए हैं. कुछ उदाहरणार्थ नमूने प्रस्तुत हैं-

Organic manure - लैंगिक खाद

Animal Husbandry - पशुपतित्व

Villium Hunter - विलियम शिकारी

इत्यादि.

बहरहाल, केडीई में (*निक्स का विंडो वातावरण) एक अनुप्रयोग है जिसका नाम है - KColorChooser. इसका अनुवाद क्या होगा? याद रखें यह एक ‘नाम' है. के-कलर-चूसर? , के-रंग-चयनक या कुछ और?

मरफ़ी के नए नियमों का जन्म...

पिछले सप्ताह एक कार्यशाला के सिलसिले में मैं प्रवास पर था. सोचा था कि समय चुराकर कुछ कार्यों तो इस बीच निपटा ही लिया जाएगा - मसलन साप्ताहिक, सोमवारी चिट्ठाचर्चा लेखन - चूंकि अब जालस्थल पर बहुत से औजार उपलब्ध हैं जिनसे ऐसे कम्प्यूटरों पर भी हिन्दी में काम किया जा सकता है जिनमें हिन्दी की सुविधा नहीं भी हो. परंतु कार्यक्रम बहुत ही कसा हुआ था, और अंतिम क्षणों में अनूप जी से निवेदन करना पडा.

कितना सही है मरफ़ी का यह नियम:

जब आप सोचते हैं कि कोई कार्य आप जैसे भी हो कर ही लेंगे, तो किसी न किसी बहाने, हर हाल में वह कार्य नहीं ही हो पाता है!

कार्यशाला के आयोजकों ने हमें इंटरनेशनल हॉस्टल पर ठहराया था, जहाँ सुविधाएँ अंतर्राष्ट्रीय स्तर की थीं. इसका स्नानागार ही मेरे मकान के लिविंग रूम जितना बड़ा था, जिसका फर्श इटालियन मार्बल का था, और डिजाइनर शॉवर लगा हुआ था - यानी सब कुछ भव्य, क्लास था.

भले ही मैं अपने घर में पत्नी द्वारा स्नान के लिए स्नानागार में अकसर धकिया कर भेजा जाता हूँ, परंतु इस भव्य स्नानागार को देखते ही लगा कि अरे! मैं तो सदियों से नहीं नहाया हूँ, और रात्रि का समय होने के बावजूद स्नान के लिए मन मचल उठा.

विटामिन युक्त गार्निए शॅम्पू की खुशबू उस विशालकाय, भव्य स्नानागार में जरा ज्यादा ही आनंदित कर रही थी.

मरफ़ी का यह नियम भी सत्य है-

मुफ़्त के साबुन को ज्यादा मात्रा में और ज्यादा देर तक मलने में ज्यादा आनंद आता है, भले ही उसमें ज्यादा मैल निकालने की ज्यादा क्षमता न हो!

और, इससे पहले कि मैं अपने मुँह पर फैले साबुन के झाग को धो पाता, अचानक ही शॉवर में पानी आना बंद हो गया. शायद मैं स्नानागार में अधिक देर रह चुका था और शायद इंटरनेशनल हॉस्टल का सारा पानी इस्तेमाल कर चुका था. परंतु, अरे नहीं! मैंने तो बस, अभी शैम्पू लगाया ही था.

पानी कहीं नहीं आ रहा था. बेसिन में भी नहीं, और फ़्लश के टैंक में भी नहीं. थोड़ी देर पहले ही तो मैंने फ़्लश चलाया था.

जैसे तैसे मैंने अपने चेहरे का साबुन थोड़ा सा पोंछा और स्वागत कक्ष को फोन लगाया. मुझे बताया गया कि ऊपर टंकी में पानी चढ़ाने वाले पम्प में कुछ खराबी आ गई है, और लोग लगे हुए हैं उसे दुरूस्त करने में और कोई पाँचेक मिनट में पानी आ जाएगा.

.


.

पाँच के बदले पच्चीस मिनट बीत गए. पानी नहीं आया. स्वागत कक्ष को फिर फोन किया. पता चला कि कुछ कह नहीं सकते कि पम्प कब ठीक होगा. चार आदमी ठीक करने में लगे हुए हैं. गोया कि एक खराब पम्प को ठीक करने में जितने ज्यादा आदमी लगेंगे वह उतनी ही जल्दी ठीक होगा! मगर मैं विद्युत पम्पों के बारे में पहले से जानता था और इसीलिए इस बात से मुझे खुशी नहीं मिली. ऐसे उत्तर तो मैं अपने उच्चाधिकारियों और जनता को अपनी नौकरी के दौरान दिया करता था - ट्रांसफ़ार्मर ठीक करने में दो-गुने, तीन गुने आदमी लगे हुए हैं - जल्दी से जल्दी बिजली सप्लाई चालू कर दी जाएगी. मुझे समस्या का अहसास हो गया. मैंने असहज होते हुए कहा कि भाई, मैं नहा रहा था और बीच में ही पानी चला गया. मेरे बदन पर तो पूरा साबुन लगा हुआ है. मैं ऐसे कब तक रहूँगा? रात बीत रही है.

स्वागत कक्ष को मेरी विकट स्थिति का भान हुआ होगा लिहाजा वहाँ से कोई दर्जन भर मिनरल वॉटर की बोतलें भिजवा दी गईं. जैसे तैसे मैंने अपने बदन से साबुन छुड़ाया. भव्य स्नानागार मुँह चिढ़ा रहा था. मरफ़ी के कुछ बढ़िया नियमों का जन्म हो चुका था -

- भव्य स्नानागार के बारे में जब आप सोचते हैं कि सब कुछ भव्य है तो पता चलता है कि उसके शॉवर में तो पानी ही नहीं है!

- साबुन लगाने के बाद ही पता चलता है कि शॉवर में पानी आना बंद हो गया है.

- स्नानागार में साबुन लगाने से पहले अपने लिए पानी की एक बाल्टी भर रखें - और भव्य स्नानागार में दो बाल्टी.

**-**

अपने चिट्ठे पर पुस्तचिह्नक लगाएँ

देबाशीष से उनके इस पोस्ट पर पुस्तचिह्नकों की सुंदर सी लड़ी के बारे में पूछा तो पता चला कि यह कार्य वर्डप्रेस के एक प्लगइन के जरिए उन्होंने किया है. ब्लॉगर के लिए प्लगइन की आवश्यकता तो नहीं है, हाँ, अगर आप गूगल पर खोजें तो आपको पता चलेगा कि पुस्तचिह्नकों की लड़ियों के लिए ब्लॉगर टैम्प्लेट डालने हेतु बहुत से जाल स्थलों पर ढेरों तैयार स्क्रिप्ट तथा कोड उपलब्ध तो हैं ही, आपके मनपसंद पुस्तचिह्नकों की लड़ियों के लिए स्वचालित रूप से स्क्रिप्ट तैयार करने की बहुत सी साइटें भी हैं. अगर आप इस चिट्ठे पर तथा रचनाकार पर लगे पुस्तचिह्नकों का जैसा का तैसा इस्तेमाल करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए कोड को नकल कर अपने ब्लॉगर टैम्प्लेट में चिपकाएँ.

अब सवाल है किस स्थान पर. पुस्तचिह्नकों का इस्तेमाल चिट्ठा प्रविष्टि या संपूर्ण चिट्ठा के लिए किया जा सकता है. यह कोड चिट्ठा प्रविष्टि के लिए है. अतः बेहतर होगा कि इसे चिट्ठा प्रविष्टि के अंत में जहाँ टिप्पणियां खत्म होती हैं, वहां इसे चिपकाएं (वैसे आप चिट्ठे के आरंभ में भी, शीर्षक के ठीक बाद इसे चिपका सकते हैं, या बाजू पट्टी में भी - चुनाव आपका है जो कि चिट्ठा टैम्प्लेट की साजसज्जा पर निर्भर करता है). चिट्ठा प्रविष्टि के अंत में चिपकाने हेतु टैम्प्लेट में </Blogger> टैग पर जाएँ. यह कुछ कुछ ऐसा दिखाई देगा:

<!-- End #comments -->

</Blogger>

अब नीचे दिए गए कोड को इन दोनों के बीच में, </Blogger> टैक के ठीक ऊपर, नकल कर वहां चिपका दें-

<p><a href="http://blogmarks.net/my/new.php?mini=1&title=<$BlogItemTitle$>&url=<$BlogItemPermalinkURL$>" title="इसे ब्लॉगमार्क पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/84282833.png" alt="blogmarks" height="16" width="16" /></a> <a href="http://del.icio.us/post?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे डेलिशियस पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/80727937.png" alt="delicious" height="16" width="16" /></a> <a href="http://digg.com/submit?phase=2&url=<$BlogItemPermalinkURL$>" title="इसे डिग पर पुस्तचिह्नित करें!"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/89072042.png" alt="digg" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.furl.net/storeIt.jsp?u=<$BlogItemPermalinkURL$>&t=<$BlogItemTitle$>" title="इसे फ़र्ल पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/47600014.png" alt="furl" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.google.com/bookmarks/mark?op=add&bkmk=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे गूगल पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/10847106.png" alt="google" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.netvouz.com/action/submitBookmark?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>&popup=no" title="इसे नेटवाअज़ पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/47445448.png" alt="netvouz" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.newsvine.com/_tools/seed&save?u=<$BlogItemPermalinkURL$>&h=<$BlogItemTitle$>" title="इसे न्यूज़वेइन पर पुस्तचिह्नित करें" ><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/27563199.png" alt="newsvine" height="16" width="16" /></a> <a href="http://reddit.com/submit?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे रेडिट पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/10796749.png" alt="reddit" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.spurl.net/spurl.php?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे स्पर्ल पर पुस्तचिह्नित करें!"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/67105361.png" alt="spurl" height="16" width="16" /></a> <a href="http://technorati.com/faves?add=<$BlogItemPermalinkURL$>" title="इसे टेक्नोराती पर पुस्तचिह्नित करें" ><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/81723336.png" alt="Technorati" height="16" width="16" /></a></p>

आपके टैम्प्लेट का नया हिस्सा कुछ ऐसे दिखेगा:

<!-- End #comments -->

<p><a href="http://blogmarks.net/my/new.php?mini=1&title=<$BlogItemTitle$>&url=<$BlogItemPermalinkURL$>" title="इसे ब्लॉगमार्क पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/84282833.png" alt="blogmarks" height="16" width="16" /></a> <a href="http://del.icio.us/post?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे डेलिशियस पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/80727937.png" alt="delicious" height="16" width="16" /></a> <a href="http://digg.com/submit?phase=2&url=<$BlogItemPermalinkURL$>" title="इसे डिग पर पुस्तचिह्नित करें!"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/89072042.png" alt="digg" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.furl.net/storeIt.jsp?u=<$BlogItemPermalinkURL$>&t=<$BlogItemTitle$>" title="इसे फ़र्ल पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/47600014.png" alt="furl" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.google.com/bookmarks/mark?op=add&bkmk=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे गूगल पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/10847106.png" alt="google" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.netvouz.com/action/submitBookmark?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>&popup=no" title="इसे नेटवाअज़ पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/47445448.png" alt="netvouz" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.newsvine.com/_tools/seed&save?u=<$BlogItemPermalinkURL$>&h=<$BlogItemTitle$>" title="इसे न्यूज़वेइन पर पुस्तचिह्नित करें" ><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/27563199.png" alt="newsvine" height="16" width="16" /></a> <a href="http://reddit.com/submit?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे रेडिट पर पुस्तचिह्नित करें"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/10796749.png" alt="reddit" height="16" width="16" /></a> <a href="http://www.spurl.net/spurl.php?url=<$BlogItemPermalinkURL$>&title=<$BlogItemTitle$>" title="इसे स्पर्ल पर पुस्तचिह्नित करें!"><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/67105361.png" alt="spurl" height="16" width="16" /></a> <a href="http://technorati.com/faves?add=<$BlogItemPermalinkURL$>" title="इसे टेक्नोराती पर पुस्तचिह्नित करें" ><img src="http://img2.imagepile.net/images/ycc2106/81723336.png" alt="Technorati" height="16" width="16" /></a></p>

</Blogger>

अब टैम्प्लेट को सहेजें, संपूर्ण चिट्ठे को फिर से प्रकाशित करें. बस आपका काम हो गया!

.

.

वैसे, यदि आपको इस रेडीमेड कोड में मजा नहीं आया तो निम्न कड़ियों में जा देखें - पुस्तचिह्नकों के लिए आपको ढेरों औजार मिलेंगे.

3स्पॉट्स

प्रो-सीओ

ब्लॉगफ्रेश

ई-लैम्ब

बुकमार्क्ज

वर्डप्रेस के लिए तैयारशुदा पुस्तचिह्नक प्लगइन यहाँ से लें:

डबल्यूपी नोटेबल

और, अंत में, चेतावनी: वैसे तो ये कोड किसी भी ब्लॉग टैम्प्लेट में काम करेंगे, परंतु लेखक की ओर से कोई गारंटी नहीं. और, इस गंभीर चेतावनी पर जरूर ध्यान दें- टैम्प्लेट में किसी भी परिवर्तन से पहले उसका बैकअप बना लें. ब्लॉगर वैसे भी बहुत पंगा करता है- कल की ही बात लें, जगदीप डांगी का इंटरव्यू कोई दर्जन बार पुनः प्रकाशित करना पडा तब कहीं समस्या खत्म हुई!

आपके चिट्ठे को शुभ पुस्तचिह्नक कामनाएँ.

ग्रामीण परिवेश में कार्यरत हिन्दी भाषा के लिए समर्पित सॉफ़्टवेयर इंजीनियर जगदीप डांगी का एक खास साक्षात्कार

(जगदीप डांगी मध्यप्रदेश के एक छोटे से कस्बे गंजबासौदा में रहकर हिन्दी सॉफ़्टवेयर विकास में महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं. अधिक जानकारी के लिए यहाँ पढ़ें)

1) क्या आप पाठकों को अपने बारे में कुछ बता सकते हैं? ग्रामीण पृष्ठभूमि से होते हुए भी कम्प्यूटर के प्रति आपके अनुराग और उत्साह के पीछे कौन से कारण रहे?

मैं म.प्र. के विदिशा जिला के एक छोटे से शहर गंजबासौदा का निवासी हूँ। पांच भाइयों में मैं सबसे छोटा व अपने माता-पिता का सबसे लाड़ला बेटा हूँ। मैंने सन् 2001 में एस.ए.टी.आई. विदिशा से बी.ई. स्नातक सी.एस.ई. शाखा के तहत उत्तीर्ण की। मेरी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा हिंदी माध्यम से हुई। हायर सैकेण्डरी शिक्षा गणित-विज्ञान विषयों के साथ की और प्रथम श्रेणी में 84 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण की और जिला प्रावीण्य सूची में प्रथम स्थान व म.प्र. प्रावीण्य सूची में तीसवाँ स्थान प्राप्त किया। इसके उपरान्त घर पर ही पी.ई.टी. परीक्षा की तैयारी की और इसे उत्तीर्ण किया जिससे मेरा बी.ई., सी.एस.ई. शाखा के तहत एस.ए.टी.आई. विदिशा में चयन हो गया।

ग्रामीण व साधारण पृष्ठभूमि से होने के कारण कम्प्यूटर लाइन में मेरा एकाएक प्रवेश मेरे लिये सहज नहीं था, क्योंकि मेरे पिताजी एक साधारण किसान हैं जो कि गंजबासौदा के समीप एक बहुत ही छोटे से गाँव ग्राम भुँआरा में कृषि कार्य करते हैं, अत: मैं एक ग्रामीण परिवेश से होकर किसान परिवार से हूँ। गाँव में स्कूल न होने की वजह से पिताजी ने मुझे और भाईयों को पढ़ाने के लिये गंजबासौदा में ठहरा दिया। क्योंकि जब मैं लगभग सात वर्ष की उम्र का था तब मुझे पोलिओ हो गया और इसी के इलाज के दौरान एक इंजेक्शन का रिएक्शन हो गया और एक पैर के साथ-साथ एक आंख भी खराब हो गई। इस पूरे घटना क्रम के बाद लम्बे इलाज के दौरान मेरा जीवित बचना मेरे माता-पिता के लिए बहुत ही सुखद रहा। माता-पिता और भाईयों के समर्थन और हिम्मत ने अच्छी शिक्षा के लिये प्रेरित किया और ईश्वर की कृपा और आशीर्वाद से और अपने कठोर परिश्रम से अच्छी शिक्षा प्राप्त की और अंतत: बी.ई., सी.एस.ई. स्नातक प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। कम्प्यूटर लाइन एक टेबिल वर्क थी न कि फील्ड वर्क जो कि मुझे उपयुक्त थी और इसी उपयुक्तता के लिहाज से मेरे परिवार वालों ने मुझे इस लाइन में प्रवेश दिलाया था।

बी.ई. करने के बाद मैं अपने स्वयं के प्रोजेक्ट 'भाषा-सेतु' पर कार्य करने में जुट गया और लगभग चार वर्षों के अथक परिश्रम से इसे पूर्ण करने में काफी हद तक सफलता भी प्राप्त की। 'भाषा-सेतु' प्रोजेक्ट एक बहुभाषी प्रोजेक्ट है इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य विभिन्न भाषाओं को कम्प्यूटर पर एक दूसरे से जोड़ना है, यह प्रोजेक्ट हमारे देश में सॉफ़्टवेयर के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण योगदान देने के साथ साथ हमारे देश का काफी रुपया भी बचा सकता है जो कि हमारी सरकार दूसरे देशों से सॉफ़्टवेयर/तकनीकी खरीदने में खर्च करती है। यह प्रोजेक्ट ग्रामीण भारत में कम्प्यूटर व इंटरनेट के इस्तेमाल व सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी कार्य साबित हो सकता है जहाँ पर लोग कम्प्यूटर का उपयोग अपनी स्वयं की ही भाषा में सहजता से करना चाहते हैं। इस प्रोजेक्ट के तहत निम्नलिखित हिंदी सॉफ़्टवेयर हैं:-
1- हिंदी एक्सप्लोरर :: आई-ब्राउज़र++
2- अंग्रेज़ी से हिंदी व हिंदी से अंग्रेज़ी :: शब्दकोश
3- ग्लोबल वर्ड ट्राँसलेटर ( अंग्रेज़ी से हिंदी ) :: अनुवादक

2) वह कौन सी प्रेरणा थी जिसने आपको अंग्रेज़ी के जाल पृष्ठों को हिन्दी में अनुवाद के लिए सॉफ़्टवेयर औजार बनाने हेतु संबल प्रदान किया?

आज के दौर में इंटरनेट पर सभी तरह की महत्वपूर्ण जानकारियाँ व सूचनाएँ उपलब्ध हैं जैसे परीक्षाओं के परिणाम, समाचार, ई-मेल, विभिन्न प्रकार की पत्र-पत्रिकाएँ, साहित्य, अति महत्वपूर्ण जानकारी युक्त डिजिटल पुस्तकालय आदि। परन्तु ये प्राय: सभी अंग्रेज़ी भाषा में हैं। भारतीय परिवेश में अधिकतर लोग अंग्रेज़ी भाषा में निपुण नहीं हैं। अत: कई हिंदी भाषी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करने में भाषाई कठिनाई महसूस करते हैं और कम्प्यूटर के उपलब्ध होते हुए भी वह कम्प्यूटर व इंटरनेट का उपयोग करने से वंचित रह जाते हैं। यदि इंटरनेट एक्सप्लोरर का संपूर्ण इंटरफेस हिंदी (देवनागरी लिपि) में होने के साथ-साथ इसमें वेबपृष्ठ के अंग्रेज़ी पाठ को माउस क्लिक के माध्यम से हिंदी में अनुवाद करने की सुविधा सहित हो तो अंग्रेज़ी भाषा की बाधा हिंदी भाषी कम्प्यूटर उपयोक्ताओं के काम में बाधा नहीं रहेगी! इसी सोच ने मुझे इस दिशा में काम करने की प्रेरणा दी। वेबपृष्ठ पर अनुवाद सुविधा कम्प्यूटर उपयोक्ताओं के लिए इंटरनेट पर उपलब्ध सूचना को उनकी अपनी ही भाषा में समझने में सहायक होगी। अनुवाद सुविधा युक्त हिंदी एक्सप्लोरर न केवल अंग्रेज़ी भाषा की समस्या का हल है बल्कि सरकार द्वारा चलाए जा रहे तमाम ग्रामीण आई.टी. शिक्षा कार्यक्रम की सफलता की गारन्टी भी बन सकता है।

3) किसान पुत्र से लेकर इंडिक कम्प्यूटिंग के लिए समर्पित सॉफ़्टवेयर इंजीनियर बनने का रास्ता निश्चित रूप से आसान तो नहीं रहा होगा. अपनी अंतःप्रेरणाओं तथा कम्प्यूटर तकनॉलाज़ी पर अपनी रूचि के बारे में कुछ बताएँ.


चूँकि मैंने 12वीं कक्षा तक हिंदी माध्यम स्कूल में पढ़ाई की थी और जब कम्प्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए एस.ए.टी.आई. में दाखिला लिया तब मुझे अंग्रेज़ी भाषा की बाधा सामने आई। तब मुझे एहसास हुआ के एकाएक भाषाई माध्यम तबदील होता है तो तमाम तरह की कठिनाईयाँ सामने आती हैं। मैं अंग्रेज़ी भाषा में खास तौर से इसके वार्तालाप में निपुण नहीं था, इसलिये मुझे व्याख्याताओं के अंग्रेज़ी व्याख्यानों को समझने में काफी कठिनाई आती थी। पर हाँ मेरा गणित विषयक ज्ञान और तर्क क्षमता काफी अच्छी थी और उसी के बल पर मैं अपनी पढ़ाई पूरी कर सका। इसी तरह की भाषाई कठिनाइयाँ मुझे कम्प्यूटर पर खास तौर से इंटरनेट पर कार्य करते समय भी आती। मुझ जैसे करोड़ो हिंदी भाषी कम्प्यूटर उपयोक्ताओं को कम्प्यूटर के उपयोग में कई समस्याएँ सिर्फ अंग्रेज़ी भाषा में अपनी कमजोरी होने की वजह से आती हैं न कि इसकी तकनीकी की वजह से। अपने कैरियर में अंग्रेज़ी की तमाम परेशानियाँ झेलने व महसूस करने के बाद मैं कम्प्यूटर पर भाषाओं के बीच एक पुल बनाने के लिये प्रेरित हुआ और इस काम को अंजाम देने में जुट गया और 'भाषा-सेतु' प्रोजेक्ट के तहत एक हिंदी सॉफ़्टवेयर पैकेज तैयार किया। इसके लिए तमाम पुस्तकें और विभिन्न आई.टी. पत्रिकाएँ पढ़ीं तथा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आदि पर अपनी पकड़ को मजबूत किया और अपने आइडियास को कोड्स में तबदील करने के लिए पीसी पर दिन-रात जुटा रहा, की-बोर्ड की कुंजिंयों में दिन का उजाला तथा रात का अंधेरा भूल जाने के बाद इस कार्य को लगभग पूरा करने में सफलता प्राप्त की।

.

.

4) हिन्दी में इंटरनेट ब्राउज़र बनाने का विचार कैसे उभरा? इस कार्य में आपको किस तरह की, कैसी कठिनाइयाँ हुईं?

मैं आई.टी. पत्रिकाओं का नियमित पाठक था और प्रत्येक माह एक या दो पत्रिकाएँ खरीदता था, इन पत्रिकाओं के साथ प्राय: सीडी आती थी जिसमें कई महत्वपूर्ण जानकारी युक्त आर्टिकल्स और कई तरह के सूचनाप्रद मैटर होते थे, ये आर्टिकल्स मात्र अंग्रेज़ी भाषा में ही होते थे और यह प्राय: एचटीएमएल फार्मेट में होने के कारण इंटरनेट एक्सप्लोरर में ही चलते थे जब भी मैं इन आर्टिकल्स को कम्प्यूटर स्क्रीन पर पढ़ता तो अंग्रेज़ी भाषा को समझने के लिये एक डिक्शनरी-पुस्तिका की सहायता लेनी पड़ती थी। और जब भी किसी अंग्रेज़ी शब्द का अर्थ नहीं आता तो उसे डिक्शनरी में से बार-बार देखना पड़ता था इससे काफी समय अर्थ ढूँढने में खर्च हो जाता था और तभी मेरे दिमाग में एक आइडिया आया कि यदि इंटरनेट एक्सप्लोरर हिंदी इंटरफेस में हो तथा इसमें वेबपृष्ठ पर हिंदी में अनुवाद की सुविधा भी हो तो यह अंग्रेज़ी भाषा की समस्या का समाधान हो जायेगा। तब मैंने मनन किया यदि इस कार्य को मैं कर पाता हूँ तो यह मेरी स्वयं की समस्या हल होने के साथ-साथ करोड़ों हिंदी भाषी लोगों की समस्या का निदान हो जायेगा और यह कार्य कम्प्यूटर उपयोग के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी साबित होगा। यही सोचकर मैंने हिंदी एक्सप्लोरर आई-ब्राउज़र++ को विकसित किया। इसके निर्माण में मुझे कई तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, तमाम तरह की कठिनाइयों के बावजूद ही ईश्वर की कृपा से और अपने कठिन परिश्रम से इस हिंदी एक्सप्लोरर को बनाने में सफल रहा।
हिंदी एक्सप्लोरर आई-ब्राउज़र++ :: (आईब्राउज़र के बारे में विस्तृत जानकारी यहाँ पढ़ें) यह विंडोज आपरेटिंग सिस्टम पर आधारित सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम है, जो कि विंडोज एक्सप्लोरर एवं इंटरनेट एक्सप्लोरर का संयुक्त रूप है। ''हिंदी एक्सप्लोरर'' की विशेषता यह है कि इसका संपूर्ण इंटरफेस हिंदी भाषा में होकर देवनागरी लिपि में है। इसकी सहायता से कोई भी साक्षर हिंदी भाषी व्यक्ति इसका उपयोग बखूबी अपनी भाषा में बिना किसी विशेष प्रशिक्षण के कम्प्यूटर पर विशेष तौर से इंटरनेट पर कार्य कर सकता है।''हिंदी एक्सप्लोरर'' में एक बहुत ही महत्वपूर्ण सुविधा है और वह है शब्द रूपांतरण (अनुवाद) की, इस बावत् इसमें तीन तरह के ट्रांसलेटर दिए गए हैं: लोकल वर्ड ट्रांसलेटर: यह एक ऐसा प्रोग्राम है जिसकी मदद से वेब-पेज पर उपस्थित अंग्रेज़ी शब्द पर माउस द्वारा क्लिक करने पर उस शब्द का न केवल हिंदी में अर्थ एवं उच्चारण बतला देता है, बल्कि उच्चारण सहित लगभग सभी समानार्थी शब्द भी देवनागरी लिपि में माउस पॉइन्टर के समीप दर्शा देता है। ग्लोबल वर्ड ट्रांसलेटर: यह एक ऐसा प्रोग्राम है जो कि ''हिंदी एक्सप्लोरर'' के अलावा विंडोज के किसी भी सॉफ़्टवेयर के अंदर कार्य करने में सक्षम है, तथा संबंधित अंग्रेज़ी शब्द पर माउस द्वारा क्लिक करते ही हिंदी अनुवाद कर देता है। वेब पृष्ठ पर स्थाई शब्दानुवाद: यह बहुत ही महत्वपूर्ण शब्दानुवाद सुविधा है इस का उपयोग यूजर वेब पृष्ठ पर उपस्थित अंग्रेज़ी के जटिल शब्दों का अनुवाद कर उस पृष्ठ का प्रिन्ट आउट ले सकता है। इस फलन के तहत और भी कई नवीन सुविधाएँ हैं। जो कि एक यूजर के लिए बहुत ही उपयोगी रहेंगी। इसके अलावा ''हिंदी एक्सप्लोरर'' में और भी अन्य खूबियाँ हैं, जैसे कि एक साथ कई फाइल खोलने की (उसी विंडो एवं अन्य विंडो में), एक साथ कई फाइल को सुरक्षित करने की, एक साथ कई फाइल सर्च कर स्वत: एक के बाद एक फाइल खोलने की, ऑटो हिस्ट्री व्यूअर, पॉप-अप ब्लोकिंग, एडिट मोड ऑन ऑफ, 'इंगलिश टू हिंदी' डिजिटल डिक्शनरी, वेब पृष्ठ पर उपस्थित शब्दों को हाइलाइट करने की, हिन्दी यूनिकोड आधारित पाठ लिखने उसे इंटरनेट से सर्च करने हिन्दी ई-मेल लिखने व भेजने आदि की सुविधाएँ प्रमुख हैं। इस सॉफ़्टवेयर में उपयोक्ता को हिंदी शब्द रूपांतरण की सुविधा तो मिलती ही है, लगभग 38,500 शब्दों का शब्दकोश भी इसमें अंतर्निर्मित है, जिसकी सहायता से उपयोक्ता को अंग्रेज़ी भाषा के जालपृष्ठों (वेब-पेजेस्) को हिंदी में समझने में सहायता मिलती है। यही नहीं इसका शब्दकोश परिवर्तनीय, परिवर्धनीय भी है जिसे उपयोक्ता अपने अतिरिक्त शब्दों को सम्मिलित कर और भी समृध्द बना सकता है। इस बाबत यदि उपयोक्ता को हिंदी टाइप करने में दिक्कत आती है तो इसमें ऑन स्क्रीन हिंदी कुंजीपटल की सुविधा भी दी गई है जिसे माउस द्वारा चलाया जा सकता है।

5) 36000 शब्दों युक्त अंग्रेज़ी-हिन्दी शब्दकोश! क्या यह परियोजना भी हिन्दी ब्राउज़र के साथ ही शुरू हुई थी? या आपको इसकी महत्ता बाद में समझ में आई?

'शब्दकोश' सॉफ़्टवेयर का निर्माण हिंदी एक्सप्लोरर सॉफ़्टवेयर के निर्माण के दौरान ही किया। हिंदी एक्सप्लोरर के अंतर्गत 'इंगलिश टू हिंदी' डिक्शनरी है जो कि सिर्फ अंग्रेज़ी के शब्द के विभिन्न अर्थ हिंदी में उच्चारण सहित बतलाने में सक्षम थी। परन्तु वह हिंदी के शब्द का अंग्रेज़ी अनुवाद करने में सक्षम नहीं थी। तभी मन में एक विचार आया की क्यों न दोनो अवस्थाओं अर्थात् 'हिंदी से अंग्रेज़ी, अंग्रेज़ी से हिंदी' में कार्य करने वाला एक डिक्शनरी सॉफ़्टवेयर बनाया जाये, और इस तरह से विचार आते ही इसको बनाने में जुट गया और 'शब्दकोश' सॉफ़्टवेयर का निर्माण किया।
'शब्दकोश' :: यह विंडोज आपरेटिंग सिस्टम पर आधारित सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम है। इसकी विशेषता यह है कि ये दोनों अवस्थाओं (हिंदी से अंग्रेज़ी, अंग्रेज़ी से हिंदी) में कार्य करने में सक्षम है तथा खोजे जा रहे अंग्रेज़ी या हिंदी शब्द के अर्थ के अलावा अन्य समानार्थी शब्द भी उच्चारण सहित तुरन्त दिखाता है व एक समान्तर कोश यानी 'थिसारस' की तरह भी उपयोगी है। इसमें शब्दों के अर्थ के साथ-साथ मुहावरे व वाक्य-खण्डों का भी संग्रह है। इस सॉफ़्टवेयर से उपयोक्ता अपने किसी भी शब्द के कई पर्यायवाची शब्दों को खोज सकता है इस बाबत इस में कई प्रकार से शब्दों को फिल्टर करने के लिये विशेष फलन दिये गये हैं। इन फलनों की सहायता से उपसर्ग या प्रत्यय के आधार पर भी शब्दों को अपने अनुसार खोज निकालने की सुविधा है। यह सॉफ़्टवेयर हिंदी के साथ-साथ अंग्रेज़ी भाषा को सीखने में बहुत ही उपयोगी है। इस सॉफ़्टवेयर में एक द्वि-भाषी ऑन स्क्रीन कुंजीपटल की विशेष सुविधा भी दी गई है, जिसे माउस द्वारा कमांड किया जा सकता है। वर्तमान में लगभग 38,500 शब्दों का शब्दकोश इसमें अंतर्निर्मित है और इसका शब्दकोश परिवर्तनीय, परिवर्धनीय भी है जिसे उपयोक्ता अपने अतिरिक्त शब्दों को सम्मिलित कर और भी समृद्ध बना सकता है।


6) आपके विचार में आज के दौर में क्षेत्रीय भाषाई कम्प्यूटिंग तथा अनुवादों का क्या कोई भविष्य है?

भारतीय ग्रामीण परिवेश में कम्प्यूटर पर कार्य अंग्रेज़ी भाषा में होने की वजह से कई हिंदी भाषी लोग इसके उपयोग से वंचित रह जाते हैं। हमारे देश में हजारों लाखों नागरिक हैं जो सफल व्यापारी, दुकानदार, किसान, कारीगर, शिक्षक आदि हैं। यह सब अपने-अपने क्षेत्र में कुशल एवं विद्वान हैं। लेकिन यह जरूरी नहीं है कि यह सब अंग्रेज़ी भाषा के जानकार हों। ग्रामीण परिवेश में रहने वाले कृषक जो कि इस देश की उन्नति का आधार हैं, यदि इन्हें और अच्छी तकनीकी की जनकारी अपनी भाषा में ही मिले तो सोने पे सुहागा होगा। कई लोग कम्प्यूटर का उपयोग अपनी स्वयं की भाषा जैसे हिंदी, उर्दू, बंगाली, तेलुगु, तमिल आदि में कर सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में करना चाहते हैं। इस स्थिति में कम्प्यूटर का क्षेत्रीय भाषाओं के सॉफ़्टवेयर के विकास के साथ-साथ अंग्रेज़ी भाषा का क्षेत्रीय भाषा मैं अनुवाद परम आवश्यक है। आजकल हमारे देश के कई लोग कम्प्यूटर की शिक्षा व इंटरनेट के उपयोग की ओर अग्रसर हैं क्योंकि यह उनके लिए कई महत्वपूर्ण जानकारियों का अथाह सागर है। पर यह सब अधिकांशतः अंग्रेज़ी भाषा न आने के कारण कई लोग इसको अपने व्यवहार में लाने से हिचकिचाते हैं। और इस तरह की भाषाई समस्या के समाधान के लिए क्षेत्रीय भाषाओं में कम्प्यूटर सॉफ़्टवेयर का विकास व अनुवाद होना बहुत ही जरूरी है। जब तक हमारे देश में क्षेत्रीय भाषाओं में कम्प्यूटर सॉफ़्टवेयर का विकास नहीं होगा तब तक इस भाषाई समस्या की बाधा सूचना प्रौद्योगिकी के विकास में रोड़ा बनी रहेगी।

7) अपने ग्लोबल वर्ड ट्रांसलेटर औजार - ‘अनुवादक' के बारे में हमें कुछ और बताइए. अन्य उपलब्ध अनुवादक औजारों की तुलना में इसकी क्या खास विशेषताएँ हैं?


अनुवादक या 'ग्लोबल वर्ड ट्राँसलेटर' एक बहुत ही प्रबल अनुवादक औजार है। उपयोक्ता इसका उपयोग ऑनलाइन व ऑफ़लाइन दोनों ही अवस्था में कर सकता है इसके संचालन के लिये इंटरनेट कनेक्शन की कतई जरूरत नहीं है। यह एक ऐसा सॉफ़्टवेयर है जो कि विंडोज के किसी भी सॉफ़्टवेयर के अंदर कार्य करने में सक्षम है, तथा संबंधित अंग्रेज़ी शब्द पर माउस द्वारा क्लिक करते ही उसका हिंदी अनुवाद विभिन्न समानार्थी शब्दों के साथ-साथ उच्चारण सहित कर देता है। इस सॉफ़्टवेयर का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह है की यह विंडोज के किसी एक विशेष अनुप्रयोग पर निर्भर नहीं है बल्कि इसको विंडोज के किसी भी एप्लीकेशन सॉफ़्टवेयर जैसे कि एमएस वर्ड, वर्डपैड, नोटपैड, एमएसआइई, फायरफोक्स ब्राउज़र आदि के अन्दर संयोजन कर अनुवाद की सुविधा का उपयोग किया जा सकता है। विंडोज के अंतर्गत इसका किसी भी सॉफ़्टवेयर के अन्दर कार्य कर सकने की क्षमता के कारण ही इसका नाम 'ग्लोबल' वर्ड ट्राँसलेटर रखा। यह विंडोज की मेमोरी में एक घोस्ट एप्लीकेशन की तरह संचालित रहता है और जैसे कि उपयोक्ता को किसी भी अंग्रेज़ी शब्द के अनुवाद की जरूरत होने पर उस शब्द पर माउस क्लिक करते ही माउस पांटर के समीप एवं विंडोज के टाइटल बार के समीप उपस्थित पट्टी पर उच्चारण सहित अनुवाद पलक झपकते ही प्राप्त कर सकता है। वर्तमान में लगभग 38,500 शब्दों का शब्दकोश इसमें अंतर्निर्मित है और इसका शब्दकोश परिवर्तनीय, परिवर्धनीय भी है जिसे उपयोक्ता अपने अतिरिक्त शब्दों को सम्मिलित कर और भी समृद्ध बना सकता है।

8) इस अच्छे खासे, 4 वर्षीय लंबी परियोजना के लिए आपने किसी से किसी तरह की कोई मदद ली? इस परियोजना को पूरा करने में आपको कैसी मुश्किलें आईं?

इस प्रोजेक्ट के तहत उपरोक्त हिंदी सॉफ़्टवेयर के निर्माण कार्य के दौरान मैंने किसी से भी मदद नहीं ली क्योंकि इस छोटे से कस्बे गंजबासौदा में इस सॉफ़्टवेयर क्षेत्र से संबंधित मेरा कोई भी परिचित व्यक्ति यहाँ नहीं था। किताबें ही मेरी परम मित्र थीं और ईश्वर ही सही मायनों में मेरे गुरु थे। मैं कम्प्यूटर पर भाषाओं को एक दूसरे से जोड़ कर भाषाई पुल बनाना चाहता था इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए मैंने तमाम तरह की पुस्तकों व पत्रिकाओं व इंटरनेट पर कार्य करने संबंधित प्रोग्रामिंग भाषाओं का गहराई से अध्ययन कर अपने आइडियास को उपयुक्त कोड्स में बदला। इस प्रोजेक्ट के निर्माण में कई तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। जैसे कि पुस्तकालयों की कमी का खलना, कार्य करने के दौरान कई बार घंटों तक बिजली का गुल रहना, और टेलीफोन व्यवस्था की स्थिति सही न होने की वजह से इंटरनेट का एक्सेस बहुत ही धीमी गति से होना आदि प्रमुख थीं। ये सभी समस्याएँ मात्र इस शहर के ग्रामीण अंचल में होने की वजह से थीं। कार्य के दौरान जब कभी भी कोई पुस्तक, सीडी या फ्लॉपी आदि की जरूरत पड़ती तो अपने बड़े भाई साहब के साथ भोपाल जाना पड़ता क्योंकि अपनी शारीरिक समस्या के कारण मैं अकेला सफर करने में असमर्थ था। मैं अपने परिवार के सभी सदस्यों भाईयों और मित्रों की सहायता का सदैव आभारी रहूँगा जिन्होंने मुझे इस कार्य को करने में हमेशा मुझे प्रोत्साहित करते हुए हौसले बढ़ाते रहे।

9) किसी एक भाषाई सॉफ़्टवेयर के आधार पर क्या हम अन्य इंडिक भाषाओं में ऐसे सॉफ़्टवेयरों की कल्पना कर सकते हैं?

जी हाँ, विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं का कम्प्यूटर सॉफ़्टवेयर के माध्यम से एक दूसरे में बेहतरीन तालमेल बिठाया जा सकता है। 'भाषा-सेतु' प्रोजेक्ट विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं को एक दूसरे से जोड़ने में नये आयाम प्रदान करेगा। मेरे इस प्रोजेक्ट का मुख्य उद्देश्य ही विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं को एक ही प्लेटफार्म पर लाकर एक दूसरे से जोड़ना है। और ग्रामीण भारत में कम्प्यूटर का उपयोग व सूचना प्रौद्योगिकी के विकास को बढ़ावा देना है।

10) आपने अपने सपने का कितना हिस्सा आज तक पा लिया है और आपके लिए मंजिल कितनी दूर है?

'भाषा-सेतु' प्रोजेक्ट के तहत हिंदी सॉफ़्टवेयर का निर्माण कार्य लगभग पूरा किया जा चुका है। अब मैं इन हिंदी सॉफ़्टवेयर को लॉन्च करने हेतु एक उचित प्लेटफार्म की तलाश में हूँ। जहाँ से यह हमारे देश के प्रत्येक हिंदी प्रेमी कम्प्यूटर उपयोक्ता तक पहुँच सके। इसी सिलसिले में पिछले साल अपने हिंदी सॉफ़्टवेयर का प्रदर्शन भारत सरकार के सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय नई दिल्ली में किया था। वहाँ पर मौजूद विभिन्न वैज्ञानिकों व इंजीनियरों ने मेरे कार्य की प्रशंसा करते हुए इन सॉफ़्टवेयर के परीक्षण संस्करणों को टीडीआइएल वेबसाइट पर जारी किये। इससे मुझे देश व विदेश से कई लोगों से अच्छी प्रतिक्रियाएँ व सुझाव मिले और आगे अपने कार्य को जारी रखते हुए और आगे बढ़ाया। और अब यह लॉन्च होने के इंतजार में है। आज हमारा देश दुनिया की सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र व सॉफ़्टवेयर के विकास में अग्रणी भूमिका में है। मेरी अपनी पूरी कोशिश यही है कि यह हिंदी सॉफ़्टवेयर जल्द से जल्द हमारे देश के ग्रामीण लोगों तक पहुँच कर उन्हें इस सूचना प्रौद्योगिकी के क्रांतिकारी दौर में इसका लाभ पहुँचा सके। वर्तमान में 'भाषा-सेतु' प्रोजेक्ट के तहत फिलहाल संपूर्ण पृष्ठ अनुवाद हेतु प्रोग्राम को बनाने में लगा हुआ हूँ। और इस कार्य में कुछ हद तक सफल भी हुआ हूँ। बस अंग्रेज़ी व्याकरण दृष्टि से जटिल वाक्यों का अनुवाद करने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। पर उम्मीद है इसे आने वाले समय में पूरा करने में सफल रहूँगा। आगे मैं अपने उक्त हिंदी सॉफ़्टवेयर को अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में विकसित करने की योजना में हूँ। पर इसके लिए मुझे उक्त क्षेत्रीय भाषाओं के जानकार व्यक्तियों की आवश्यकता है, अगर इस सिलसिले में कोई भी व्यक्ति मेरी सहायता करना चाहें तो मैं उनका आभारी रहूँगा।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------


धन्यवाद

संपर्कः
जगदीप डांगी
वार्ड नं. 2,
को-ऑपरेटिव बैंक के पीछे,
स्टेशन क्षेत्र, गंज बसौदा,
जिला विदिशा (मध्यप्रदेश) भारत.
पिन- 464221
दूरभाष: घर. (07594) 222457 मोबाइल. 09826343498
ई-मेल: dangijs@yahoo.com,gjagdeep@sancharnet.in


(माइक्रोसॉफ़्ट भाषा इंडिया में प्रकाशित मूल अंग्रेज़ी साक्षात्कार का हिन्दी रूपांतर. हिन्दी रूपांतर - सौजन्य जगदीप डांगी)

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget