संदेश

April, 2005 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

असुविधा के लिए खेद है...

परिवर्तन का दूसरा नाम जिंदगी है...
*-*-*
ब्लॉगर के इस ब्लॉग को नया होस्ट भाई ईस्वामी की महती कृपा से मिला है, जो थोड़ा सा तेज़ तो है ही, ज्यादा सुविधाओं युक्त वर्ड प्रेस पर भी आधारित है. वहाँ यह नए रूप-रंग और नाम से अवतरित हुआ है. पर मूल स्वरूप लगभग यही रहेगा. आपको थोड़ी सी असुविधा तो होगी, जिसके लिए मैं माफ़ी चाहता हूँ, परंतु गुज़ारिश है कि आप अपने पसंदीदा / बुकमार्क / पुस्तचिह्न को इस नई कड़ी पर बदल लें. हालाकि यह वर्तमान ब्लॉग एक अभिलेखागार के रूप में तो मौज़ूद रहेगा ही, और महीने के अंत में यत्र-तत्र छपी मेरी समस्त रचनाएँ यहाँ अवतरित होंगीं.

कोशिश रहेगी नियमित लेखन की, महीने में कम से कम 20-25 चिट्ठे, इस साल –(2005) के पूरे होते तक.

तो, प्रतिदिन पढ़ते रहिए : छींटे और बौछारें – टेढ़ी दुनिया पर तिरछी नज़र

धन्यवाद.

मलाई चाटने का आपको भी निमंत्रण - और कोई अप्रैल फूल नहीं!

चित्र
ये देश मलाईदार!

*-*-*
सदियों पहले भारत, सोने की चिड़िया कहलाता था. जब वास्को डि गामा, भारत के लिए समुद्री रास्ता ढूंढ कर वापस पुर्तगाल पहुँचा था तो पुर्तगाल में महीनों तक राष्ट्रीय जश्न मनाया गया था- सिर्फ इसलिए कि अमीर-सोने की चिड़िया – भारत - से व्यापार-व्यवसाय का एक नया, आसान रास्ता खुला जिससे पुर्तगालियों का जीवन स्तर ऊँचा उठ जाएगा.

तब से, लगता है, यह जश्न जारी है. पुर्तगालियों के बाद अंग्रेजों ने जश्न मनाए और उसके बाद से मलाईदार विभाग वाले नेता-अफ़सरों द्वारा जश्न मनाए जाने का दौर निरंतर जारी है.

सोने की यह चिड़िया आज लुट-पिट कर भंगार हो चुकी है, परंतु उसमें से भी मलाई चाटने का होड़ जारी है.
*-*-*-*
व्यंज़ल
*/*/*
सभी को चाहिए अनुभाग मलाईदार
कुर्सी टूटी फूटी हो पर हो मलाईदार

अब तो जीवन के बदल गए सब फंडे
कपड़ा चाहे फटा हो खाइए मलाईदार

अपना खाना भले हज़म नहीं होता हो
दूसरी थाली सब को लगती मलाईदार

जारी है सात पुश्तों के मोक्ष का प्रयास
कभी तो मिलेगा कोई विभाग मलाईदार

जब संत बना रवि तो चीज़ें हुईं उलटी
भूखे को भगाते अब स्वागत मलाईदार

*-*-*
एक माइक्रॉन मुस्कान:
एक बच्चा अपनी माँ को सफ़ाई देता हुआ- “उस लड़…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें