मंगलवार, 29 मार्च 2005

पुष्पों की रंगपंचमी -

प्रकृति की होली (2)
*-*-*
रंगों के त्यौहार होली पर मालवा अंचल – इन्दौर के आसपास का इलाक़ा जरा ज्यादा ही रंगीन हो जाता है. होली के पाँच दिन बाद रंगपंचमी का त्यौहार मनाया जाता है जिसमें फिर से एक बार रंगों से एक दूसरे को डुबोया जाता है. कहीं कहीं ‘गेर’ निकलती है जो एक प्रकार का बैंड-बाजों-नाच-गानों युक्त जुलूस होता है जिसमें नगर निगम के फ़ायर फ़ाइटरों में रंगीन पानी भर कर जुलूस के तमाम रास्ते भर लोगों पर रंग डाला जाता है. जुलूस में हर धर्म के, हर राजनीतिक पार्टी के लोग शामिल होते हैं, प्राय: महापौर (मेयर) ही जुलूस का नेतृत्व करता है.

प्रकृति भी इस समय जम कर होली मनाती है. मेरे घर आँगन के एक गमले में खिले ये पुष्प भी होली और रंग पंचमी की शुभकामनाएँ देते प्रतीत होते हैं....



इस चित्र को पूरे आकार में यहाँ देखें

2 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. Bhopal / Indore ki holi yaad kara di aapne Ravi bhai. Kaal to main sapne main hi rang khela, gujiya khai aur thodi se bhaang bhi pee li thandai main daal ke.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रवि भाई, कुछ मालवी आयोजन जैसे रंगपंचमी की गेरें और गणेश चतुर्थी की झांकियाँ बचपन की कई यादें ताजा कर देती हैं. आपने गेरों का जिक्र निकाल कर भावुक कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---