लंबित है मेरा देश...

ये देश लंबित है…
*-*-*

2 लाख फ़ाइलें निपटारे के लिए वर्षों से लंबित... और वह भी मंत्रालय में जहाँ शासकीय निर्णय होते हैं... देश, प्रांत और समाज के विकास के लिए. फिर अन्य सरकारी विभागों की बात तो छोड़ ही दें.

दरअसल सारा सरकारी कार्यालयीन तंत्र ही जंग खाया हुआ है. मैंने भी 20 वर्ष सरकारी सेवा में गुजारे हैं. सरकारी ऑफ़िसों की स्थिति सचमुच शोचनीय है और कोई भी बदलना नहीं चाहता. धूल-खाती, सड़ती हुई फ़ाइलों के बंडलों के बीच बैठने वाले सरकारी अफसर और बाबू कार्यालयीन समय में देर से आते हैं और समय से पूर्व चले जाते हैं. कोई काग़ज़, मसलन किसी का जेनुइन आवेदन किसी कार्यालय में पहुँचता है, तो वहाँ का आवक बाबू उस पर ठप्पा लगाकर, क्रमांक व दिनांक डालकर आवक फ़ाइल में लगा देता है. उसके पश्चात् उस फ़ाइल का अंतहीन सफर शुरू हो जाता है. अगर उस फ़ाइल में संबंधित अफसर को कोई काम नहीं करना है, तो उसपर कोई टीप लिख देगा, कोई जानकारी मांग लेगा या उसे अपने ऊपर-नीचे किसी अन्य अफसर के पास निर्णय के लिए भेज देगा. यानी अपनी कोर्ट में बाल नहीं रखेगा ताकि जिम्मेवारी न ठहराई जा सके. फ़ाइलों को लंबित रखने का सारा काम बड़े ही जेनुइन तरीके से होता है. और अगर कोई बंदा किसी फ़ाइल को जल्दी से निपटाने की फ़िराक में रहता है तो सबको उसमें कुछ निहित स्वार्थ नज़र आने लगते हैं. वैसे भी आमतौर पर वही फ़ाइलें चलती हैं जिनमें वज़न होता है. शेष को तो लंबित रहना होता है. इस देश की तरह...

*-*-*
व्यंज़ल
*-*-*
क्यों हो गया मेरा देश लंबित है
सोच कर ये मन होता कंपित है

मेरी आशाओं का महल क्योंकर
अर्ध शती में हो गया खंडित है

मेहनतकशों का मुकाम नहीं और
अकर्मण्य होता महिमा मंडित है

मनीषियों के दिन लद गए कबसे
यहाँ पूजा जाता पोंगा पंडित है

मुफ़्त में आँसू बहा कर रवि यूँ
क्यों तू करता खुद को दंडित है
*-*-*

टिप्पणियाँ

  1. रवि भाई,
    मै आपसे बिल्‍कुल सहमत हु । हमारे देश मे सरकारी दफ्‍तरो की हालत वास्तव
    मे बहुत खराब है। मेरे विचार मे हमारा देश तभी सुधरेगा जब सब आफिस online
    हो जाऐगे। इन सब के पिछे सरकार का भी हाथ होता है। ागर हमारे देश की जनता
    ाच्‍छी सरकार चुनले तो आफिसो को सही होने मे समय नही लगेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप अधिकांश खबरों में अंग्रेजी कतरनें ही लगाते हैं…

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें