आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

दाल में काला?

दाल में मेंढक?
---------

दोस्तों, अपनी पिछली कुछ पोस्टिंग में मैने स्कूलों में मध्याह्न भोजन की व्यवस्था पर कुछ लेखनी चलाई थी (माफ़ कीजिएगा, कम्प्यूटर के कुंजी-पट की कुछ कुंजियाँ दबाईँ थी). उसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हैं. एक मज़ेदार घटना फ़िर हुई है. ज़रा नज़र दौड़ाएँ:



अब दाल में कुछ काला कहने के बजाए हमें दाल में कुछ मेंढक, छिपकली या कॉक्रोच कहना ज्यादा मुनासिब होगा. इस सिलसिले को आगे भी जारी रखेंगे. बस उपयुक्त खबरों का इंतजार रहेगा.

-----
ग़ज़ल
***

अर्थ तो क्या पूरे वाक्यांश बदल गए
जाने और भी क्या क्या बदल गए

गाते रहे हैं परिवर्तनों की चौपाइयाँ
बदला भी क्या ख़यालात बदल गए

मल्टीप्लेक्सों के बीच जूझती झुग्गियाँ
नए दौर के तो सवालात बदल गए

देखे तो थे सपने बहुत हसीन मगर
क्या करें अब तो हालात बदल गए

कब तक फूंकेगा बेसुरी बांसुरी रवि
तेरे साथ के सभी साथी बदल गए

*-*-*-*

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें