शुक्रवार, 10 सितंबर 2004

कुत्ते मैं तेरा...

कुत्ते मैं तेरा ख़ून पी जाऊँगा...
--------------------

यह कोई फ़िल्मी डायलॉग नहीं है जो धर्मेंद्र अजीत को स्क्रीन पर देता है. यह तो आज के राजनीतिज्ञों की डिफ़ॉल्ट भाषा बनती जा रही है.



कुछ नमूने आपके लिए प्रस्तुत हैं-

।। मनमोहन सिंह शिखंडी हैं - यशवंत सिन्हा

।। अमर सिंह दलाल है - लालू यादव

।। लालू मसख़रा है - अमर सिंह

।। बीजेपी अजगर है और उसके साझा दल मेंढक और चूहे - लालू यादव

।। अटल बिहारी धृतराष्ट्र है - काँग्रेस का एक नेता

।। आडवाणी अंतर्राष्ट्रीय भगोड़ा है - लालू यादव

इनकी भाषाओं पर अब हम हँसें, रोएँ, अपना सिर नोचें या फ़िर अपन भी इनकी गाली मंडली में शामिल हो जाएँ?

*+*+*
ग़ज़ल
---

राजनीति अब शिखंडी हो गई
सियासती सोच घमंडी हो गई

सोचा था कि बदलेंगे हालात
ये क़ौम और पाखंडी हो गई

भरोसा और नाज हो किस पे
व्यवहार सब द्विखंडी हो गई

अब पुरूषार्थ का क्या हो रवि
राजशाही सारी शिखंडी हो गई

*+*+*

1 blogger-facebook:

  1. सहारनपुर के गीतकार रामेंन्द्र त्रिपाठी इसीलिये गाते हैं:-
    राजनीति की मंडी बडी नसीली है,
    इस मंडी ने सारी मदिरा पी ली है.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------