हिन्दी शब्दकोश सॉफ़्टवेयर

सॉफ़्टवेयर समीक्षाः
**********
कंप्यूटर आधारित अँग्रेज़ी हिन्दी शब्दकोश
------------------------------
लिनक्स के हिन्दी अनुवाद कार्य के दौरान अँग्रेज़ी शब्दों के उपयुक्त अर्थ तथा उतने ही उपयुक्त हिन्दी शब्दों को ढूंढने में खासी मुश्किलें आती रहीं. प्रायः अँग्रेज़ी शब्दों के अर्थ मोटे तथा भारी भरकम शब्दकोशों के पन्ने पलटने के उपरांत भी उचित प्रकार से मिल नहीं पाते थे चूंकि भिन्न शब्दकोशों का दायरा भिन्न होता है. ऐसे में, जब आप कंप्यूटर पर कार्य कर रहे होते हैं तो कंप्यूटर पर ही संस्थापित या ऑनलाइन क़िस्म के शब्दकोश आपको खासा राहत पहुँचाते हैं. यहाँ पर आपको भारी भरकम शब्दकोशों के पन्ने पलट कर शब्द-दर-शब्द ढूंढने की आवश्यकता नहीं होती. बस, दिए गए इनपुट फ़ील्ड में वांछित अँग्रेज़ी का शब्द भरा और आपके पास उसका हिन्दी शब्द, अन्य समानार्थी शब्दों सहित हाजिर. कंप्यूटर आधारित शब्दकोश न सिर्फ उपयोग में आसान होते हैं, बल्कि आपके कार्यों में तीव्रता भी लाते हैं. कुछ अच्छे, ऑनलाइन शब्दकोश इंटरनेट पर भी उपलब्ध हैं, पर इस हेतु आपको २४x७ ऑनलाइन होना पड़ेगा, जो प्रायः बहुतों को हासिल नहीं होता है. ऐसे में विकल्प एक ही बचता है- कंप्यूटर में संस्थापन योग्य अँग्रेज़ी-हिन्दी सॉफ़्टवेयर

कुछ समय पूर्व तक अँग्रेज़ी - हिन्दी शब्दकोश सॉफ़्टवेयर के रूप में उपलब्ध नहीं था, और, एकाध थे भी तो बगी होने के कारण वे उतने अच्छे और लोकप्रिय नहीं थे. परिस्थितियों में अब सुधार आया है और अब आपको आधा दर्जन अँग्रेज़ी - हिन्दी शब्दकोश सॉफ़्टवेयर मिल जाएँगे. पर इनमें से अधिकांश, जाहिर है, विंडोज़ के लिए ही हैं तथा इनमें से कुछेक लिनक्स में वाइन या क्रास-ओवर ऑफ़िस के द्वारा चल सकते हैं. प्रस्तुत है तीन भिन्न क़िस्म के अँग्रेजी-हिन्दी शब्दकोश सॉफ़्टवेयर की समीक्षाः

शिप्रा कंप्यूलॉज़िक का अँग्रेज़ी-हिंदी शब्दकोश
---------------------------
यह शब्दकोश सॉफ़्टवेयर काफ़ी समय से प्रचलन में है. इसका सरल इंटरफेस इसे उपयोग में आसान बनाता है. इसमें कई छोटे छोटे विंडो हैं, जिनमे से एक इनपुट फ़ील्ड के लिए है, दूसरा एक जैसे अँग्रेज़ी शब्दों के लिए है तथा तीसरा संपूर्ण उपलब्ध शब्दावली के लिए है, जिसमें आप अकारादिक्रम से शब्दों को ढूंढ सकते हैं. जैसे जैसे आप अँग्रेजी शब्द के हिज्जे इसके इनपुट फ़ील्ड में भरते जाते हैं, यह गतिशील रूप में उससे मिलते जुलते आगे के हिज्जों वाले शब्दों को खुद ही नीचे के एक विंडो में छांट कर रखता है. अब यदि इसमें आपका वांछित शब्द उपलब्ध है, तो आपको पूरा हिज्जा भरने की ज़रूरत नहीं है. बस उस शब्द पर क्लिक करने से उसका अर्थ सबसे नीचे के विंडो में उपलब्ध हो जाता है. हालाँकि इसका शब्द भंडार उतना समृद्ध नहीं है, परंतु यह आपकी दैनिक ज़रूरतों को पूरा करने में समर्थ है. यह परीक्षित किए गए अन्य सभी शब्दकोशों से थोड़ा सा धीमा चलता है. इस सॉफ़्टवेयर के बारे में और अधिक जानकारी हेतु http://www.computantra.com पर जा सकते हैं या shipracomp@rediffmail.com से ईमेल से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

टर्टल का हिन्दी अँग्रेज़ी शब्दकोश संस्करण 1
--------------------------------------------
यह सॉफ़्टवेयर शब्दकोश अपने रूप विन्यास में शिप्रा कंप्यूलाज़िक के शब्दकोश का परिवर्धित रूप लगता है. चलने में यह थोड़ा सा तेज भी है. इसमें आपके पिछले, छांटे गए शब्दों के इतिहास को याद रखने की क्षमता भी है. इसका शब्दकोश भंडार भी ज्यादा समृद्ध है. इसका मदद तंत्र बहुत मज़ेदार है. जैसे ही आप हेल्प बटन पर क्लिक करते हैं, एक चित्रमय विंडो प्रकट होता है, जिसमें एक ही चित्र में वाक्यांशों तथा चिह्नों के माध्यम से इस सॉफ़्टवेयर के उपयोग के बारे में बताया गया है. हालाकि इसका इस्तेमाल आसान है, परंतु इसका मदद तंत्र लाजवाब है. शिप्रा कंप्यूलॉज़िक के शब्दकोश की तरह, इसमें भी, आपको सिर्फ अँग्रेजी शब्दों के हिन्दी अर्थ ही उपलब्ध हो पाते हैं, अन्य जानकारी यथा अँग्रेज़ी शब्दों के हिज्जे-उच्चारण इत्यादि नहीं, जो किसी शब्दकोश के आवश्यक अंग होते हैं. पब्लिक सॉफ़्ट द्वारा प्रस्तुत इस शब्दकोश के बारे में और अधिक जानकारी psl@nde.vsnl.net.in को ईमेल कर प्राप्त की जा सकती है.

बीपीबी अँग्रेज़ी हिन्दी टाकिंग डिक्शनरी
--------------------------------------
यह शब्दकोश उच्च गुणवत्ता युक्त तथा ढेर सारी विशेषताओं से युक्त है. परंतु इसका एक ही ऋणात्मक पहलू है वह यह है कि यह मेक्रोमीडिया फ़्लैश / शॉकवेव पर आधारित है जिसके कारण यह पूरे स्क्रीन पर चलता है. अतः जब यह चलता है तो आपके विंडो पर इसका एकाधिकार हो जाता है, जो प्रायः अटपटा और उपयोग में अड़चनें पैदा करता है. चलाने पर हर बार एक प्रारंभिक वीडियो चलाता है, जो अनावश्यक है. इसका इंटरफ़ेस भरा-भरा सा है, उसकी भी आवश्यकता नहीं थी तथा उसे डिफ़ॉल्ट रूप से विंडो में ही चलना चाहिए, जबकि यह पूरे स्क्रीन पर ही चलता है, ऊपर से विंडो में चलाने का कोई विकल्प इसमें नहीं है. यह पुराने, कम गति वाले कंप्यूटरों पर चलने में समस्याएँ पैदा कर सकता है, चूंकि इसमें मल्टीमीडिया भी है. इन बातों को छोड़ दें तो इसमें ढेर सी अच्छी और उपयोगी विशेषताएँ हैं. उदाहरण के लिए, जैसे कि नाम से ही प्रतीत होता है, यह अँग्रेज़ी शब्दों के शुद्ध उच्चारण बोल कर भी बताता है, (जिसे आप बन्द कर सकते हैं) तथा लिख कर भी बताता है. अँग्रेज़ी शब्दों के हिन्दी में अर्थ तो बताता ही है, उसके अँग्रेज़ी अर्थों को भी समझाता है. कुछ आम, प्रचलित संज्ञा शब्दों के चित्र भी दिखाता है. इसका शब्दभंडार भी खासा विशाल है. परंतु फिर भी आधुनिक तकनीकी शब्दावली का अभाव इसमें भी है. कुल मिलाकर यह शब्दकोश उपयोगी तो है. और अगर मुझे इनमें से किसी एक का चुनाव करना होगा, तो मैं इसको ही चुनना चाहूँगा.


***********
हिन्दी कंप्यूटिंग जगत से ख़बरों की कुछ कतरनें
---------------------------------
।। केडीई 3.2 हिन्दी का परिवर्धित, परिष्कृत संस्करण जारीः सराय, दिल्ली के प्रायोजन में केडीई 3.2 हिन्दी का रूप दर्जन भर से ज्यादा लोगों की टोली ने सजाया-संवारा और अशुद्धियों को झाड़ा – पोंछा. नतीजतन, केडीई 3.2 हिन्दी अब अधिक आकर्षक, स्वीकार्य, निश्चित ही सरल, सुखद रूप में जारी किया जा चुका है.

।। माई जावा सर्वर पर हिन्दी ब्लॉग के संकलनः माई जावा सर्वर पर देबाशीष (http://nuktachini.blogspot.com ) ने बड़ी मेहनत से एक साइट तैयार किया है, जिसमें हिन्दी के विभिन्न लोकप्रिय ब्लॉग साइटों के संकलन, समीक्षाएँ इत्यादि तो उपलब्ध होते ही हैं, इसका जावास्क्रिप्ट वेब के ताज़ातरीन हिन्दी ब्लॉग्स को भी गतिमय रूप में दिखाता है. यहाँ पर आरएसएस फ़ीड से लेकर हिन्दी से संबंधित अन्य साइटों की उपयोगी कड़ियाँ भी आपको मिलती हैं. बानगी देखें http://www.myjavaserver.com/~hindi

।। रेडहैट का हिन्दी विभाग सक्रियः रेडहैट में कुछ समय से हिन्दी अनुवाद का कार्य चल रहा था, जो प्रायः रेडहैट कॉन्फ़िग फ़ाइलों तथा उनके अन्य दस्तावेज़ों और सहायक अनुप्रयोगों के लिए थे. अब एक अलग इकाई इसका काम देख रही है और इस काम में तेज़ी लाई गई है. उम्मीद है कि हमें शीघ्र ही रेडहैट का हिन्दी संस्करण उपयोग हेतु मिलेगा. मगर, रेडहैट को विशुद्ध हिन्दी-वाद से पूरी तरह बचना चाहिए. नहीं तो होगा यह कि मेनू में जब यह लिखा प्रकट होगाः “तंत्र प्रोफाइल में संचित संस्करण का अध्यारोहण करें” या कि “अधिष्ठापन के बाद, डिस्क पर द्विआधारी संकुलों को रखें” (संदर्भः रेडहेट जाल क्रम विन्यास, अगर आपमें से किसी पाठक को इन पंक्तियों का अर्थ माफ करें—मतलब समझ आया हो तो कृपया बताएँ) तब बेचारे मुझ जैसे आम कंप्यूटर उपयोक्ता को हिन्दी लिनक्स के उचित प्रकार से उपयोग करने से पहले हिन्दी की पढ़ाई में एम.ए. करना चाहिए होगा.

---
एक माइक्रॉन मुस्कान
***
क्या आपको पता है कि प्रोग्रामरों की एक टोली, सर्वज्ञ, सर्वज्ञानी लोगों के लिए एक ऐसा शब्दकोश सॉफ़्टवेयर विकसित करने की फ़िराक में है जिसके सभी पृष्ठ कोरे होंगे !

*+*+*

एक टिप्पणी भेजें

Raviji, I am glad to notice that your blog is now gaining the real shape and slowly graduating to being a "Blogzine" (BTW, what could the right Hindi word for Blogzine?). Thanks for mentioning CV (Chittha Vishwa).

A small correction: the CV Aggregator does not use Javascript, rather it is a Java based sophisticated aggregator that parses the RSS Feed from the BlogDigger Group blog and presents the results using a Java Server Page (JSP). Interestingly, the Bloggger Profiles/Blog Review sections in CV are also JSP pages that read the data from Property files that store the data in text form.

Probably while mentioning Javascript you had in mind the small script I wrote through which users could display/read the latest headlines from Hindi blogdom. This too is generated using XML (Blogdigger RSS Feed) parsing and latter display using the Javascript dynamically generated by a JSP. I mentioned it once at http://nuktachini.blogspot.com/2004/04/blog-post_28.html

Thanks :)

मै अभिलाषा करता हूँ कि यहाँ भविष्य में एक सम्पूर्ण हिन्दी का शब्दकोश उपलब्ध हो सकेगा।
अभिनन्दन,
प्राणित।

बेनामी

“We cannot live for ourselves alone. Our lives are connected by a thousand invisible threads, and along these sympathetic fibers, our actions run as causes and return to us as results.”
- Herman Melville

RSS is the way of the Future...
ford rss torinos

सतपाल सिंह

हमें यह समझ लेना चाहिए की बोलचाल की भाषा में जिन शब्दों का हम प्रयोग करते है वही आज की भाषा है न की पुरातन समय में बोली या लिखी जाने वाली भाषा इसलिए शुद्ध और विशुद्ध भाषा का विचार अब भूल जाना चाहिए , भाषा वही सही है जिसे हम बोल और समझ सके इसलिए हमारा प्रयास यही होना चाहिए की हिंदी में जब भी कोई तकनीकी किताब लिखी जाए या किसी Operating System या सॉफ्टवेर में हिंदी का प्रयोग करना हो तो तब यदि कुछ अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग करना पड़े तो शुद्ध और विशुद्ध भाषा का विचार भूलकर उन्ही शब्दों का प्रयोग करे जो आज के नवयुवक समझ सके , हमे यह नही भूलना चाहिए की आने वाली पीढ़ी, उन शब्दों को नही समझ पायेगे जिन्हें समझने में आज हमे मुश्किल हो रही हो .
हमारा प्रयत्न होना चाहिए की लोग तकनीकी को अच्छी तरह समझ सके और आगे बढे न कि उन किताबो से दूर भागे .
भाषा वही जीवित रहती है जो सहज और सरल हो , आम आदमी उसे सरलता से समझ ले . जिस तरह अंग्रेजी भाषा में कई हिंदी शब्द शामिल किए गए है यदि हम कुछ अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल करे तो कोई कहर नही ढह जाएगा ,

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget