आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

ओलंपिक में भारत की नगण्य संभावना

ओलंपिक में नगण्य भारतीय संभावनाएँ
कुछ दिनों पश्चात एथेंस में ओलंपिक खेलों का आयोजन होने जा रहा है. लगता है कि हम भारतीय इस कहावत को पूरी तरह चरितार्थ करने जा रहे हैं कि ओलंपिक खेलों में जीतना या पदक प्राप्त करना महत्वपूर्ण नहीं बल्कि भाग लेना ही महत्वपूर्ण है. भारत के खाते में इस ओलंपिक में भी शायद ही कोई भूला भटका पदक हाथ आ जाए, वरना तो कोई उम्मीद ही नहीं है.
ऐसा नहीं है कि हमारे यहाँ खिलाड़ी नहीं हैं. खिलाड़ी तो हैं, पर व्यवस्थाएँ ऐसी हैं कि खेलों को कोई प्रोत्साहन ही नहीं है. क्रिकेट (जहाँ फ़िक्सिंग से लेकर चयन समितियों को घूसखोरी तथा सट्टा तक की संभावनाएँ हैं) के अलावा अक्खा इंडिया में किसी भी खेल में कुछ नहीं रखा है. अंजू जॉर्ज जो भारतीय दल का नेतृत्व करेंगी, और जिनसे किसी पदक की उम्मीद है, वे भी अपनी स्वयं की लगन और मेहनत के बल पर वहाँ पहुँची हैं, और जिसमें भारतीय व्यवस्था का कोई योगदान नहीं है. खेल भी यहाँ क्षेत्रीयता और आरक्षण की भेंट चढ़ गए हैं.

ग़ज़ल

मंज़िल पाने की संभावना नगण्य हो गई
व्यवस्था में जनता और अकर्मण्य हो गई

जाने कौन सा घुन लग गया भारत तुझे
सत्यनिष्ठा ही सबसे पहले विपण्य हो गई

इतराए फ़िरते रहिए अपने सुविचारों पर
अब तो नकारात्मक सोच अग्रगण्य हो गई

हीर-रांझों के इस देश को क्या हुआ कि
दीवानों की संख्या एकदम नगण्य हो गई

अब तक तो तेरे कर्मों को थीं लानतें रवि
क्या होगा अब जो सोच अकर्मण्य हो गई
*+*+*+

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें