टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

ऑर्ट-रेज़् एक बढ़िया पेंट प्रोग्राम

---
सॉफ़्टवेय़र समीक्षाः
---
ऑर्ट-रेज़् (ArtRage): सुंदर रीयलिस्टिक कलाकृतियाँ सृजित करने का उच्चकोटि का मुक्त औज़ार
---
दोस्तों, मैंने  अब तक बहुत सारे सॉफ़्टवेय़र देखे और जाँचें हैं,  जो कि कम्प्यूटर पर पेंटिग की कलाकृतियाँ बनाने के काम आते हैं. एडोब फ़ोटोशॉप से लेकर पेंटशॉप प्रो तक तथा विंडोज़ के सामान्य पेंट प्रोग्राम से लेकर लिनक्स के ग़िम्प तक. कभी कोई अच्छा लगा तो कभी कोई. किसी की कुछ ख़ूबियाँ पसन्द आईं  तो किसी की कुछ. पर अगर सिर्फ ठेठ कलाकृतियाँ बनाने का ही काम हो, वह भी किसी ठेठ कैनवस पर, तो आपको तो कम्प्यूटर टर्मिनल को छोड़कर वास्तविक पेंट, ब्रश और कैनवस की शरण में जाना ही  होगा.
पर शायद मैं ग़लत था. लगता है कम्प्यूटर प्रोग्रामर सभी असंभव चीज़ों को  संभव बनाने में जुटे हुए हैं. जब मैंने आर्ट-रेज़् नामक एक मुफ़्त पेंट प्रोग्राम को चलाकर देखा, तो लगा कि मेरे कम्प्यूटर स्क्रीन पर तो साक्षात कैनवस का अवतरण हो गया है. अगर आपको यक़ीन न हो तो, हाथ कंगन को आरसी क्या? इस प्रोग्राम के वेब साइट http://www.ambientdesign.com पर जाइए, यह मुफ़्त प्रोग्राम डाउनलोड करिए, और इसे अपने विंडोज़ में संस्थापित करिए और अपने माउस की सहायता से इस प्रोग्राम का एकाध ब्रुश चलाकर देखिए.
इस प्रोग्राम की और भी ख़ूबियाँ हैं, उदाहरण के लिएः इसमें कलाकृति तैयार करने के लिए आप कई तरह के कैनवस का चुनाव कर सकते हैं. कलाकृति बनाने के तमाम औज़ार मसलन पेंसिल, क्रेयान, चाक, आयल पेंट ब्रश, जल रंग ब्रश, फ़ेल्ट पेन तथा पैलेट नाइफ़ तक इसमें मौज़ूद हैं, और स्क्रीन पर असली काम का सा आभास देते हैं. इसमें आपको ट्रेसिंग पेपर लोड करने की भी सुविधा दी गई है, जिसके द्वारा आप पृष्ठ-भूमि में कोई छवि लोड कर उसकी अनुकृति तैयार कर सकते हैं. यहाँ  मज़ेदार बात यह है कि अनुकृति के अनुसार आपके पेंट के हाथ स्वचालित चलते हैं, और मेरे जैसा नौसिख़िया भी पिकॉसो की तरह पेंटिंग देखते देखते तैयार कर सकता है.
यह प्रोग्राम अपने द्वारा बनाए गए पेंटिंग्स को एक नए फ़ॉर्मेंट *.ptg में सहेजता है जो कि इसके कार्य के अनुरूप है. हालाकि आप इसे अन्य फ़ॉर्मेंट में निर्यात भी कर सकते हैं. इसके साथ एक बड़ी खामी यह है कि यह वर्तमान में सिर्फ विंडोज़ वातावरण हेतु उपलब्ध है, परंतु वर्चुअल मशीन्स तथा वाइन इत्यादि के सहयोग से लिनक्स में भी आराम से चल सकेगा ऐसा प्रतीत होता है, चूंकि  यह अत्यंत छोटा सा औज़ार है, जो बहुत छोटी लाइब्रेरी का उपयोग करता है.
इसका चित्रमय वातावरण भी अत्यंत आसान और बिल्कुल नए तरह का है, जो आपको कंप्यूटर के इत़र किसी नई दुनिया में होने का आभास देता है.
विषय:

एक टिप्पणी भेजें

देखते हैं…कहीं हम भी चित्रकार बन जाएँ!

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget